Tue Jan 28, 2020 Telugu English E-Paper Education
ब्रेकिंग न्यूज़
शाहीन बाग में प्रदर्शन स्थल पर हथियार के साथ नजर आया व्यक्ति, आंदोलनकारियों को दी धमकी
देशद्रोहियों की सात पुश्तें भी असम को हिन्दुस्तान से अलग नहीं कर सकतीं : अमित शाह
निर्वाचन आयोग ने विवादित नारेबाजी पर केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर को भेजा नोटिस
दिल्ली पुलिस ने बिहार के जहानाबाद से शरजील इमाम को गिरफ्तार किया
गृह मंत्री अमित शाह दिल्ली के लोगों से नफरत करते हैं : सीएम अरविंद केजरीवाल

`death anniversary` से सम्बंधित परिणाम

खूबसूरती-बोल्ड अंदाज से बॉलीवुड में राज करती थी परवीन बॉबी, यूं हुई थी दर्दनाक मौत 
मनोरंजन

खूबसूरती-बोल्ड अंदाज से बॉलीवुड में राज करती थी परवीन बॉबी, यूं हुई थी दर्दनाक मौत 

परवीन की जिंदगी हमेशा ही विवादों में घिरी रही । कभी अपने लिव-इन रिलेशनशिप को लेकर वह सुर्खियों में आई तो कभी शादीशुदा शख्स के साथ मोहब्बत कर के सुर्खियां बटोरी।

श्रेष्ठ पत्रकार भी थे हिंदी साहित्य के पितामह भारतेन्दु हरिश्चन्द्र, कम उम्र में ही दुनिया को कह दिया अलविदा  
गेस्ट कॉलम

श्रेष्ठ पत्रकार भी थे हिंदी साहित्य के पितामह भारतेन्दु हरिश्चन्द्र, कम उम्र में ही दुनिया को कह दिया अलविदा  

हिंदी साहित्य के महान अनुसंधानकर्ता भारतेंदु हरिश्चंद्र ने 34 साल चार महीने की छोटी सी आयु में दुनिया को अलविदा कह दिया, लेकिन दुनिया छोड़ने से पहले वे अपने क्षेत्र में इतना कुछ कर गए कि हैरत होती है कि कोई इंसान इतनी छोटी सी उम्र में इतना कुछ कैसे कर सकता है।

आरडी बर्मन पुण्यतिथि : जानिए संगीत के ‘शहंशाह’ को बॉलीवुड में किसने दिया था पहला मौका 
बॉलीवुड

आरडी बर्मन पुण्यतिथि : जानिए संगीत के ‘शहंशाह’ को बॉलीवुड में किसने दिया था पहला मौका 

फिल्म इंडस्ट्री को कई यादगार और सुपरहिट गाने देने वाले मशहूर संगीतकार आरडी बर्मन की आज पुण्यतिथि है। 04 जनवरी 1994 को आरडी बर्मन ने दुनिया को अलविदा कहा था। उनके गीत आज भी लोगों के होठों पर तैरते हैं। क्या आप जानते हैं बॉलीवुड में संगीत के इस ‘शहंशाह’ को पहला मौका किसने दिया था।

पुण्यतिथि विशेष : सफदर हाशमी को चुकानी पड़ी थी सच बोलने की कीमत, सरेआम की गई थी हत्या
संपादक की पसंद

पुण्यतिथि विशेष : सफदर हाशमी को चुकानी पड़ी थी सच बोलने की कीमत, सरेआम की गई थी हत्या

सफदर हाशमी एक ऐसा नाम है जो किसी परिचय का मोहताज नहीं है। भारतीय रंगमंच तबके में उनरा नाम बड़े अदब से लिया जाता है।

सबको हंसाने वाले कादर खान की जिंदगी के ये किस्से पढ़कर आपकी आंखें हो जाएगी नम
बॉलीवुड

