क्सर लोगों के मन में सवाल उठता है कि एस्ट्रोनॉट्स अंतरिक्ष में जाने पर मल मूत्र कहां त्याग करते होंगे। दरअसल 19 जनवरी 1961 को अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने पहला मानवयुक्त मिशन मर्करी रेडस्टोन-3 के जरिए एलन शेफर्ड को स्पेस में भेजा था। मिशन 15 मिनट का ही था। हालांकि ऐन मौके पर लौटने में कुछ तकनीकी खराबी के चलते देरी हुई। इसी दौरान शेफर्ड को पेशाब लग गया। उसने कंट्रोल रूम से इसके लिए अनुमति मांगी कि क्या वो स्पेस शूट में ही मूत्र त्याग कर सकता है। परमिशन मिलने के बाद शेफर्ड ने ऐसा ही किया। हालांकि इसके चलते उनका पूरा बदन भीग गया और वो बुरी स्थिति में स्पेस से लौटे। इस अनुभव का ख्याल करने के बाद अब स्पेस शूट में यूरिन पाउच की व्यवस्था होती है। वहीं शौच के लिए एस्ट्रॉनोट के पीछे की तरफ एक बैग चिपकाकर रखा जाता है।