हैदराबाद : फूल सिर्फ साज-सज्जा या पूजन के लिए ही नहीं बल्कि सेहत के लिए भी इस्तेमाल किए जा सकते हैं। कई फूल आयुर्वेदिक गुणों के कारण काफी पसंद किये जाते हैं। अगर आपके घरों में गेंदे, गुलाब के फूल हैं तो आपको इनका प्रयोग केवल सजाने के लिए ही नहीं इसके औषधिय गुणों के फायदे भी उठाएं। फोड़े फुंसी से लेकर स्किन की बीमारियों में इनके रस बेहद काम आते हैं। कई बार चोट और कई अन्य बीमारियों में भी ये बेहद कारगर होते हैं।

कई बीमारियों का रामबाण इलाज हैं ये तीन फूल, ऐसे पाएं लाभ

- अगर आपको घाव हो जाए या कहीं चोट लग जाए तो आपको गेंदे के फूल का रस उस जगह लगाना चाहिए। ये एंटीसेप्टिक होता है और घाव भरने में करागर होता है। फोड़े-फुंसी हो जाए तो गेंदे कि पत्तियों को पीस कर वहां लगा दें।

- एग्जिमा, दाग-धब्बे के साथ ही अगर आग से जल जाएं तो आप इस पर गेंदे और तुलसी की पत्तियों को पीस कर लगाएं। लगातार लगाने से ये समस्याएं दूर हो जाएंगी।

- गुलाब स्कर्वी के उपचार और गुर्दे से जुड़ी समस्याओं पर बेहद कारगर होता है। गुलाब का फूल विटामिन सी की कमी को पूरा करने में भी सहायक है। इसे आप किसी भी रूप में लें ये आपके शरीर को डिटॉक्स भी करता है।

- गुलाब की कलियों का अर्क यूरिन से जुड़ी बीमारियों को दूर करता है। साथ ही पेट की जलन को शांत भी करता है।

- गुलाब की पंखुड़ियां को पीस कर अगर पीएं या शरीर पर लगा लें तो गर्मी के कारण हो रहे सिर दर्द और बुखार को ठीक किया जा सकता है। साथ ही ये झाइयों को दूर करने में भी कारगर है।

- कमल के बीज को गर्म पानी में डालें और जब ये फूल जाए तो इसमें काला नमक और चायपत्ती डाल कर उबाल लें। इसें आप दिन में कई बार पीएं।

- कमल की पत्तियों को पीस कर जली या झुलसी त्वचा पर लगाने से उसकी जलन खत्म होने लगती है। साथ ही इससे जले का निशान भी धीरे-धीरे जला जाता है।

- कमल कि पत्तियों को पीस कर इसका रस पीने से शरीर की वसा भी पिघलने लगती है।