किन्नौर: लोकसभा चुनाव के आखिरी चरण में एक ऐसे वोटर भी हैं जिनपर पूरे देश की नजरें टिकी हैं। जी हां हम बात कर रहे हैं आजाद भारत में सबसे पहले अपने मत का इस्तेमाल करने वाले श्याम शरण नेगी की। बुजुर्ग नेगी ने सबसे पहले 1951 में अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया है। इसके बाद लगातार उन्होंने सत्रह बार विभिन्न मौकों पर वोट दिया।

वीडियो सौजन्य: टाउन आजतक

अस्वस्थ होने के बावजूद एसएस नेगी ने बूथ पर पहुंचकर अपना वोट डाला। उम्र के इस पड़ाव में अब उन्हें सहारे की जरूरत पड़ती है। वोट डालने की खुशी आज भी नेगी के चेहरे पर साफ झलकी। उन्होंने खासकर युवाओं को मताधिकार के इस्तेमाल को लेकर प्रेरित किया। नेगी ने युवाओं से अपील की है कि वे ईमानदार नेताओं पर ही भरोसा करें।

उम्र के 102 वसंत काट चुके एसएस नेगी इलाके में लोगों के लिए प्रेरणा के स्रोत हैं। नेगी के अलावा हिमाचल प्रदेश सौ की उम्र पार वाले 1,011 वोटर हैं। चुनाव आयोग ने राज्य के सभी सौ साल की उम्र पार कर चुके निर्वाचकों को रोल मॉडल के रूप में नामित किया है।

यह भी पढ़ें:

जानिए.. देश के पहले मतदाता श्याम शरण नेगी के बारे में

श्याम शरण नेगी खुद बताते हैं कि जब उन्होंने पहली बार वोट किया तब वे 33 की उम्र के थे। आजादी के बाद पहले चुनाव से लेकर अब तक किसी मौके पर नेगी ने अपना वोट मिस नहीं किया। एसएस नेगी 51 साल पहले ही रिटायर हो चुके हैं। बावजूद उम्र के इस पड़ाव में उनका दमखम बाकी है।