Tue Oct 22, 2019 Telugu English E-Paper Education
ब्रेकिंग न्यूज़
योगी सरकार ने अयोध्या के ‘दीपोत्सव’ को राजकीय मेला घोषित किया
हरियाणा के पांच विधानसभा क्षेत्रों में कल फिर से डाले जाएंगे वोट
जम्मू-कश्मीर के अवंतीपोरा में सुरक्षा बलों ने मुठभेड़ में 3 आतंकियों को किया ढेर
कमलेश तिवारी हत्याकांड : गुजरात ATS ने आरोपी अशफाक और मुईनुद्दीन को किया गिरफ्तार  
शिवानंद तिवारी ने RJD के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पद से दिया इस्तीफा

`death anniversary` से सम्बंधित परिणाम

बॉलीवुड की मां के रूप में जानी जाती हैं निरूपा रॉय, दो बीघा जमीन से मिली थी पहचान 
बॉलीवुड

बॉलीवुड की मां के रूप में जानी जाती हैं निरूपा रॉय, दो बीघा जमीन से मिली थी पहचान 

बॉलीवुड में मां के रूप में पहचान बनाने वाली निरूपा रॉय को कौन नहीं जानता। निरूपा ने हर बड़े कलाकार की मां का रोल पर्दे पर बखूबी निभाया है।तभी तो निरूपा पर मां के लिए लिखा गया बेहतरीन गाना ‘तू कितनी भोली है प्यारी प्यारी है ओ मां ‘ फिल्माया गया वहीं दूसरी ओर बेहतरीन संवाद ‘मेरे पास मां है’ भी निरूपा पर ही फिल्माया गया।अपने अभिनय पर आज भी हिंदी फिल्मों के दर्शकों पर राज करने वाली निरूपा रॉय की आज पुण्यतिथि है।

और जब कांशीराम ने ठुकरा दिया था राष्ट्रपति पद, पढ़िए दिलचस्प वाकया
संपादक की पसंद

और जब कांशीराम ने ठुकरा दिया था राष्ट्रपति पद, पढ़िए दिलचस्प वाकया

पिछड़े, दलितों और आदिवासियों को राजनीति में एक अहम स्थान दिलाने वाले कांशीराम डॉ. भीमराव आंबेडकर के बाद दलितों के सबसे बड़े नेता माने जाते हैं। बुधवार को उनकी 13वीं पुण्यतिथि है। 8 नवंबर 2006 को उनका निधन हुआ था। कांशीराम से जुड़ी ऐसी कई बातें हैं जो उनके स्वभाव को दर्शाती है, लेकिन उन्होंने राष्ट्रपति बनने का ऑफर भी ठुकरा दिया था, यह बात बेहद कम लोग ही जानते हैं।

जीवन की सच्चाई से रूबरू कराता है मुंशी प्रेमचंद का लेखन 
संपादक की पसंद

जीवन की सच्चाई से रूबरू कराता है मुंशी प्रेमचंद का लेखन 

साहित्य जगत में कुछ नाम ऐसे हैं जो जिंदगी की सच्चाई से रूबरू कराते हैं। उनका लेखन काल्पनिक रचना संसार रचने के बजाय जीवन की वास्तविकता को सामने लाकर रख देता है।जी हां, हम बात कर रहे हैं मुंशी प्रेमचंद की जिनकी कहानियां पढ़कर बच्चे बड़े होते हैं, उनकी कहानियों के किरदार कहीं से भी काल्पनिक नहीं लगते बल्कि हमारे सामने चलते-फिरते नजर आते हैं।प्रेमचंद की कोई भी कहानी या उपन्यास पढ़िये आपको यही लगेगा जैसे आप इन पात्रों से मिले हैं, आसपास कहीं देखा है, तो ऐसे बिलकुल अपने पास के पात्रों को जोड़कर कहानी व उपन्यास रचने में माहिर थे प्रेमचंद।

पुण्यतिथि विशेष : जानिए कैसी थी सुल्तान सलाहुद्दीन ओवैसी की शख्सियत 
संपादक की पसंद

पुण्यतिथि विशेष : जानिए कैसी थी सुल्तान सलाहुद्दीन ओवैसी की शख्सियत 

ओवैसी को देश के साथ साथ हैदराबाद की राजनीति में सबसे मजबूत व्यक्ति माना जाता था। उनका वर्चस्व इतना था कि मुस्लिम वोट बैंक हमेशा ही उनके साथ रहता था, जिससे उन्हें हैदराबाद में सबसे कुशल राजनेता माना जाता था।

