पोलावरम: कभी आंध्र प्रदेश में चंद्रबाबू नायडू की सरकार में दुधारू गाय रही पोलावरम प्रोजेक्ट की पोल पट्टी खुलने ही वाली है। आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने गुरुवार को अपनी आंखों से पोलवरम परियोजना की सच्चाई देखी। साथ ही मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी ने निर्माण कार्य का जायजा लिया और ठेकेदारों व अधिकारियों से बातचीत की। पोलपरम परियोजना में काम किस हद तक हुआ है। साथ ही कितना काम बाकी है। इसकी समीक्षा की गई। दरअसल पूर्व मुख्यमंत्री नारा चंद्रबाबू नायडू के लिए ये परियोजना कामधेनु गाय या फिर एटीएम जैसी थी। जब चाहे जितना पैसा निकाल लिया। परियोजना पूरा किए बगैर बाबू मई से पानी देने का आश्वासन चुनाव के दौरान देते फिर रहे थे। हैरानी इस बात की कि पोलवरम परियोजना का ज्यादातर ठेका भी एक खास समुदाय को ही दिया गया। कुल मिलाकर कहा जाय तो ये परियोजना किसी बड़े घोटाले से कम नहीं। जिस तरह मुख्यमंत्री परियोजना को लेकर संजीदा हैं, उससे साफ लगता है परियोजना में माल बनाने वाले लोगों की शामत आने वाली है। साथ ही सीएम वाई एस जगन मोहन रेड्डी की कोशिश होगी कि समयबद्ध तरीके से इस परियोजना का काम भी पूरा हो।