मार्केट में आ गया 'आयुर्वेदिक मास्क', नारायणपेट की 1200 महिलाओं का अनूठा प्रयास

महबूबनगर: नारायणपेट की 1200 महिलाएं इन दिनों आयुर्वेदिक मास्क बनाने में जुटी हैं। कोरोना के इस महाकाल के दौर में इनका प्रयास लोगों को रोग से मुक्ति दिला रहा है। जब से सरकार ने लोगों के लिए मास्क पहनना जरूरी कर दिया है। तब से नारायणपेट के आयुर्वेदिक मास्क की चर्चा खूब होने लगी है। सर्जिकल, घरेलू, N95 और बहुतेरे मास्क आपको बाजार में मिल जाएंगे। वहीं आयुर्वेदिक मास्क के बारे में शायद आप पहली बार  जानकारी ले रहे हैं।

तेलंगाना के महबूबनगर के नारायणपेट की महिला बुनकरों के अनूठे प्रयास का ही नतीजा है आयुर्वेदिक मास्क। जिसे आप एक बार पहनने के बाद दोबारा भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इस मास्क में इकहरा, दोहरा और तिहरा पट्टी वाला मास्क है। आयुर्वेदिक मास्क की खासियत है कि ये आपको सर्दी और फ्लू से बचाती है। खुद मंत्री केटीआर ने इस मास्क की उपयोगिता को सराहा है। महिलाओं के उत्साह को देखते हुए जिलाधिकारी हरिचंदन ने भी इनका सहयोग किया है। इस काम में 11 मंडल की कुल 1200 महिलाएं जुटी हुई हैं।

आयुर्वेदिक चिकित्सक डॉ नारायण और डॉ नागज्योति ने इस तरह के मास्क बनाने की प्रेरणा दी है। जिसमें कई हर्बल पेड़ पौधों के तत्व मिलाए जाते हैं। सेंटर पर आयुर्वेदिक मास्क बनाने वाली महिलाएं बताती हैं कि लोग न सिर्फ खुद के इस्तेमाल, बल्कि आम लोगों में बांटने के लिए भी ये मास्क खरीद कर ले जाते हैं।

अधिक वीडियो
Advertisement
Back to Top