मौसम के बदलाव के साथ स्वास्थ्य संबंधी अनेक समस्याएं पैदा हो जाती हैं। अब बारिश का मौसम खत्म होने को है और जल्द ही जाड़े का मौसम आने वाला है। आमतौर पर मौसम बदलने पर लोग सर्दी-जुखाम, बुखार, त्वचा संबंधी समस्याओं के शिकार बनते हैं।

परंतु कोई भी मौसम बदलने से पहले ही हमें एहतिहाती कदम के तहत हमें जरूरी योजना बना लेना चाहिए। आइए हम आपको इस बार जाड़े के मौसम में होने वाली स्वास्थ्य संबंधी बीमारियों से बचाव की तैयारियों और हेल्थ टिप्स के बारे में बताते हैं, जो आपको जाड़े में फिट रखने में मददगार साबित होंगे।

कॉंसेप्ट फोटो
कॉंसेप्ट फोटो

सर्दियों में ठंड और आलस की वजह अकसर लोग वर्कआउट नहीं करते, लेकिन वजन ना बढ़े और आप दुनिया भर की बीमारियों से बचे रहें, इस लिये योग या जिम ज्‍वाइन करें। इस मौसम में नियमित व्यायाम करने से व्यायाम का अधिकांश लोभ मिलता है।

कॉंसेप्ट फोटो 
कॉंसेप्ट फोटो 

जाड़े के मौसम में केवल बीमारियां नहीं फैलती बल्कि सेहत भी बनाने में मददार बनता है। अधिकांश फलों की पैदावार जाड़े के मौसम में होती है और इस मौसम में लोगों की पाचन शक्ति अच्छी होती जिससे खूब भूख लगती है। इस मौसम में लोग मुख्य रूप से युवा जिम जाकर अपनी बॉडी बनाते हैं। इसी मौसम में क्रिसमस भी पड़ता है।

जाड़े में सर्दी-जुखाम होने का खतरा भी अधिक होता है। ऐसेमें अपने शरीर में रजिस्टेन्स पॉवर की क्षमता बढ़ाने के लिए अपने खाने को पौष्टिक बनाने के लिए उसमें नेचुरल एंटीऑक्सिडेंट्स शामिल करना चाहिए।

कॉंसेप्ट फोटो 
कॉंसेप्ट फोटो 

जाड़े के मौसम में पर्याप्त सोना चाहिए और ऐसा नहीं होने पर आप थका-थका महसूस करेंगे और बीमारियां होने का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए जाड़े के मौसम में खूब सोए और खुद को छोटी-मोटी बीमारियों से दूर रखें।

जाड़े के मौसम में सीजनल फ्रूट्स, वेजिटेबल्स, मेवा और दूध के प्रोडक्ट् जैसे स्वस्थ्य खाद्या पदार्थों का सेवन करना चाहिए, जबकि स्टार्चयुक्त चीनी और तले हुए चीजों से परहेज करना चाहिए। जाड़े के मौसम में सर्दी-जुखाम जैसी समस्याओं से बचने के लिए आपको लहसून का सेवन करना चाहिए।

जाड़े के मौसम में हर्बल टी आपको दिन पुर चुस्त रखने में मददगार साबित होगी। हर्बल टी के साथ अगर आप वेजिटेबल्स सूप का सेवन करेंगे तो आपके गले के दर्द आदि दूर होने के साथ ही शरीर में गर्मी बनी रहती है।

कॉंसेप्ट फोटो 
कॉंसेप्ट फोटो 

सर्दियों में भी पीने पीते रहना न भूलें। क्योंकि यह मौसम ठंडा होता और हमारी प्यास कम हो जाती है, पर्याप्त पानी पीना भूल जाना आसान होता है। लेकिन आपको सर्दियों के दौरान भी दो से तीन लीटर पानी प्रति दिन पीने का लक्ष्य बनाने की जरूरत होती है। क्योंकि हमारे शरीर को ठीक से कार्य करने के लिए इतना पानी आवश्यक होता है।

कॉंसेप्ट फोटो 
कॉंसेप्ट फोटो 

सर्दियों के मौसम में त्वचा का पूरा खयाल रखें और उसे ठीक से मोस्चुराइज़ करें। तेज गर्म पानी से न नहाएं और नहाने के बाद मौस्चुराइजिंग लोशन लगाएं। बालों का भी पूरा खयाल रखें, इन पर ऑयल मसाज करें और कंडीशन भी करें। ड्रायर का इस्तेमाल न करें।