Mon Oct 14, 2019 Telugu English E-Paper Education
ब्रेकिंग न्यूज़
रविशंकर प्रसाद बोले- हम डाटा सुरक्षा कानून पर काम कर रहे, जल्द ही इसे संसद में लाया जाएगा
दिल्ली के भलस्वा डेयरी और राजघाट के पास 2 अलग-अलग मुठभेड़, एक बदमाश घायल  
पीएम मोदी कल हरियाणा के चरखी दादरी में चुनावी जनसभा को करेंगे संबोधित
बाढ़ को लेकर नीतीश सरकार की कार्रवाई, 15 अधिकारियों पर गिरी गाज
  राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और पीएम मोदी ने नोबेल जीतने पर अभिजीत बनर्जी को दी बधाई  

`tigers` से सम्बंधित परिणाम

तेलंगाना में तेजी से बढ़े बाघ, जानिए कितनी हुई संख्या
तेलंगाना

तेलंगाना में तेजी से बढ़े बाघ, जानिए कितनी हुई संख्या

तेलंगाना में 26 बाघ होने का अनुमान हैं। तेलंगाना राज्य में दो बाघ आरक्षित वन क्षेत्र हैं। इन क्षेत्रों में कुल 26 बाघ होने का अनुमान लगाया गया हैं। पिछली बार तेलंगाना में 20 बाघ होने का अनुमान लगाया गया था।

NTCA ने मध्य प्रदेश से कहा-बाघों की डाटा एंट्री करें दुरुस्त 
राष्ट्रीय

NTCA ने मध्य प्रदेश से कहा-बाघों की डाटा एंट्री करें दुरुस्त 

सूचना के अधिकार से जुड़े एक दस्तावेज के मुताबिक राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण (एनटीसीए) ने मध्य प्रदेश से कहा है कि वह अपने ऑनलाइन प्लेटफॉर्म में बाघों से संबंधित सही आंकड़े डाले। एनटीसीए द्वारा आंकड़ों को फिर से दर्ज करने के लिए राज्य के मुख्य वन्यजीव वार्डन को पत्र भेजा गया है।

तेलंगाना में जनवरी 2018 में होगी बाघों की गणना
समाचार

तेलंगाना में जनवरी 2018 में होगी बाघों की गणना

तेलंगाना में अगले महीने बाघों की गणना किये जाने की संभावना है। राज्य वन्य विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, संभवत: जनवरी के तीसरे या चौथे हफ्ते में बाघों की गणना की जायेगी। उन्होंने बताया कि यह गणना कार्य पांच दिन तक चलेगा। वन अधिकारी ने कहा कि तेलंगाना में बाघों की संख्या करीब 17 होने का अनुमान है।

आंध्रप्रदेश में शेरनी लापता, एक बच्चा मृत और एक  को बंदी बनाया
समाचार

आंध्रप्रदेश में शेरनी लापता, एक बच्चा मृत और एक  को बंदी बनाया

कर्नूल जिले के वेलुगोडु शहर परिसर में पिछले चार-पांच दिनों से खलबली मचाने वाली शेरनी और उसके दो बच्चों में से एक बच्चा मृत पाया गया। इसी क्रम में वन अधिकारियों ने एक बच्चे को बंदी बनाया। मगर शेरनी का पता नहीं चल पाया है।



पिछले ढाई वर्षों में 269 बाघों की हुई मौत
समाचार

पिछले ढाई वर्षों में 269 बाघों की हुई मौत

राष्ट्रीय संस्था पीपुल फॉर एनिमल्स के प्रदेश प्रभारी बाबूलाल जाजू ने विगत ढाई वर्षों में 269 बाघों की हुई मौत पर चिंता जाहिर करते हुए कहा कि बाघों की मौत का मुख्य कारण राष्ट्रीय पार्कों की सुरक्षा व्यवस्था कमजोर होना और उनके अंगों का चीनी बाजार में महंगा बिकना है।