पुण्यतिथि विशेष : ‘राधा’ ने बना दिया हसरत जयपुरी को शायर, सुनें दिल को छू जाने वाले ये गीत   
बॉलीवुड

पुण्यतिथि विशेष : ‘राधा’ ने बना दिया हसरत जयपुरी को शायर, सुनें दिल को छू जाने वाले ये गीत  

बतौर बस कंडक्टर अपने करियर की शुरुआत करने वाले हसरते जयपुरी ने हिंदी सिनेमा को कई ऐसे गाने दिए हैं जो हर हिंदुस्तानी की जुबान पर चढ़े हुए हैं। राज कपूर ने उन्हें फ़िल्मों में काम करने का मौका दिया। इसके बाद हसरत फ़िल्मी दुनिया के प्रतिष्ठित गीतकारों में से एक हो गए। उनको याद करने का सबसे अच्छा तरीका उनकी कलम से निकले गानों को एक बार फिर से दोहराना है। 

पुण्यतिथि विशेष : हर एक के दिल को छू जाते हैं हसरत जयपुरी के ये गीत
मनोरंजन

पुण्यतिथि विशेष : हर एक के दिल को छू जाते हैं हसरत जयपुरी के ये गीत

अपने 40 साल के फिल्मी कैरियर में हसरत जयपुरी ने 350 फिल्मों के लिये करीब 2000 से अधिक गीत लिखे थे, जिसमें इनके लिखे कुछ गीत हमेशा के लिए अमर हो गए हैं, जैसे ही उन गीतों की धुन आपके कान में पड़ती है..उसके बोल मुख से अपने आप फूट पड़ते हैं।

अपने प्रेम पत्रों को कलजयी गानों में बदल देने वाले अनोखे शायर थे हसरत जयपुरी
संपादक की पसंद

अपने प्रेम पत्रों को कलजयी गानों में बदल देने वाले अनोखे शायर थे हसरत जयपुरी

बॉलीवुड में जब कभी भी टाइटल गीतों का जिक्र होगा तो सबसे पहला नाम गीतकार हसरत जयपुरी का आएगा। कहा जाता है कि उस जमाने में फिल्मों के निर्माताओं को जब कभी फिल्म के टाइटल का गीत लिखवाना होता था तो सबसे पहले हसरत जयपुरी से ही गुजारिश करते थे।

महादेवी वर्मा को कहा जाता था ‘आधुनिक मीरा’, जानिए उनसे जुड़ी और भी रोचक बातें
संपादक की पसंद

महादेवी वर्मा को कहा जाता था ‘आधुनिक मीरा’, जानिए उनसे जुड़ी और भी रोचक बातें

लोकप्रिय कवयित्री और ज्ञानपीठ पुरस्कार से नवाजी जा चुकीं महादेवी वर्मा की गिनती हिंदी साहित्य के चार स्तंभ सुमित्रनन्दन पंत, जयशंकर प्रसाद और सूर्यकान्त त्रिपाठी निराला के साथ की जाती है। 

रूह तक पहुंचने वाले अजीम शायर का नाम था जिगर मुरादाबादी, पढ़ें मोहब्बत भरे शेर  
संपादक की पसंद

रूह तक पहुंचने वाले अजीम शायर का नाम था जिगर मुरादाबादी, पढ़ें मोहब्बत भरे शेर  

हुस्न और इश्क़ का जिक्र आते ही जिगर मुरादाबादी का नाम बेसाख्ता जबान पर आ जाता है। मोहब्बत में महरूमी और मायूसी का सामना करने वाले जिगर की शायरी में ये एहसास शिद्दत से बयां होतें हैं। जिगर मुरादाबादी को ‘क्लासिकी’ गजल के आखिरी शायर माने जाते हैं।

पुण्यतिथि विशेष : वर्गीज कुरियन की एक पहल और बदल गई भारत की तस्वीर
संपादक की पसंद

पुण्यतिथि विशेष : वर्गीज कुरियन की एक पहल और बदल गई भारत की तस्वीर

आज उस शख्स का पुण्यतिथि है, जिन्होंने दूध की कमी से जूझने वाले देश को दुनिया का सर्वाधिक दूध उत्पादक देश बनाने में अहम भूमिका निभाई थी और यह शख्स थे वर्गीज कुरियन।