सबको हंसाने वाले कादर खान की जिंदगी के ये किस्से पढ़कर आपकी आंखें हो जाएगी नम

अपनी कॉमेडी से दर्शकों को दशकों तक हंसाने वाले दिग्गज कलाकार कादर खान की आज पुण्यतिथि है। 31 दिसंबर 2018 को कनाडा में उन्होंने अंतिम सांसे ली थी। कादर खान ने करीब 300 से ज्यादा फिल्मों में काम किया था, लेकिन अपने जीवन के अंतिम पड़ाव में वह बिल्कुल अकेले रह गए थे।

फिल्मी किरदारों को जीते थे फारुख शेख, पहली फिल्‍म के लिए मिले थे मात्र 750 रुपये 
बॉलीवुड

फिल्मी किरदारों को जीते थे फारुख शेख, पहली फिल्‍म के लिए मिले थे मात्र 750 रुपये 

हिन्दी फिल्म जगत में फारूख शेख को एक ऐसे अभिनेता के तौर पर याद किया जाता है, जिन्होंने व्यावसायिक फिल्मों के दौर में क्लासिकल फिल्मों में अपनी अलग पहचान बनायी।

अटल बिहारी वाजपेयी के ये बड़े फैसले, जिसने बदली भारत की तस्वीर
गेस्ट कॉलम

अटल बिहारी वाजपेयी के ये बड़े फैसले, जिसने बदली भारत की तस्वीर

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की आज पहली पुण्यतिथि है। भाजपा को बीज की तरह बोने वाले वाजपेयी उस वटवृक्ष के सबसे उदारवादी और बड़े नेता थे। वह तीन बार प्रधानमंत्री बने और अपने फैसलों से सभी को चौंका दिया। अटल बिहारी वाजपेयी के कई ऐसे फैसले हैं जो देश हमेश याद करेगा।

महान समाज सेवक संत गाडगे बाबा की पुण्य तिथि पर विशेष
संपादक की पसंद

महान समाज सेवक संत गाडगे बाबा की पुण्य तिथि पर विशेष

संत गाडगे बाबा उर्फ डेबूजी महाराज की आज (20 दिसंबर) पुण्य तिथि है। डेबूजी महाराज का जन्म 23 फरवरी 1876 महाराष्ट्र के अमरावती जिले के शेणगांव अंजनगांव में 23 फरवरी 1876 को एक धोबी परिवार में हुआ था। डेबुजी झिंगराजी जानोरकर को संत गाडगे महाराज और गाडगे बाबा के नाम से जाने जाते थे। वे एक समाज सुधारक और घुमक्कड भिक्षुक थे। गाडगे बाबा एक सच्चे कर्मयोगी थे।

 दिलचस्प है अशोक कुमार के एक्टर बनने की ये कहानी, उनकी लाइफ से जुड़े अनसुने फैक्ट
बॉलीवुड

दिलचस्प है अशोक कुमार के एक्टर बनने की ये कहानी, उनकी लाइफ से जुड़े अनसुने फैक्ट

बॉलीवुड में अभिनेता अशोक कुमार एक ऐसा नाम है जो परिचय का मोहताज नहीं है। दादा मुनी के नाम से मशहूर अशोक कुमार की आज पुण्यतिथि है। 10 दिसंबर 2001 को अशोक कुमार का निधन हुआ था। अशोक कुमार को हिन्दी फिल्मों के पहले एक्टर बताया जाता है, जिनकी फिल्म इंडस्ट्री में एंट्री बहुत दी दिलचस्प रही।

डॉ. अंबेडकर के बौद्ध धर्म अपनाने का सच, ऐसी थी वजह
गेस्ट कॉलम

डॉ. अंबेडकर के बौद्ध धर्म अपनाने का सच, ऐसी थी वजह

भारतीय संविधान के निर्माता, राजनीतिज्ञ और समाज सुधारक डॉ.भीमराव अंबेडकर की आज 63वीं पुण्यतिथि है। बाबा साहेब के नाम से मशहूर भीमराव अंबेडकर देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू कैबिनेट में कानून मंत्री भी रहे।

अलग अंदाज व शानदार एक्टिंग के लिए जाने जाते हैं देव आनंद, नए चेहरों को देते थे मौका    
मनोरंजन

