अरुण जेटली के निधन से शोक की लहर है। वास्तव में दवंगत नेता जेटली को कभी राजनीति रास ही नहीं आई। वे तो कुछ और बनना चाहते थे।