श्रीदेवी अपनी बेटी जाह्नवी कपूर से बेइंतहा प्यार करती थीं। आखिरी बार उन्होंने बेटी के साथ बाईक राइड किया था। इस दौरान एक सहायक और दो बाउंसर्स सुरक्षा में साथ चल रहे थे। श्री देवी न सिर्फ अपनी बेटी की सुरक्षा का ख्याल रखती थीं, बल्कि उसकी इच्छाएं पूरी करने में कभी पीछे नहीं हटती थीं। तभी तो बाईक सीखने के दौरान उन्होंने बेटी को अकेले छोड़ना मुनासिब नहीं समझा और उसके साथ बिना हिचक के बाईक पर बैठी रहीं।