अलग अंदाज व शानदार एक्टिंग के लिए जाने जाते हैं देव आनंद, नए चेहरों को देते थे मौका   

फिल्मों में जब भी अलग अंदाज व शानदार एक्टिंग की चर्चा होती है तो सबसे पहले नाम आता है देव आनंद का। जी हां, देव आनंद के स्टाइल व अदाओं की कायल थी लड़कियां। फिल्म इंडस्ट्री में एक ऐसा भी दौर था जब राज कपूर और दिलीप कुमार के साथ ही देव आनंद भी दिलों पर राज करते थे।जहां दिलीप कुमार गंभीर किरदार निभाने वाले ट्रैजेडी किंग थे, वहीं राज कपूर बड़े ही चुलबुले रोल करते थे। ऐसे में रोमांस, स्टाइल और दिल को छूने वाले रोल सिर्फ देव आनंद को ही मिलते थे।

ध्यानचंद की पुण्यतिथि : खिलाड़ियों का होना चाहिए एकमात्र लक्ष्य सर्वश्रेष्ठ तथा ऐतिहासिक प्रदर्शन
संपादक की पसंद

ध्यानचंद की पुण्यतिथि : खिलाड़ियों का होना चाहिए एकमात्र लक्ष्य सर्वश्रेष्ठ तथा ऐतिहासिक प्रदर्शन

हाकी के सर्वश्रेष्ठ सितारे मेजर ध्यानचंद की 3 दिसंबर 1979 में मृत्यु बीमारी के कारण हो गयी थी। हम इस महान खिलाड़ी की पुण्य तिथि पर सभी देशवासियों की तरफ से शत शत नमन करते है।

परिवार का कर्ज उतारने के लिए सीवी रमन ने की थी अकाउंटेंट की नौकरी
संपादक की पसंद

परिवार का कर्ज उतारने के लिए सीवी रमन ने की थी अकाउंटेंट की नौकरी

आज भारत के महान वैज्ञानिक और भौतिकशास्त्री सर सीवी रमन की पुण्यतिथि है। प्रकाश के प्रकीर्णन पर उत्कृष्ट कार्य के लिए उन्हें नोबेल पुरस्कार दिया गया।

फैज अहमद फैज की वे पांच गजलें, जिनके चलते आज भी याद किए जाते हैं
संपादक की पसंद

फैज अहमद फैज की वे पांच गजलें, जिनके चलते आज भी याद किए जाते हैं

उर्दू के मशहूर शायर फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ का आज पुण्यतिथि है। उनकी शायरी में अहसास, बदलाव, प्रेम और सुकुन सब कुछ था। फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ की कलम में वो ख़ासियत थी जो विरले ही देखने को मिलती है।

जब विनोद मेहरा के लिए रेखा को खानी पड़ी थी चप्पल से मार, पढ़ें कुछ अनसुने किस्से
बॉलीवुड

जब विनोद मेहरा के लिए रेखा को खानी पड़ी थी चप्पल से मार, पढ़ें कुछ अनसुने किस्से

बॉलीवुड में चाइल्ड आर्टिस्ट के तौर पर अपने करियर की शुरूआत करने वाले बेहतरीन कलाकार विनोद मेहरा की आज पुण्यतिथि है। उन्होने बेहद ही कम उम्र में दुनिया से अलविदा कह दिया था।

बॉलीवुड की मां के रूप में जानी जाती हैं निरूपा रॉय, दो बीघा जमीन से मिली थी पहचान 
बॉलीवुड

बॉलीवुड की मां के रूप में जानी जाती हैं निरूपा रॉय, दो बीघा जमीन से मिली थी पहचान 

