हैदराबाद : तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद में एक महिला डॉक्टर की रेप के बाद हत्या और उसे जिंदा जला देने के मामले में राज्य के गृह मंत्री का विवादित बयान सामने आया है। गृह मंत्री मोहम्मद महमूद अली ने कहा कि वह पढ़ी लिखी थी, उसे अपनी बहन की जगह पुलिस को फोन करना चाहिए था।

इस पूरे मामले पर शुक्रवार को अपनी प्रतिक्रिया देते हुए गृह मंत्री मोहम्मद महमूद अली ने कहा कि हम घटना से दुखी हैं, पुलिस सतर्क है और अपराध को नियंत्रित कर रही है। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि उसने अपनी बहन को फोन किया, अगर 100 नंबर पर कॉल करके पुलिस को जानकारी देती तो उसे बचाया जा सकता था।

गौरतलब है कि तोंडुपल्ली टोल प्लाजा के पिछले हिस्से में खुली जगह पर डॉक्टर प्रियंका रेड्डी की गैंगरेप के बाद उसकी हत्या की गई। आरोपी महबूबनगर और रंगारेड्डी जिले के रहने वाले हैं। प्रियंका रेड्डी की लाश के पोस्टमार्टम की प्राथमिक रिपोर्ट के मुताबिक आरोपियों ने प्रियंका की लाश को पहले चादर में लपेटा और बाद में उस पर केरोसिन छिड़क कर आग लगा दी।

यह भी पढ़ें :

जानिए कैसे हुई प्रियंका रेड्डी की हत्या, हैदराबाद का सनसनीखेज कांड

4 लोगों ने 7 घंटों तक Priyanka Reddy को किया था टॉर्चर, पोस्टमॉर्टम में खुलासा

प्रियंका की हत्या के बाद शव को घटनास्थल से करीब 30 किलो मीटर दूर ले जाया गया। पुलिस का कहना है कि बुधवार रात 9.30 बजे से गुरुवार तड़के 4 बजे तक आरोपियों ने प्रियंका को अपने हवस का शिकार बनाया और आखिर में उसकी हत्या कर दी।