सासाराम: बिहार के सासाराम में भीड़ का ये वहशीपन देख आपका दिल कांप उठेगा। लोगों ने अधमरे लूट के आरोपी को तब तक पीटा..जब तक कि उसका दम न उखड़ गया हो। भीड़ द्वारा पीट पीटकर हत्या की इस वारदात में जिन लोगों ने हाथ नहीं उठाया, वे वीडियो बनाने में मशगूल रहे। लोगों की उल्टे पुलिस से शिकायत थी कि पुलिस ने आरोपियों को जाने दिया। या फिर पुलिस क्यों नहीं इस हत्याकांड में शामिल हो रही है।

दरअसल सासाराम में रेलवे बुकिंग सुपरवाइजर को गोली मारने के आरोपी को लोगों ने पकड़ा था। बजाय इसके कि पुलिस के हवाले किया जाय। लोगों ने अपने हाथों ही इंसाफ कर दिया। इंसाफ का मतलब लोगों की हैवानियत से है। अब पुलिस को लगता है कि एक आरोपी मारा गया और केस में छानबीन की जरूरत नहीं। आरोपी की हत्या मामले में भीड़ पर मामला दर्ज करना ही काफी होगा। पुलिस अगर संजीदगी से जांच करे तो वीडियो में दिख रहे एक एक हैवानों को सलाखों के पीछे किया जा सकता है।