बॉलीवुड में मां के रूप में पहचान बनाने वाली निरूपा रॉय को कौन नहीं जानता। निरूपा ने हर बड़े कलाकार की मां का रोल पर्दे पर बखूबी निभाया है।तभी तो निरूपा पर मां के लिए लिखा गया बेहतरीन गाना ‘तू कितनी भोली है प्यारी प्यारी है ओ मां ‘ फिल्माया गया वहीं दूसरी ओर बेहतरीन संवाद ‘मेरे पास मां है’ भी निरूपा पर ही फिल्माया गया।अपने अभिनय पर आज भी हिंदी फिल्मों के दर्शकों पर राज करने वाली निरूपा रॉय की आज पुण्यतिथि है।

और जब कांशीराम ने ठुकरा दिया था राष्ट्रपति पद, पढ़िए दिलचस्प वाकया
संपादक की पसंद

और जब कांशीराम ने ठुकरा दिया था राष्ट्रपति पद, पढ़िए दिलचस्प वाकया

पिछड़े, दलितों और आदिवासियों को राजनीति में एक अहम स्थान दिलाने वाले कांशीराम डॉ. भीमराव आंबेडकर के बाद दलितों के सबसे बड़े नेता माने जाते हैं। बुधवार को उनकी 13वीं पुण्यतिथि है। 8 नवंबर 2006 को उनका निधन हुआ था। कांशीराम से जुड़ी ऐसी कई बातें हैं जो उनके स्वभाव को दर्शाती है, लेकिन उन्होंने राष्ट्रपति बनने का ऑफर भी ठुकरा दिया था, यह बात बेहद कम लोग ही जानते हैं।

जीवन की सच्चाई से रूबरू कराता है मुंशी प्रेमचंद का लेखन 
संपादक की पसंद

जीवन की सच्चाई से रूबरू कराता है मुंशी प्रेमचंद का लेखन 

साहित्य जगत में कुछ नाम ऐसे हैं जो जिंदगी की सच्चाई से रूबरू कराते हैं। उनका लेखन काल्पनिक रचना संसार रचने के बजाय जीवन की वास्तविकता को सामने लाकर रख देता है।जी हां, हम बात कर रहे हैं मुंशी प्रेमचंद की जिनकी कहानियां पढ़कर बच्चे बड़े होते हैं, उनकी कहानियों के किरदार कहीं से भी काल्पनिक नहीं लगते बल्कि हमारे सामने चलते-फिरते नजर आते हैं।प्रेमचंद की कोई भी कहानी या उपन्यास पढ़िये आपको यही लगेगा जैसे आप इन पात्रों से मिले हैं, आसपास कहीं देखा है, तो ऐसे बिलकुल अपने पास के पात्रों को जोड़कर कहानी व उपन्यास रचने में माहिर थे प्रेमचंद।

पुण्यतिथि विशेष : जानिए कैसी थी सुल्तान सलाहुद्दीन ओवैसी की शख्सियत 
संपादक की पसंद

पुण्यतिथि विशेष : जानिए कैसी थी सुल्तान सलाहुद्दीन ओवैसी की शख्सियत 

ओवैसी को देश के साथ साथ हैदराबाद की राजनीति में सबसे मजबूत व्यक्ति माना जाता था। उनका वर्चस्व इतना था कि मुस्लिम वोट बैंक हमेशा ही उनके साथ रहता था, जिससे उन्हें हैदराबाद में सबसे कुशल राजनेता माना जाता था।

पुण्यतिथि विशेष : ‘राधा’ ने बना दिया हसरत जयपुरी को शायर, सुनें दिल को छू जाने वाले ये गीत   
बॉलीवुड

पुण्यतिथि विशेष : ‘राधा’ ने बना दिया हसरत जयपुरी को शायर, सुनें दिल को छू जाने वाले ये गीत  

बतौर बस कंडक्टर अपने करियर की शुरुआत करने वाले हसरते जयपुरी ने हिंदी सिनेमा को कई ऐसे गाने दिए हैं जो हर हिंदुस्तानी की जुबान पर चढ़े हुए हैं। राज कपूर ने उन्हें फ़िल्मों में काम करने का मौका दिया। इसके बाद हसरत फ़िल्मी दुनिया के प्रतिष्ठित गीतकारों में से एक हो गए। उनको याद करने का सबसे अच्छा तरीका उनकी कलम से निकले गानों को एक बार फिर से दोहराना है। 