पुण्यतिथि विशेष : YSR  की लोकप्रिय शख्सियत पर एक नजर 
आंध्र-प्रदेश

पुण्यतिथि विशेष : YSR  की लोकप्रिय शख्सियत पर एक नजर 

नेता तो कई होते हैं पर वह नेता महान बन जाता है जो किसी राज्य पर नहीं बल्कि जनता के ह्रदय में अपने लिए खास जगह बना लेता है। जो जनता को करीब से देखता व उनकी समस्याओं को समझता है, उन्हें सुलझाने के लिए नीतियां बनाता है।ऐसे नेता को जनता उनके जाने के बाद भी भुला नहीं पाती। जी हां, ऐसे ही महान नेता थे वाईएस राजशेखर रेड्डी।

ऐसे मिला मुकेश को गायकी का पहला मौका,  बन गए दर्द भरे गीतों के सरताज  
मनोरंजन

ऐसे मिला मुकेश को गायकी का पहला मौका, बन गए दर्द भरे गीतों के सरताज  

हिंदी फिल्मों के पुराने गानों को आज भी पसंद किया जाता है और इसके साथ ही पसंद किये जाते हैं दर्द भरे गीतों के सरताज मुकेश। देखा जाए तो मुकेश ने कई तरह के गीत गाए पर याद रह गए उनके दर्द भरे गीत।वैसे तो मुकेश को इस दुनिया को अलविदा कहकर काफी बरस हो चुके हैं पर आज भी उनकी जगह भरी नहीं जा सकी, और न ही कभी भरेगी।

पुण्यतिथि विशेष : अटल बिहारी वाजपेयी की वो कविताएं, जिन्‍हें आप जरूर पढ़ना चाहेंगे
संपादक की पसंद

पुण्यतिथि विशेष : अटल बिहारी वाजपेयी की वो कविताएं, जिन्‍हें आप जरूर पढ़ना चाहेंगे

भारतीय जनता पार्टी के संस्थापक सदस्य, सबसे बड़े नेता, भारत रत्न और पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी की आज पहली पुण्यतिथि है। भाजपा के दिग्गज नेता अटल बिहारी वाजपेयी का पिछले साल 16 अगस्त को निधन हो गया था।

अटल बिहारी वाजपेयी के ये बड़े फैसले, जिसने बदली भारत की तस्वीर
गेस्ट कॉलम

अटल बिहारी वाजपेयी के ये बड़े फैसले, जिसने बदली भारत की तस्वीर

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की आज पहली पुण्यतिथि है। भाजपा को बीज की तरह बोने वाले वाजपेयी उस वटवृक्ष के सबसे उदारवादी और बड़े नेता थे। वह तीन बार प्रधानमंत्री बने और अपने फैसलों से सभी को चौंका दिया। अटल बिहारी वाजपेयी के कई ऐसे फैसले हैं जो देश हमेश याद करेगा।

पुण्यतिथि विशेष : आपकी सोच बदल सकते हैं अटल बिहारी वाजपेयी के ये अनमोल विचार
संपादक की पसंद

पुण्यतिथि विशेष : आपकी सोच बदल सकते हैं अटल बिहारी वाजपेयी के ये अनमोल विचार

भारतीय जनता पार्टी के संस्थापक सदस्य, सबसे बड़े नेता, भारत रत्न और पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी की आज पहली पुण्यतिथि है।

अटल बिहारी वाजपेयी की आज पहली पुण्यतिथि, राष्ट्रपति, पीएम मोदी ने दी श्रद्धांजलि 
राष्ट्रीय

अटल बिहारी वाजपेयी की आज पहली पुण्यतिथि, राष्ट्रपति, पीएम मोदी ने दी श्रद्धांजलि 

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की आज पहली पुण्यतिथि है। इस मौके पर देशभर में आज कई कार्यक्रम आयोजित होंगे और उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की जाएगी। पीएम नरेंद्र मोदी अब से कुछ ही देर में ‘सदैव अटल’ स्मृति स्थल जाकर अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि देंगे।

