गुवाहाटी : दार्जिलिंग हिमालयन रेलवेज (डीएचआर) ने पहली बार टॉय ट्रेन की संध्याकालीन सेवाएं शुरू की हैं ताकि सैलानी शाम के समय में भी आनंददायक यात्रा का अनुभव ले सकें।

टॉय ट्रेन एक सदी से ज्यादा वक्त से पर्यटकों को हिमालय की खूबसूरी के दर्शन करा रही है। अब सैलानी पहाड़ी परिदृश्य की प्राकृतिक खूबसूरती का लुत्फ शाम के समय इस ट्रेन में यात्रा करके उठा सकते हैं।

पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे के प्रवक्ता प्रणव ज्योति शर्मा ने यहां बताया कि नई सेवा पिछले हफ्ते शुरू की गई है। शर्मा ने कहा कि यह सेवा शाम में सिलीगुड़ी और इसके आसपास के क्षेत्रों में पर्यटकों को यात्रा का अनुभव करने का अवसर प्रदान करेगी।

इसे भी पढ़ें :

दार्जिलिंग और शिमला टॉय ट्रेन रूट की तर्ज पर विकसित होगा बहराइच-मैलानी रेलमार्ग

इस सेवा को 1999 में यूनिस्को का विश्व धरोहर का तमगा मिला था। ट्रेन दोपहर तीन बजे सिलीगुड़ी से रवाना होगी और शाम चार बजकर 20 मिनट पर रोंगटॉन्ग पहुंचेगी। यह सुकना में 10 मिनट रूकेगी ताकि सैलानी संग्रहालय जा सकें। उन्होंने कहा कि वापसी का सफर रोंगटॉन्ग से शाम पौने पांच बजे शुरू होगा।