लंदनब्रिटेन में पाकिस्तानी मूल के पुरुषों के लिए पाकिस्तान से ब्याह कर लायी गईं वधुओं में से कई को वापस पाकिस्तान छोड़ दिया जाता है। इन महिलाओं में से कई को तो उनके बच्चों से भी अलग कर दिया जाता है। ब्रिटेन की मीडिया की खबरों में यह जानकारी दी गई है।

समाचार पत्र ‘द संडे टाइम्स' की खबर में बताया गया कि ये महिलाएं पाकिस्तान में विवाह के बाद ब्रिटेन लायी जाती हैं और वे अपने पति और ससुराल वालों के लिए बच्चों का पालन पोषण करती हैं। इन महिलाओं को कथित रूप से छुट्टी मनाने या किसी बीमार रिश्तेदार को देखने के नाम पर पाकिस्तान ले जाया जाता है। उसके बाद उन्हें अचानक तलाक दे दिया जाता है और उन्हें उनके बच्चों से अलग कर दिया जाता है जो उनसे हजारों किलोमीटर दूर होते हैं। उनके बच्चों को बताया जाता है कि उनकी मां की मृत्यु हो गई है, वे मानसिक रूप से बीमार हो गई हैं या उसने उन्हें छोड़ने का निर्णय किया है।

इसे भी पढ़ें इस मामले में पाकिस्तानी प्रधानमंत्री से भी दो कदम आगे निकला यह शख्स, जानिए कैसे

विधि कंपनियों और परोपकार संस्थाओं से जुटाये गए आंकड़ों से किये अनुसंधान के अनुसार समाचारपत्र का अनुमान है कि 2002 से ऐसे कम से कम 1000 मामले हुए हैं जिसमें पाकिस्तानी पत्नियों को छोड़ दिया गया है। इसमें पाया गया कि ब्रिटेन का गृह विभाग ऐसी महिलाओं की देश में फिर से प्रवेश को बाधित कर देता है जो देश में फिर से प्रवेश का प्रयास करते हैं। इनमें से अधिकतर जीवनसाथी वीजा पर देश में आयी थीं। इन महिलाओं के पति सामान्य तौर पर आव्रजन प्राधिकारियों को सूचित कर देते हैं कि उनका विवाह टूट गया है।