कोलंबो: श्रीलंका में ईस्टर के मौके पर हुए आतंकवादी हमले के बाद से भड़की साम्प्रदायिक हिंसा के बीच बहुसंख्यक सिंहली समुदाय के लोगों ने उत्तर-पश्चिमी प्रांत में दुकानों और वाहनों को आग लगा दी जिससे एक मुस्लिम व्यक्ति की मौत हो गई। कैबिनेट मंत्री एवं श्रीलंका मुस्लिम कांग्रेस के नेता रौफ हकीम ने मंगलवार को यह जानकारी दी।

यह भी पढ़ें:

भाजपा शासित राज्यों में कोई ‘सांप्रदायिक दंगा’ नहीं : शाह

उन्होंने बताया कि सरकार ने रात भर लगे कर्फ्यू में नार्थ वेस्टर्न प्रांत को छोड़कर देश भर में मंगलवार को ढील दे दी। प्रांत में सोमवार को भीड़ के हमले में एक मुस्लिम व्यक्ति की मौत हो गई थी। श्रीलंका पुलिस ने मुस्लिम विरोधी हिंसा भड़कने पर सोमवार को देश में कर्फ्यू लगा दिया था। सिंहली समुदाय के लोगों ने मुसलमानों की दुकानों एवं वाहनों को आग लगा दी और लोगों ने मकानों एवं मस्जिदों में भी तोड़ फोड़ की। श्रीलंका सरकार ने हिंसक घटनाओं के बाद सोशल मीडिया पर भी फिर से प्रतिबंध लगा दिया है।

वहीं भारत में भी इन दंगों का हवाला देकर भावनाएं भड़काने की कोशिश हो सकती है। खासकर तमिलनाडु में श्रीलंकाई संस्कृति का खासा असर है। यहां तक की खुराफाती तत्व श्रीलंका से जुड़ी हिंसक वारदात को भारत का बताकर हिंसा फैलाने की कोशिश कर सकते हैं। इसको लेकर भारत सरकार ने भी एजेंसियों और लोगों से सतर्कता बरतने की सलाह दी है।