पुण्यतिथि पर देखें शम्मी कपूर की बेहतरीन तस्वीरें 
गैलरी

पुण्यतिथि पर देखें शम्मी कपूर की बेहतरीन तस्वीरें 

बॉलीवुड के बेहतरीन अभिनेता शम्मी कपूर अपने निराले अंदाज के लिए जाने जाते थे। वे कभी किसी की तरह अभिनय नहीं करते थे बल्कि लोग उनके अंदाज की कॉपी किया करते थे। शम्मी का डांसिंग स्टाइल सबसे अलग था और यही उनकी पहचान भी बन गया। 

सुपरकूल स्टार के तौर पर जाने जाते हैं शम्मी कपूर, जानें उनकी दिलचस्प बातें 
मनोरंजन

सुपरकूल स्टार के तौर पर जाने जाते हैं शम्मी कपूर, जानें उनकी दिलचस्प बातें 

बॉलीवुड में जब भी किसी अलग व निराले अंदाज के अभिनेता की बात चलती है तो सबसे पहले नाम आता है शम्मी कपूर का। शम्मी कपूर जैसा अभिनय, डांस, डायलॉग डिलीवरी कोई और नहीं कर सकता। उनका अपना ही स्टाइल था।

गुलशन कुमार की हत्या आज भी है एक रहस्य, जानिए क्या हुआ था उस दिन
बॉलीवुड

गुलशन कुमार की हत्या आज भी है एक रहस्य, जानिए क्या हुआ था उस दिन

अपनी गायकी से संगीत को नई पहचान देने वाले गुलशन कुमार की आज (12 अगस्त) ही के दिन उनके घर के नजदीक गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। गुलशन कुमार की हत्या से पूरी फिल्म इंडस्ट्री स्तब्ध थी। आज तक किसी को नहीं पता चला आखिर गुलशन कुमार की हत्या के पीछे वजह क्या थी?

रवीन्द्रनाथ टैगोर : देश प्रेम का विस्तार विश्व प्रेम के रूप में होना ही मानवता है
संपादक की पसंद

रवीन्द्रनाथ टैगोर : देश प्रेम का विस्तार विश्व प्रेम के रूप में होना ही मानवता है

रवीन्द्रनाथ टैगोर यूं तो बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे, पर बंगाली साहित्य में उनका अप्रतिम योगदान रहा। उन्होंने महाकाव्य को छोड़कर तकरीबन सभी विधाओं में साहित्य रचना की। रवीन्द्रनाथ ने करीब ढाई हजार गीत लिखे और संगीतबद्ध किए।

पुण्यतिथि विशेष : जब तिलक को राजद्रोह के आरोप में भेजा गया ‘माण्डले’ जेल
संपादक की पसंद

पुण्यतिथि विशेष : जब तिलक को राजद्रोह के आरोप में भेजा गया ‘माण्डले’ जेल

गुलाम भारत की आजादी के लिए अंग्रेजों से लोहा लेने वाले महान समाज सुधारक और स्वतंत्रता सेनानी बाल गंगाधर तिलक की आज पुण्यतिथि है। माना जाता है कि महात्मा गांधी के आंदोलन को सफल बनाने में सबसे बड़ा योगदान तिलक का ही था।

पुण्यतिथि विशेष : इसलिए लता मंगेशकर ने मोहम्मद रफी के साथ बंद कर दी थी गायकी
बॉलीवुड

पुण्यतिथि विशेष : इसलिए लता मंगेशकर ने मोहम्मद रफी के साथ बंद कर दी थी गायकी

मोहम्मद रफी फिल्म इंडस्ट्री में मृदु स्वाभाव के कारण जाने जाते थे, लेकिन एक बार उनकी कोकिल कंठ लता मंगेश्कर के साथ अनबन हो गई थी।

Mohammed Rafi  : मोहम्मद रफी के इन गानों ने उन्हें बनाया ‘बेमिसाल’, आप भी सुनें
बॉलीवुड

Mohammed Rafi : मोहम्मद रफी के इन गानों ने उन्हें बनाया ‘बेमिसाल’, आप भी सुनें

अपनी मखमली आवाज से आज भी करोंड़ों दिलों पर राज करने वाले मशहूर गायक मोहम्मद रफी की बुधवार (31 जुलाई) को पुण्यतिथि है। उन्हें श्रद्धांजलि देने का सबसे बेहतर तरीका है कि उनके यादगार गानों को सुना जाए। आपके लिए ‘बेमिसाल’ रफी साहब के कुछ ऐसे ही गीत हैं, जिसे सुनकर आप भी यादों में खोए बिना नहीं रह सकते।   

