टीडीपी से राज्यसभा के सदस्य और पूर्व केंद्रीय मंत्री GST कर वंचना मामले में बुरी तरह फंस गए हैं। सुजना ग्रुप ऑफ कंपनी पर GST टैक्स में करीब 1289 करोड़ के फ्रॉड का आरोप है। जीएसटी लागू होने के बाद बीते 6 महीने में कंपनी ने जाली इनवॉइस के जरिए 225 करोड़ की धांधली की थी, जिसे जीएसटी अधिकारियों ने पकड़ा है। ग्रुप की 8 कंपनियों में बड़े पैमाने पर धांधली की पुलिस जांच कर रही है। भरनी कमोडिटीज प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक NJS श्रीधर को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। कोर्ट में पेशी के बाद श्रीधर को चंचलगुडा जेल भेज दिया गया। जानकारी के मुताबिक सुजना ग्रुप की 8 शेल कंपनियों का पता चला है। इस पूरी कार्रवाई में श्रीगंगा स्टील इंटरप्राइजेज लिमिटेड पर भी शक की सुई उठी है। एक बार फिर बता दें कि जिन शेल कंपनियों के खिलाफ कार्रवाई चल रही है उसका मालिकाना हक तेदेपा के प्रमुख सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री के नाम से है।