हैदराबाद: देश जब आजाद हुआ उस वक्त हैदराबाद अपने संघर्ष के दौर से गुजर रहा था। निजाम किसी भी हाल में हैदराबाद का विलय भारतीय संघ के साथ होने नहीं देना चाहते थे। इस दौरान उनके आतताई रजाकार जुल्मो सितम की इबारत लिख रहे थे।

बेगमपेट में आर्य समाज की तरफ से आयोजित कार्यक्रम में कई ऐसे बुजुर्गों को सम्मानित किया गया। जिन्होंने या फिर जिनके परिवार के लोगों ने रजाकारों के खिलाफ कड़ा संघर्ष किया था। हमने ऐसे ही कुछ बुजुर्गों से बातचीत की।

हैदराबाद मुक्ति दिवस पर आर्य समाज  द्वारा आयोजित कार्यक्रम में जी किशन रेड्डी व राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय
हैदराबाद मुक्ति दिवस पर आर्य समाज  द्वारा आयोजित कार्यक्रम में जी किशन रेड्डी व राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय

उन दिनों को याद करते हुए बूढ़ी आंखों में आक्रोश साफ देखा जा सकता है। उस दौर में खासकर हिंदू महिलाओं के खिलाफ दमन को लेकर इनमें गुस्सा दिखा। रजाकार के गुंडे जवान लड़कियों और महिलाओं की तलाश में रहते थे। कइयों को तो उन्होंने अपनी हवस का शिकार बनाया। भरे चौराहे पर कई युवतियों की शील भंग किया गया।

हालांकि तत्कालीन गृह मंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल के प्रयासों से भारतीय संघ की सेना ने इस जुल्म पर लगाम लगाई। 'ऑपरेशन पोलो' के नाम कई महीनों तक निजाम की निजी आर्मी और भारतीय सैनिकों के बीच संघर्ष हुआ। आखिरकार निजाम को हथियार डालना पड़ा और उन्होंने भारत के साथ हैदराबाद के विलय के दस्तावेज पर दस्तखत कर दिए।

हैदराबाद मुक्ति दिवस पर आर्य समाज  द्वारा आयोजित कार्यक्रम में जी किशन रेड्डी, राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय व अन्य
हैदराबाद मुक्ति दिवस पर आर्य समाज  द्वारा आयोजित कार्यक्रम में जी किशन रेड्डी, राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय व अन्य

वक्त के साथ उस इतिहास की चर्चा तेलंगाना में कम ही होती है। आज भी रजाकारों के बच्चे अपने पुरखों को खलनायक साबित करने से बचते हैं। लिहाजा सरकार पर दबाव होता है कि इस दिन सरकार की तरफ से आधिकारिक तौर पर कोई बड़ा आयोजन न हो। वर्तमान मुख्यमंत्री केसीआर पर इस तरह के आरोप भी लगते रहे हैं। जिसके मुताबिक मुस्लिम वोट बैंक और एमआईएम की दबाव में आकर केसीआर ने रजाकारों के खिलाफ संघर्ष करने वाले सेनानियों को भुला दिया।

इसी कार्यक्रम में शरीक बीजेपी नेता और केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने मुक्ति दिवस मनाने पर जोर दिया। साथ ही वहां मौजूद लोगों ने एक सुर में कहा कि आने वाली पीढी को हम हैदराबाद मुक्ति संग्राम के इतिहास से वंचित नहीं कर सकते हैं।

हैदराबाद मुक्ति संग्राम पर आर्य समाज द्वारा आयोजित कार्यक्रम 
हैदराबाद मुक्ति संग्राम पर आर्य समाज द्वारा आयोजित कार्यक्रम