पुण्यतिथि विशेष : हर एक के दिल को छू जाते हैं हसरत जयपुरी के ये गीत
मनोरंजन

पुण्यतिथि विशेष : हर एक के दिल को छू जाते हैं हसरत जयपुरी के ये गीत

अपने 40 साल के फिल्मी कैरियर में हसरत जयपुरी ने 350 फिल्मों के लिये करीब 2000 से अधिक गीत लिखे थे, जिसमें इनके लिखे कुछ गीत हमेशा के लिए अमर हो गए हैं, जैसे ही उन गीतों की धुन आपके कान में पड़ती है..उसके बोल मुख से अपने आप फूट पड़ते हैं।

अपने प्रेम पत्रों को कलजयी गानों में बदल देने वाले अनोखे शायर थे हसरत जयपुरी
संपादक की पसंद

अपने प्रेम पत्रों को कलजयी गानों में बदल देने वाले अनोखे शायर थे हसरत जयपुरी

बॉलीवुड में जब कभी भी टाइटल गीतों का जिक्र होगा तो सबसे पहला नाम गीतकार हसरत जयपुरी का आएगा। कहा जाता है कि उस जमाने में फिल्मों के निर्माताओं को जब कभी फिल्म के टाइटल का गीत लिखवाना होता था तो सबसे पहले हसरत जयपुरी से ही गुजारिश करते थे।

महादेवी वर्मा को कहा जाता था ‘आधुनिक मीरा’, जानिए उनसे जुड़ी और भी रोचक बातें
संपादक की पसंद

महादेवी वर्मा को कहा जाता था ‘आधुनिक मीरा’, जानिए उनसे जुड़ी और भी रोचक बातें

लोकप्रिय कवयित्री और ज्ञानपीठ पुरस्कार से नवाजी जा चुकीं महादेवी वर्मा की गिनती हिंदी साहित्य के चार स्तंभ सुमित्रनन्दन पंत, जयशंकर प्रसाद और सूर्यकान्त त्रिपाठी निराला के साथ की जाती है। 

रूह तक पहुंचने वाले अजीम शायर का नाम था जिगर मुरादाबादी, पढ़ें मोहब्बत भरे शेर  
संपादक की पसंद

रूह तक पहुंचने वाले अजीम शायर का नाम था जिगर मुरादाबादी, पढ़ें मोहब्बत भरे शेर  

हुस्न और इश्क़ का जिक्र आते ही जिगर मुरादाबादी का नाम बेसाख्ता जबान पर आ जाता है। मोहब्बत में महरूमी और मायूसी का सामना करने वाले जिगर की शायरी में ये एहसास शिद्दत से बयां होतें हैं। जिगर मुरादाबादी को ‘क्लासिकी’ गजल के आखिरी शायर माने जाते हैं।

पुण्यतिथि विशेष : वर्गीज कुरियन की एक पहल और बदल गई भारत की तस्वीर
संपादक की पसंद

पुण्यतिथि विशेष : वर्गीज कुरियन की एक पहल और बदल गई भारत की तस्वीर

आज उस शख्स का पुण्यतिथि है, जिन्होंने दूध की कमी से जूझने वाले देश को दुनिया का सर्वाधिक दूध उत्पादक देश बनाने में अहम भूमिका निभाई थी और यह शख्स थे वर्गीज कुरियन।

पुण्यतिथि विशेष : YSR  की लोकप्रिय शख्सियत पर एक नजर 
आंध्र-प्रदेश

पुण्यतिथि विशेष : YSR  की लोकप्रिय शख्सियत पर एक नजर 

नेता तो कई होते हैं पर वह नेता महान बन जाता है जो किसी राज्य पर नहीं बल्कि जनता के ह्रदय में अपने लिए खास जगह बना लेता है। जो जनता को करीब से देखता व उनकी समस्याओं को समझता है, उन्हें सुलझाने के लिए नीतियां बनाता है।ऐसे नेता को जनता उनके जाने के बाद भी भुला नहीं पाती। जी हां, ऐसे ही महान नेता थे वाईएस राजशेखर रेड्डी।

