हैदराबाद : हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने झारखंड में मॉब लिंचिंग के शिकार हुए तबरेज अंसारी के मुद्दे पर भाजपा सरकार पर जमकर अपनी भड़ास निकाली। झारखंड पुलिस ने दो महीने पहले सरायकेला में हुए तबरेज अंसारी की हत्या मामले में सभी 11 आरोपियों पर से हत्या का चार्ज हटा दिया है।

इस बात से नाराज असदुद्दीन ओवैसी ने कहा है कि तबरेज अंसारी को 7 घंटे ना सिर्फ पीटा गया है बल्कि जबरन बुलवाया भी गया। अगर उसको नहीं पीटा जाता तो उसकी मौत होती क्या?

आपको बता दें कि झारखंड के तबरेज अंसारी मॉब लिंचिंग मामले में एक नया मोड़ आ गया है। तबरेज के शव की अंतिम पोस्टमार्टम रिपोर्ट में अब दिल का दौरा पड़ने (कार्डिएक अरेस्ट) की वजह से मौत होने की बात कही गई है। इस रिपोर्ट के आधार पर आरोपी पर लगाया गया हत्या का आरोप हटा दिया गया है।

रिपोर्ट के मुताबिक, तबरेज की मौत दिल के दौरे से हुई। पुलिस ने अदालत में आरोप पत्र पेश कर इस मामले में भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा-302 (हत्या) के बजाय धारा-304 के तहत मुकदमा शुरू करने की सिफारिश की है।

यह भी पढ़ें :

ओवैसी का मोदी सरकार पर तंज, कहा- ‘मेरा काम उन्हें आइना दिखाना’

गोडसे की औलाद मौजूद है और कोई भी मुझे गोली मार सकता है: असदुद्दीन ओवैसी

पुलिस सूत्रों का कहना है कि चार्जशीट पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर दाखिल की गई थी। सूत्रों ने कहा कि अब इस मामले में आरोपी को हत्या का दोषी न मानते हुए उस पर गैर इरादतन हत्या का मुकदमा चलेगा। प्राथमिकी के आधार पर तबरेज की पिटाई करने वाले 11 लोगों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया गया था।

तबरेज को 17 जून को सरायकेला-खरसावां जिले में ग्रामीणों ने चोरी की एक बाइक के साथ पकड़ा था और उसकी पिटाई कर दी थी। पुलिस ने उसे जेल भेज दिया था और बाद में उसकी मौत हो गई। इस मामले में कुल 11 लोगों को गिरफ्तार किया गया था।

अन्य खबरें :

झारखंड में मुस्लिम युवक से लगवाए ‘जय श्रीराम’ के नारे, फिर पीट-पीटकर मार डाला: VIDEO