जानिए क्यों लगातार घट रही है डेबिट कार्ड रखने वालों की संख्या, वजह आई सामने

कॉन्सेप्ट इमेज - Sakshi Samachar

बेंगलुरु : देश में जहां कैशलेस को बढ़ावा दिया जा रहा है, वहीं दूसरी तरफ आई एक रिपोर्ट चौंकाने वाली है। पिछले कुछ समय में डेबिट कार्ड रखने वालों की संख्या में गिरावट दर्ज की गई है। इसके पीछे मैग्नेटिक स्ट्रिप वाले कार्ड्स को चिप से बदलने की वजह बताई जा रही है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, रिजर्व बैंक के डाटा सामने आने के बाद पता चला है कि डेबिट कार्ड्स की संख्या अक्टूबर 2018 के 99.8 करोड़ से 11 प्रतिशत गिरकर अप्रैल 2019 में 88.47 करोड़ पर आ गई है। इस गिरावट से डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देने की सरकार की कोशिशों को धक्का जरूर लगेगा।

बैंकर्स का अनुमान है कि सेंट्रल बैंक के आदेश पर मैग्नेटिक स्ट्रिप वाले कार्ड्स को चिप से बदलने की वजह से ऐसा हुआ है। दरअसल अभी तक डेबिट कार्ड्स में मैग्नेटिक स्ट्रिप का प्रयोग होता था, जिसे चिप के साथ अब बदल दिया गया है और पुराने कार्ड बंद कर दिए गए हैं।

कार्ड बदले जाने के बावजूद अभी तक वह उपभोक्ताओं तक नहीं पहुंच पाए हैं। इसके अलावा ग्रामीण इलाकों में जिसके डेबिट कार्ड बंद हो गए हैं, वह नया कार्ड लेने अब तक नहीं गए हैं। इस वजह से भी डेबिट कार्ड उपभोक्ताओं में कमी हुई है।

यह भी पढ़ें :

HSBC करने जा रहा है हजारों की छंटनी, यह है प्लान

ये एप्स आपको देते हैं पैसे कमाने का मौका, करें डाउनलोड

भले ही डेबिट कार्ड यूजर्स की संख्या में कमी आई है, लेकिन क्रेडिट कार्ड होल्डर्स की संख्या में इजाफा जरूर हुआ है।

Advertisement
Back to Top