विजयवाड़ा : आंध्र प्रदेश विधानसभा में सदन के नेता और मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने जहां नवनिर्वाचित विधानसभा अध्यक्ष तम्मीनेनी सीताराम का स्वागत किया। वहीं उन्होंने बिना नाम लिए पिछली विधानसभा में तत्कालीन स्पीकर कोडेला शिवप्रसाद को जमकर कोसा। जगन मोहन ने कहा कि पिछली सरकार के सदन में वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के 23 विधायक अपने पद से इस्तीफा दिए बिना टीडीपी में शामिल हुए और मंत्री बनकर मौज करते रहे। जबकि तत्कालीन विधानसभा अध्यक्ष ने उनपर कोई कार्रवाई नहीं की। मुख्यमंत्री वाई एस जगन मोहन रेड्डी के मुताबिक भगवान के घर देर है लेकिन अंधेर नहीं। उन्होंने आगे कहा कि 2014 के चुनाव के बाद टीडीपी ने वाईएसआरसीपी के 23 विधायकों और 3 सांसदों को खरीदा था, वहीं 2019 के विधानसभा चुनाव में टीडीपी के मात्र 23 विधायक और 3 सांसद बाकी रह गए हैँ। मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने साफ किया कि चंद्रबाबू नायडू सरकार की तरह वे खरीद फरोख्त की राजनीति में विश्वास नहीं करते हैं। हां अगर स्वेच्छा से कोई तेदेपा का नेता त्यागपत्र देकर उनकी पार्टी में शामिल होना चाहता है तो उनका स्वागत है।