ऐसे मिला मुकेश को गायकी का पहला मौका,  बन गए दर्द भरे गीतों के सरताज  
मनोरंजन

ऐसे मिला मुकेश को गायकी का पहला मौका, बन गए दर्द भरे गीतों के सरताज  

हिंदी फिल्मों के पुराने गानों को आज भी पसंद किया जाता है और इसके साथ ही पसंद किये जाते हैं दर्द भरे गीतों के सरताज मुकेश। देखा जाए तो मुकेश ने कई तरह के गीत गाए पर याद रह गए उनके दर्द भरे गीत।वैसे तो मुकेश को इस दुनिया को अलविदा कहकर काफी बरस हो चुके हैं पर आज भी उनकी जगह भरी नहीं जा सकी, और न ही कभी भरेगी।

पुण्यतिथि विशेष : अटल बिहारी वाजपेयी की वो कविताएं, जिन्‍हें आप जरूर पढ़ना चाहेंगे
संपादक की पसंद

पुण्यतिथि विशेष : अटल बिहारी वाजपेयी की वो कविताएं, जिन्‍हें आप जरूर पढ़ना चाहेंगे

भारतीय जनता पार्टी के संस्थापक सदस्य, सबसे बड़े नेता, भारत रत्न और पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी की आज पहली पुण्यतिथि है। भाजपा के दिग्गज नेता अटल बिहारी वाजपेयी का पिछले साल 16 अगस्त को निधन हो गया था।

पुण्यतिथि विशेष : आपकी सोच बदल सकते हैं अटल बिहारी वाजपेयी के ये अनमोल विचार
संपादक की पसंद

पुण्यतिथि विशेष : आपकी सोच बदल सकते हैं अटल बिहारी वाजपेयी के ये अनमोल विचार

भारतीय जनता पार्टी के संस्थापक सदस्य, सबसे बड़े नेता, भारत रत्न और पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी की आज पहली पुण्यतिथि है।

अटल बिहारी वाजपेयी की आज पहली पुण्यतिथि, राष्ट्रपति, पीएम मोदी ने दी श्रद्धांजलि 
राष्ट्रीय

अटल बिहारी वाजपेयी की आज पहली पुण्यतिथि, राष्ट्रपति, पीएम मोदी ने दी श्रद्धांजलि 

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की आज पहली पुण्यतिथि है। इस मौके पर देशभर में आज कई कार्यक्रम आयोजित होंगे और उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की जाएगी। पीएम नरेंद्र मोदी अब से कुछ ही देर में ‘सदैव अटल’ स्मृति स्थल जाकर अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि देंगे।

पुण्यतिथि पर देखें शम्मी कपूर की बेहतरीन तस्वीरें 
गैलरी

पुण्यतिथि पर देखें शम्मी कपूर की बेहतरीन तस्वीरें 

बॉलीवुड के बेहतरीन अभिनेता शम्मी कपूर अपने निराले अंदाज के लिए जाने जाते थे। वे कभी किसी की तरह अभिनय नहीं करते थे बल्कि लोग उनके अंदाज की कॉपी किया करते थे। शम्मी का डांसिंग स्टाइल सबसे अलग था और यही उनकी पहचान भी बन गया। 

सुपरकूल स्टार के तौर पर जाने जाते हैं शम्मी कपूर, जानें उनकी दिलचस्प बातें 
मनोरंजन

सुपरकूल स्टार के तौर पर जाने जाते हैं शम्मी कपूर, जानें उनकी दिलचस्प बातें 

बॉलीवुड में जब भी किसी अलग व निराले अंदाज के अभिनेता की बात चलती है तो सबसे पहले नाम आता है शम्मी कपूर का। शम्मी कपूर जैसा अभिनय, डांस, डायलॉग डिलीवरी कोई और नहीं कर सकता। उनका अपना ही स्टाइल था।

गुलशन कुमार की हत्या आज भी है एक रहस्य, जानिए क्या हुआ था उस दिन
बॉलीवुड

गुलशन कुमार की हत्या आज भी है एक रहस्य, जानिए क्या हुआ था उस दिन

अपनी गायकी से संगीत को नई पहचान देने वाले गुलशन कुमार की आज (12 अगस्त) ही के दिन उनके घर के नजदीक गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। गुलशन कुमार की हत्या से पूरी फिल्म इंडस्ट्री स्तब्ध थी। आज तक किसी को नहीं पता चला आखिर गुलशन कुमार की हत्या के पीछे वजह क्या थी?

