नई दिल्ली : विज्ञान जितनी तेजी से प्रगति कर रहा है, कहीं न कहीं हम प्रकृति से दूर होते जा रहे हैं, फिर चाहे वह हमारी पर्सनल लाइफ ही क्यों न हो। आज के डिजिटल युग में सेक्स के प्रति लोगों की रुचि कम होती जा रही है। जिसकी वजह गैजेट्स को माना जा रहा है। आइए एक रिपोर्ट के माध्यम से पूरी बात को समझते हैं।

दरअसल, समय के साथ अधिकांश लोग सेक्स जैसी प्राकृतिक देन से ज्यादा गैजेट्स पर फोकस करते हैं। इसके कई कारण माने जाते हैं, जिनमें थकान, लाइफ पार्टनर का शिफ्ट टाइम (ड्यूटी), एस्ट्रोजोन्स और टेस्टोस्टीरोन्स में भारी कमी जैसे बयोलॉजिकल कारण से कामइच्छा में कमी शामिल है।

विशेषज्ञों की मानें तो सेक्स में कमी की मुख्य वजह गैजेट्स को माना गया है। राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वे 2018 में यह बात सामने आई है कि 47 फीसदी पुरुष और 48 फीसदी महिलाएं चार सप्ताह में सिर्फ एक बार सेक्स करते हैं। देशभर के एक लाख सरकारी व निजी अस्पतालों में महिलाओं एवं पुरुषों से बातचीत में यह बात सामने आई है।

सर्वे में यह भी सामने आया है कि उत्तर भारत की तुलना में दक्षिण भारत में लोग कम सेक्स करते हैं। मुख्य रूप से उच्च शिक्षा प्राप्त लोगों में देखा जा रहा है कि उनकी प्राथमिकता पहले शिक्षा है, उसके बाद दूसरे कामों पर ध्यान देते हैं। रिपोर्ट के अनुसार, बीते कुछ सालों में 24 से 30 वर्ष की आयु में लोग पहली बार सेक्स करते हैं।

मशहूर सेक्सालॉजिस्ट के मुताबिक, लोगों की प्राथमिकताएं बदलती जा रही है। उनके सामने सेक्स अब काफी पीछे छूट चुका है। मनोरंजन के लिए लोगों के पास कई विकल्प है, जैसे कि वीडियो गेम्स, 3डी गेमिंग्स, स्पूक्स, सोशल मीडिया। फोन एक ऐसा गैजेट बन गया है, जिसने सभी की इच्छाएं खत्म कर दी है और सभी उसमें लगे रहते हैं। इसलिए लोग इस प्राकृतिक प्रक्रिया से दूर होते जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें :

पहली बार इंटीमेट होने के दौरान क्या सोचती हैं लड़कियां

टॉपलेस होकर सनसनी मचाने वाली श्री रेड्डी के साथ काम करेंगे राम गोपाल वर्मा

एक्सपर्ट कहते हैं कि जीवनशैली में बदलाव के प्रभाव हार्मोंस पर पड़ रहे हैं, जिसका असर हमारी सेक्स लाइफ पर भी पड़ता है। लोगों की इच्छाएं अब बदलती जा रही है और वह सेक्स से दूर होते जा रहे हैं। सर्वे के अनुसार, यूथ कपल्स वीकेंड में सेक्स करने की इच्छा रखते हैं और जिन लोगों को वीकेंड में छुट्टियां नहीं मिलती है, वो महीने में एक बार सेक्स करते हैं।

डॉ शर्मिला मजूमदार के मुताबिक, सेक्स लाइफ का सबसे बड़ा दुश्मन व्हाट्सएप है और लोग उसी से चिपके रहते हैं। पार्टनर्स एक साथ होने के बावजूद उनमें किसी भी प्रकार की कामरुचि नहीं होती है। एक बात और भी सामने आ रही है कि अगर पार्टनर के साथ सेक्स कर भी रहे हैं तो सिर्फ एक काम की तरह, उनमें वह भावना नहीं आ रही है।