Tue Nov 19, 2019 Telugu English E-Paper Education
ब्रेकिंग न्यूज़
टीएसआरटीसी कर्मचारी जेएसी का बड़ा फैसला, हड़ताल रहेगी जारी 
लोकसभा में मनीष तिवारी बोले-प्रदूषण पर सदन की एक स्थाई समिति बननी चाहिए
राज्यसभा में जलियांवाला बाग राष्ट्रीय स्मारक (संशोधन) विधेयक पारित
भाजपा नेता विजेंद्र गुप्ता ने केजरीवाल सरकार पर लगाया LED घोटाला का आरोप
पाक मीडिया : भारत के साथ पोस्टल सर्विस को किया बहाल, पार्सल पर अब भी बैन

`tjac` से सम्बंधित परिणाम

धन, बल और  संसाधन के बजाए एजेंडे पर लोगों को गोलबंद करना जरूरी : कोदण्डरम
तेलंगाना राजनीति

धन, बल और संसाधन के बजाए एजेंडे पर लोगों को गोलबंद करना जरूरी : कोदण्डरम

तेलंगाना जन समिति (टीजेएस) के प्रमुख एम. कोदण्डरम को इस विधानसभा चुनाव में यह साबित करना है कि चुनाव में बढ़त हासिल करने के लिए धन और आर्थिक संसाधन के बजाय किसी एजेंडे पर जन गोलबंदी अहम है। उस्मानिया विश्वविद्यालय से राजनीतिक विज्ञान के प्रोफेसर के तौर पर सेवानिवृत्त हुए कोदण्डरम ने तेलंगाना संयुक्त कार्रवाई समिति (टी-जेएसी) की अगुवाई की थी, जिसका गठन 2009 में पृथक तेलंगाना राज्य के लिए किया गया था।

प्रो. कोदण्डराम के TJAC से लेकर TJS तक का ऐसा रहा सफर
संपादक की पसंद

प्रो. कोदण्डराम के TJAC से लेकर TJS तक का ऐसा रहा सफर

मुदसानी कोदण्डराम को प्रोफेसर कोदण्डराम के रूप में जाना जाता है। कोदण्डराम का जन्म 5 सितंबर 1955 तत्कालीन आदिलाबाद जिले के मंचीरियाल-जगनाम में हुआ है। कोदण्डराम के माता का नाम-पिता वेंतटम्मा और जनर्दन रेडडी है। कोदण्‍डराम को पांच बहने और एक भाई हैं। इसी क्रम में 30 मार्च 1983 को कोदण्डराम ने सुशीला के साथ विवाह किया।

प्रो. कोदण्डराम का आरोप : सरकार ने दमननीति से स्फूर्ति सभा विफल करने का प्रयास किया है
समाचार

प्रो. कोदण्डराम का आरोप : सरकार ने दमननीति से स्फूर्ति सभा विफल करने का प्रयास किया है

टैंक बंड पर मिलियन मार्च की स्फूर्ति सभा में तनाव की स्थिति पैदा हो गई। तेलंगाना जेएसी,सीपीआई(एमएल)न्यूडेमोक्रासी, सीपीआई के नेतृत्व में स्फूर्ति सभा का आयोजन किया गया। आप को बता दें कि पुलिस ने इस सभा के आयोजन को अनुमति नहीं दी है। इस सभा में शामिल होने की तैयारी तेलंगाना जेएसी के चेयरमैन प्रो. कोदण्डराम कर रहे थे। पुलिस ने उन्हें नजरंबद करने का प्रयास किया।

‘मिलियन मार्च’ को सरकार ने नहीं दी अनुमति, कोदंडराम ने दी सरकार को चेतावनी
समाचार

‘मिलियन मार्च’ को सरकार ने नहीं दी अनुमति, कोदंडराम ने दी सरकार को चेतावनी

तेलंगाना जेएसी के के ‘मिलियन मार्च’ के आयोजन को राज्य सरकार ने अनुमति नहीं दी है। तेलंगाना संघर्ष में ‘मिलियन मार्च’ महत्वपूर्ण माना जाता है। तेलंगाना जेएसी ने शनिवार, 10 मार्च को इसके वार्षिकोत्सव का आयोजन करने का निर्णय लिया है।

देश विकसित हुआ..तो फिर किसान क्यों कर रहे आत्महत्याएं : कोदण्डराम
राजनीति

देश विकसित हुआ..तो फिर किसान क्यों कर रहे आत्महत्याएं : कोदण्डराम

तेलंगाना ज्वाइंट एक्शन कमेटी के चेयरमैन प्रो. कोदण्डराम ने सवाल किया कि यदि देश आर्थिक रूप से विकासित हुआ है तो राज्य और देश में किसान आत्महत्याएं क्यों कर रहे हैं? किसानों के गांवों से शहरों की ओर पलायन का दौर तत्कालीन मुख्यमंत्री नारा चंद्रबाबू नायुडू के समय से आरंभ हुआ है।

तेलंगाना में धरना चौक बचाने के लिए लोगों की मुहिम तेज
समाचार

तेलंगाना में धरना चौक बचाने के लिए लोगों की मुहिम तेज

तेलंगाना जेएसी के अध्यक्ष प्रो. कोदण्डराम ने कहा कि लोकतंत्र में अपनी समस्याओं को लेकर विरोध प्रदर्शन करने का अधिकार हर व्यक्ति को है।

उस्मानिया विश्वविद्यालय फिर एक बार बना तनाव का केंद्र
गैलरी

उस्मानिया विश्वविद्यालय फिर एक बार बना तनाव का केंद्र

टी-जेएसी के संयोजक एम कोदण्डराम की गिरफ्तारी के बाद हैदराबाद के उस्मानिया विश्वविद्यालय में तनाव बढ़ा जिससे तेलंगाना आंदोलन की यादें ताज़ा हो गईं। 

तेलंगाना में बेरोजगार रैली सफल, सरकार का रवैया निंदनीय: कोदण्डराम
राजनीति

तेलंगाना में बेरोजगार रैली सफल, सरकार का रवैया निंदनीय: कोदण्डराम

बेरोजगारी रैली को शांतिपूर्वक आयोजित करने के आश्वासन दिये जाने के बावजूद हमें प्रताड़ित किया गया है। पुलिस और सरकार रवैया अत्यंत निंदनीय व अलौकतांत्रिक है।

 ‘चलो हैदराबाद’ के लिए अनुमति नहीं,  तेलंगाना जेएसी ने खटखटया हाई कोर्ट का दरवाजा
समाचार

‘चलो हैदराबाद’ के लिए अनुमति नहीं, तेलंगाना जेएसी ने खटखटया हाई कोर्ट का दरवाजा

तेलंगाना जेएसी ने तेलंगाना राज्य में बेरोजगार की समस्याओं पर प्रस्तावित ‘चलो हैदराबाद’ कार्यक्रम को अनुमति देने के लिए हैदराबाद हाई कोर्ट में याचिका दायर की है।

भाषण के अलावा  कोदण्डराम ने  कुछ नहीं किया: सांसद सुमन
तेलंगाना राजनीति

भाषण के अलावा कोदण्डराम ने कुछ नहीं किया: सांसद सुमन

तेलंगाना आंदोलन के दौरान तेरास की सभाओं में कोदण्डराम केवल भाषण देने के अलावा कुछ भी नहीं किया। कोदण्डराम कांग्रेस के एजेंट के जैसा व्यवहार कर रहे है। तेलंगाना में इस समय टीजेएसी नहीं, केजेएसी है।