रवीन्द्रनाथ टैगोर : देश प्रेम का विस्तार विश्व प्रेम के रूप में होना ही मानवता है
संपादक की पसंद

रवीन्द्रनाथ टैगोर : देश प्रेम का विस्तार विश्व प्रेम के रूप में होना ही मानवता है

रवीन्द्रनाथ टैगोर यूं तो बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे, पर बंगाली साहित्य में उनका अप्रतिम योगदान रहा। उन्होंने महाकाव्य को छोड़कर तकरीबन सभी विधाओं में साहित्य रचना की। रवीन्द्रनाथ ने करीब ढाई हजार गीत लिखे और संगीतबद्ध किए।

पुण्यतिथि विशेष : जब तिलक को राजद्रोह के आरोप में भेजा गया ‘माण्डले’ जेल
संपादक की पसंद

पुण्यतिथि विशेष : जब तिलक को राजद्रोह के आरोप में भेजा गया ‘माण्डले’ जेल

गुलाम भारत की आजादी के लिए अंग्रेजों से लोहा लेने वाले महान समाज सुधारक और स्वतंत्रता सेनानी बाल गंगाधर तिलक की आज पुण्यतिथि है। माना जाता है कि महात्मा गांधी के आंदोलन को सफल बनाने में सबसे बड़ा योगदान तिलक का ही था।

पुण्यतिथि विशेष : इसलिए लता मंगेशकर ने मोहम्मद रफी के साथ बंद कर दी थी गायकी
बॉलीवुड

पुण्यतिथि विशेष : इसलिए लता मंगेशकर ने मोहम्मद रफी के साथ बंद कर दी थी गायकी

मोहम्मद रफी फिल्म इंडस्ट्री में मृदु स्वाभाव के कारण जाने जाते थे, लेकिन एक बार उनकी कोकिल कंठ लता मंगेश्कर के साथ अनबन हो गई थी।

Mohammed Rafi  : मोहम्मद रफी के इन गानों ने उन्हें बनाया ‘बेमिसाल’, आप भी सुनें
बॉलीवुड

Mohammed Rafi : मोहम्मद रफी के इन गानों ने उन्हें बनाया ‘बेमिसाल’, आप भी सुनें

अपनी मखमली आवाज से आज भी करोंड़ों दिलों पर राज करने वाले मशहूर गायक मोहम्मद रफी की बुधवार (31 जुलाई) को पुण्यतिथि है। उन्हें श्रद्धांजलि देने का सबसे बेहतर तरीका है कि उनके यादगार गानों को सुना जाए। आपके लिए ‘बेमिसाल’ रफी साहब के कुछ ऐसे ही गीत हैं, जिसे सुनकर आप भी यादों में खोए बिना नहीं रह सकते।   

पुण्यतिथि विशेष : अब्दुल कलाम की जिंदगी से जुड़े ये रोचक तथ्य क्या जानते हैं आप
गैलरी

पुण्यतिथि विशेष : अब्दुल कलाम की जिंदगी से जुड़े ये रोचक तथ्य क्या जानते हैं आप

27 जुलाई 2015 की शाम अब्दुल कलाम भारतीय प्रबंधन संस्थान शिलोंग में एक व्याख्यान दे रहे थे, उस वक्त उन्हें दिल का दौरा पड़ा और वह बेहोश हो कर गिर पड़े। अस्पताल ले जाने के कुछ ही देर बाद डॉक्टरों ने उनकी मृत्यु की पुष्टि कर दी।