आज की प्रतिस्पर्धा वाले युग में बच्चे की काउंसलिंग में महत्वपूर्ण मानी जाती है। ऐसे में जरूरी है कि हम अपने बच्चे को एक मनोवैज्ञानिक को दिखाकर इस बात की सलाह जरूर लें कि हमारे बच्चे के अंदर किस चीज की कमी है या किस चीज की अधिकता है। कैसे हम अपने बच्चे को एक बेहतरीन तरीके से अपने लक्ष्य की ओर बढ़ने के अवसर प्रदान कर सकते हैं..साथ ही साथ किन बातों को हमें हमेशा ध्यान देते रहना होगा..