न्यूयार्क : शोधकर्ताओं ने एक स्मार्टफोन आधारित रिलैक्सेशन तकनीक विकसित की है जो माइग्रेन से पीड़ित लोगों में सिरदर्द घटाती है।

रिलैक्स ए हेड एप मरीजों को प्रोग्रेसिव मसल रिलैक्सेशन (पीएमआर)- यह एक प्रकार की व्यवहार थेरेपी है, जिसमें रोगी के तनाव को कम करने के लिए अलग-अलग मांसपेशी समूहों को वैकल्पिक रूप से आराम और तनाव दिया जाता है।

शोध का निष्कर्ष पत्रिका 'नेचर डिजिटल मेडिसिन' में प्रकाशित किया गया है, माइग्रेन के इलाज के लिए एक एप की नैदानिक प्रभावशीलता का मूल्यांकन किया और एक चिकित्सक की देखरेख में मौखिक चिकित्सा जैसे मानक उपचारों के लिए एक एप को जोड़ा।

न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी के असिस्टेंट प्रोफेसर मिया मिनन ने कहा, "चिकित्सकों को माइग्रेन के लिए अपने उपचार के दृष्टिकोण पर पुनर्विचार करने की जरूरत है, स्वीकृत उपचारों में कई ऐसे हैं जो सभी तरह की जीवनशैली वालों के लिए काम नहीं करते।"

इसे भी पढ़ें :

क्या है नोमोफोबिया, जिसके तेजी से शिकार हो रहे भारतीय युवा

अध्ययन के लिए, भागीदारों को 90 दिनों तक एप का इस्तेमाल करने को कहा गया तथा सिरदर्द का रोजाना रिकार्ड रखने को कहा गया, जबकि एप ने इस बार नजर रखी कि मरीज ने कितनी देर तक और कितनी बार पीएमआर का उपयोग किया।

शोध के दौरान मरीजों में औसतन माह में 13 दिन सिरदर्द देखा गया। इनमें 39 फीसदी मरीजों में चिंताग्रस्त होने की सूचना दी, जबकि 30 फीसदी अवसाद से पीड़ित थे।