अदिलाबाद जिला कांग्रेस नेताओं ने बैठक की थी। मसला था हाल के विधानसभा चुनाव में हार की समीक्षा करना। नेता एक दूसरे पर हार का ठीकरा फोड़ते नजर आए। हालत ये हुई कि चर्चा के दौरान दो गुट बंट गए। कुछ लोगों ने कांग्रेस द्वारा अल्पसंख्यकों की अनदेखी का आरोप लगाया। इसके बाद तकरार बढ़ता चला गया और बात मंच पर लात घूंसों के साथ खत्म हुई। इस दौरान सैंकड़ों लोग नेताओं के छिछले रवैये का दीदार करते रहे। लोगों ने जाते जाते कहा कि चुनाव हारे तो ये रूप दिखाया। अगर जीत जाते तो क्या करते?