मुंबई : मुंबई और तटीय जिलों के बाद अब महाबलेश्वर सहित महाराष्ट्र के कुछ प्रसिद्ध हिल स्टेशन में भारी बारिश का दौर जारी है। भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) ने सोमवार कोयह जानकारी दी।

महाबलेश्वर में सर्वाधिक 300 मिलीमीटर (मिमी) बारिश हुई, और इसके बाद पुणे में जुड़वा हिल स्टेशन लोनावाला-खंडाला में 290 मिमी बारिश दर्ज की गई।

सूची में इसके बाद राज्य का सबसे छोटा हिल स्टेशन रायगढ़ स्थित माथेरन है, जहां 260 मिमी, नासिक के इगतपुरी में 220 मिमी और तालासारी, मोखदा और जाहार जैसे पालघर के प्रमुख रिसोर्ट्स में क्रमश: 230, 200 और 190 मिमी बारिश दर्ज की गई।

ये भी पढ़ें---

खूबसूरत हिल स्टेशन “कुफरी”

इन हिल स्टेशनों में आम तौर पर जुलाई-सितंबर का समय सर्वश्रेष्ठ मॉनसूनी समय होता है, जहां मुंबई, पुणे, नासिक, औरंगाबाद, कोल्हापुर और देश भर के हजारों सैलानी यहां सैर करने आते हैं।

राज्य की कई छोटी-बड़ी नदियों का उद्गम स्थल होने के अलावा ये पहाड़ियां हनीमून मनाने वालों, ट्रैकरों की पहली पसंद हैं। वे यहां साल भर आते रहते हैं और यहां आने के लिए मॉनसून उनका पसंदीदा मौसम है।

मुंबई और पालघर, ठाणे, रायगढ़, रत्नागिरि, सिंधुदुर्ग जैसे तटीय जिलों में सोमवार को लगातार बारिश हुई, लेकिन इससे किसी भी प्रकार के सड़क या रेल यातायात पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा।

हालांकि मुंबई, ठाणे, नवी मुंबई और अन्य स्थानों पर सुबह तथा शाम को कार्यालय से छूटने के समय वाहनों को मुख्य सड़कों, यहां तक कि राजमार्गो पर जाम के साथ-साथ गड्ढों के कारण रेंगते देखा गया।

पिछले सप्ताह इन गड्ढों के खिलाफ महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के कार्यकर्ताओं के साथ अभियान चलाने वाले मुंबई कांग्रेस के अध्यक्ष संजय निरूपम ने सोमवार को भी कई स्थानों पर प्रदर्शन करते हुए राज्य में पिछले सप्ताह कम से कम सात लोगों की मौत होने का दावा किया।

इस दौरान, पिछले सप्ताह के ज्यादातर समय भारी बारिश से प्रभावित रहे पालघर तथा ठाणे के कुछ हिस्सों में स्थिति लगभग सामान्य हो गई है।

आईएमडी ने मुंबई में अगले दो दिनों में बहुत तेज बारिश होने की चेतावनी जारी की है। इस दौरान तापमान के 24-29 डिग्री सेल्सियस तक रहने की संभावना है।