हमारे हिंदू धर्म में पुष्य नक्षत्र को शुभ माना जाता है। पुष्य नक्षत्र में खरीदारी का भी बड़ा महत्व होता है। कहते हैं कि पुष्य नक्षत्र में कुछ भी खरीदने से उसमें बढ़ोतरी होती है।

सोमवार 21 अक्टूबर को अहोई अष्टमी है और इसी दिन बन रहा है पुष्य नक्षत्र का संयोग। इसे सोम पुष्य नक्षत्र कहा जाता है। इस बार पुष्य नक्षत्र 21 अक्टूबर की शाम 5.30 से लेकर 22 अक्टूबर की शाम 4.40 तक रहेगा।

इस नक्षत्र में गाड़ी, मकान, दुकान, सोना, बर्तन की खरीदारी शुभ रहेगी। बता दें कि ज्योतिष शास्त्र में 27 नक्षत्र होते हैं और उनमें आठवां नक्षत्र पुष्य होता है।

पुष्य नक्षत्र को नक्षत्रों का राजा माना गया है और इस नक्षत्र के स्वामी शनि हैं जबकि देवता स्वयं बृहस्पति हैं जिसका कारक सोना है।

यहां है पुष्य नक्षत्र का मंदिर

भारत में तमिलनाडु के पेरावोरानी के निकट तंजावुर के विलनकुलम में अक्षयपुरीश्वर मंदिर है। ये मंदिर पुष्य नक्षत्र से संबंधित है।

पुष्य नक्षत्र के स्वामी शनि देव हैं। इसलिए ये मंदिर भगवान शनि के पैर टूटने की घटना से जुड़ा हुआ है। पुष्य नक्षत्र के संयोग पर ही यहां भगवान शिव ने शनिदेव को दर्शन दिए थे। इसलिए पुष्य नक्षत्र में पैदा हुए लोग इस मंदिर में दर्शन और नक्षत्र शांति के लिए आते हैं।

शनि की साढ़ेसाती में पैदा हुए लोग भी पुष्य नक्षत्र के संयोग में यहां पूजा और विशेष अनुष्ठान करवाते हैं।

700 साल पुराना है यह मंदिर

अक्षयपुरीश्वर मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। ये मंदिर तमिल वास्तुकला के अनुसार बना है। माना जाता है कि ये मंदिर चोल शासक पराक्र पंड्यान द्वारा बनवाया गया है। जो 1335 ईस्वी से 1365 ईस्वी के बीच बना है।

माना जाता है कि ये मंदिर करीब 700 साल पुराना है। इस मंदिर के पीठासीन देवता शिव हैं। उन्हें श्री अक्षयपूर्वीश्वर कहा जाता है। वहीं उनकी शक्ति को देवी श्री अभिवृद्धि नायकी के रूप में पूजा जाता है।

यहीं शनिदेव को शिव से मिला था आशीर्वाद

इस मंदिर से जुड़ी पौराणिक कथाओं के अनुसार यहां शनिवार को पुष्य नक्षत्र और अक्षय तृतीया तिथि के संयोग में शनिदेव ने अपने पंगु रोग को दूर करने के लिए भगवान शिव की पूजा की थी।

यहां बहुत सारे बिल्व वृक्ष थे। उनकी जड़ों में शनिदेव का पैर उलझने से शनिदेव यहां गिरे थे। शनिदेव के गिरते ही भगवान शिव वहां प्रकट हुए और शनिदेव झटके से उठ गए।

उस समय भगवान शिव ने शनिदेव को विवाह और पैर ठीक होने का आशीर्वाद दिया। तमिल शब्द विलम का अर्थ बिल्व होता है और कुलम का अर्थ झुंड होता है यानी यहां बहुत सारे बिल्ववृक्ष होने से इस स्थान का नाम विलमकुलम पड़ा।

शनिदेव यहां पत्नियों के साथ हैं विराजित

इस मंदिर में शनिदेव की पूजा का बहुत महत्व है। यहां वे अपनी पत्नियों मंदा और ज्येष्ठा के साथ विराजित हैं। इन्हें यहां आदी बृहत शनेश्वर के नाम से जाना जाता है।

शनिदेव पुष्य नक्षत्र के स्वामी हैं। इसलिए ये स्थान पुष्य नक्षत्र में जन्म लेने वाले लोगों के लिए खास माना जाता है। पुष्य नक्षत्र में जन्म लेने वाले लोग यहां पुष्य नक्षत्र, शनिवार या अक्षय तृतीया पर आकर शनिदेव की पूजा करते हैं।

शनिदेव अंक 8 के स्वामी भी हैं इसलिए यहां 8 बार 8 वस्तुओं के साथ पूजा करके बांए से दाईं ओर 8 बार परिक्रमा भी की जाती है।

कुछ ऐसी है इस मंदिर की बनावट

इस मंदिर की आयताकार बाउंड्री दीवारों से बनी हैं। मंदिर प्रांगण विशाल है और यहां कई छोटे मंडप और हॉल बने हुए हैं। मंदिर का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा भीतरी मंडप है जो बड़े पैमाने पर दीवारों से घिरा हुआ है।

इसे भी पढ़ें :

पुष्य नक्षत्र में क्यों की जाती है खरीदारी, जानें कब बन रहा है इसका संयोग व महत्व

खास होती है चारमीनार स्थित भाग्यलक्ष्मी मंदिर की दिवाली, भक्तों में बंटता है मां का खजाना

यहां कोटरीनुमा स्थान हैं जहां सूर्य का प्रकाश नहीं पहुंच पाता है। इस देवालय के बीच में गर्भगृह बना हुआ है। जहां भगवान शिव अक्षयपुरिश्वर के रूप में विराजमान हैं।

यहां पत्थर का एक बड़ा शिवलिंग है। मंदिर के पुजारी ही इस गर्भगृह में प्रवेश कर सकते हैं। अन्य लोगों का भीतर जाना मना है।

इस मंदिर में भगवान अक्षयपुरिश्वर यानी शिवजी के अलावा भगवान गणेश, भगवान नंदिकेश्वर की भी मूर्ति हैं। यहां मां दुर्गा और देवी गजलक्ष्मी भी विराजित हैं।

शनिदेव अपनी पत्नियों मंदा और ज्येष्ठा के साथ विराजित हैं। यहां भगवान सूर्य और भैरव देवता की भी मूर्ति हैं। इनके साथ ही भगवान सुब्रमण्य अपनी पत्नी देवी श्री वल्ली और दिव्यनै के साथ विराजित हैं। मंदिर में नन्दी, भगवान दक्षिणामूर्ति, ब्रह्मा और भगवान नटराज की भी मूर्तियां स्थापित हैं।

पुष्य नक्षत्र का महत्व

भगवान शनि पुष्य नक्षत्र के स्वामी हैं और शनिदेव के गुरु भगवान शिव हैं। इसलिए तमिलनाडु के इस मंदिर में पुष्य नक्षत्र पर अच्छी सेहत, विवाह, सुख और समृद्धि के लिए शनिदेव के साथ उनके गुरु भगवान शिव की विशेष पूजा की जाती है।

माना जाता है यहां पुष्य नक्षत्र के संयोग पर शनि की महादशा और साढ़ेसाती से पीड़ित लोग पूजा करें तो परेशानियों से राहत मिलती है। कर्ज से मुक्ति पाने के लिए यहां विशेष पूजा की जाती है।