तेलंगाना के प्रमुख शहरों में से एक है वरंगल जो अपनी पुरातन और सांस्कृतिक विरासत के लिए जाना जाता है। यहां एक तरफ तो कई मंदिर है, किले हैं तो यहां तालाब और झरने भी है जहां आप सुकून भरे पल बिता सकते हैं।

तेलंगाना के इस शहर की यात्रा आपको जीवन में एक बार तो करनी ही चाहिए। यहां आप वरंगल का किला, हजार खंभों वाला प्रसिद्ध मंदिर और बहुत कुछ देख सकते हैं।

आइये यहां जानते हैं कि वरंगल में क्या देखें और क्यों ...

वरंगल का किला

वरंगल में कई ऐतिहासिक धरोहरों को आप देख सकते हैं और उन्हीं में से एक है ये वरंगल का किला। ये 13 वीं सदी में निर्मित हुआ था और इसकी स्थापत्य कला देखते ही बनती है।

कितनी ही बार इस किले पर आक्रमण हुआ फिर भी इसकी स्थापत्य कला जस की तस बनी रही। इतिहास के प्रति रुचि रखने वालों को तो यहां जरूर जाना चाहिए।

वरंगल किले का फोटो 
वरंगल किले का फोटो 

हजार खंभों का मंदिर

इस मंदिर के नाम से भी वरंगल को पहचाना जाता है। एक तरह से कहें तो ये वरंगल की पहचान ही बन चुका है और इसे देखने के लिए लोगों का तांता लगा ही रहता है। यह मंदिर हनमकोंडा पर्वत पर स्थित है। इसे श्री रुद्रेश्वर स्वामी मंदिर के तौर पर भी जाना जाता है।

इसे भी पढ़ें :

भद्राचलम मंदिर में राम-सीता की है अनोखी मूर्ति, इसलिए खास माना जाता है यहां का दर्शन

यहां भगवान शंकर की पूजा की जाती है और यह मंदिर अपने हजार खंभों की वास्तुकला के लिए जाना जाता है।

हजार खंभों का मंदिर
हजार खंभों का मंदिर

जैन मंदिर

यहां का जैन मंदिर भी काफी प्रसिद्ध है और इसे भी अपनी स्थापत्य कला के लिए ही जाना जाता है। यहां दिवारों पर भी बेहतरीन कलाकारी उकेरी गई है जिसे देखकर बड़ा अच्छा लगता है।

जैन मंदिर
जैन मंदिर

पखल तालाब

यह तालाब शहर से 50 किमी दूर है और यहां का प्राकृतिक सौंदर्य देखते ही बनता है। वरंगल जाएं तो यहां जाना न भूलें क्योंकि आपकी यात्रा की थकान यहीं जाकर उतर सकती है। यहां हरियाली से लेकर और भी बहुत कुछ है आपके देखने लायक।

पखल तालाब
पखल तालाब

भद्रकाली मंदिर

भद्रकाली मंदिर वरंगल और हनमकोंडा के बीच स्थित है। यहां हर साल लाखों लोग आते हैं और माता भद्रकाली के दर्शन करते हैं पर अगर आप भी यहां जाएं तो माता भद्रकाली के साथ ही भद्रकाली तालाब जाना न भूलें।

भद्रकाली मंदिर 
भद्रकाली मंदिर