पुण्यतिथि विशेष : अब्दुल कलाम की जिंदगी से जुड़े ये रोचक तथ्य क्या जानते हैं आप
गैलरी

पुण्यतिथि विशेष : अब्दुल कलाम की जिंदगी से जुड़े ये रोचक तथ्य क्या जानते हैं आप

27 जुलाई 2015 की शाम अब्दुल कलाम भारतीय प्रबंधन संस्थान शिलोंग में एक व्याख्यान दे रहे थे, उस वक्त उन्हें दिल का दौरा पड़ा और वह बेहोश हो कर गिर पड़े। अस्पताल ले जाने के कुछ ही देर बाद डॉक्टरों ने उनकी मृत्यु की पुष्टि कर दी।

पुण्यतिथि विशेष : महमूद अली इस तरह बने बॉलीवुड के ‘कॉमेडी किंग’
संपादक की पसंद

पुण्यतिथि विशेष : महमूद अली इस तरह बने बॉलीवुड के ‘कॉमेडी किंग’

महमूद का नाम अपने समय में इस कदर कायम था कि उनके बिना फिल्में अधूरी मानी जाती थी। महमूद जिनते बेहतरीन अभिनेता थे उतने ही दरियादिल भी थे।

संवाद अदायगी के बेताज बादशाह थे राजकुमार 
मनोरंजन

संवाद अदायगी के बेताज बादशाह थे राजकुमार 

बॉलीवुड में अपने अभिनय से सबके दिलों पर राज करने वाले बॉलीवुड के सुपरस्टार राज कुमार अपने दौर के लोकप्रिय एक्टर रहे हैं। बता दें कि राज कुमार का जन्म 8 अक्टूबर 1926 को बलूचिस्तान (पाकिस्तान) में हुआ था। आज राज कुमार की डेथ एनिवर्सरी है और इस मौके पर बताते हैं उनसे जुड़ी कुछ बातें। 

एयरहोस्टेस पर आ गया था राजकुमार का दिल, जानें उनसे जुड़ी दिलचस्प बातें और डायलॉग
संपादक की पसंद

एयरहोस्टेस पर आ गया था राजकुमार का दिल, जानें उनसे जुड़ी दिलचस्प बातें और डायलॉग

बॉलीवुड के सुपरस्टार राज कुमार के बारे में कहा जाता है कि उनके दौर में जैसी फैन फॉलोइंग उनकी थी वैसी उससे पहले किसी के लिए भी नहीं देखी गई थी। वो ऐसे शख्सियत से थे, जिनके दमदार डायलॉग सुनकर थियेटर तालियों से गुंजने लगते थे।

पुण्यतिथि विशेष: डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी की मौत एक रहस्य
समाचार

पुण्यतिथि विशेष: डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी की मौत एक रहस्य

भारतीय राजनीति में जनसंघ की अलख जगाने वाले डॉ. श्याम प्रसाद मुखर्जी की आज पुण्यतिथि है। महज 33 साल की उम्र में डॉ॰ श्यामाप्रसाद मुखर्जी कलकत्ता विश्वविद्यालय के कुलपति बने थे। इस पद को सुशोभित करने वाले वे सबसे कम आयु के कुलपति थे। 

मेहदी हसन की बरसी : मोहब्बत करने वाले कम न होंगे, तेरी महफिल में लेकिन हम न होंगे
संपादक की पसंद

मेहदी हसन की बरसी : मोहब्बत करने वाले कम न होंगे, तेरी महफिल में लेकिन हम न होंगे

भारत में जन्मे पाकिस्तान के मशहूर गजल गायक मेहदी हसन का आज 7वीं पुण्यतिथि है। आज ही के दिन साल 2012 में बीमारी से लड़ते हुए मेहदी हसन का निधन हो गया था। उनका जन्म राजस्थान के झुंझुनूं जिले के लूणा गांव में 18 जुलाई 1927 को हुआ था।

पुण्यतिथि विशेष : भारतीय सिनेमा के युगपुरूष थे पृथ्वीराज कपूर
संपादक की पसंद

पुण्यतिथि विशेष : भारतीय सिनेमा के युगपुरूष थे पृथ्वीराज कपूर

अपनी कड़क आवाज और दमदार अभिनय के बल पर लगभग चार दशकों तक सिने प्रेमियों के दिलों पर राज करने वाले भारतीय सिनेमा के युगपुरूष पृथ्वीराज कपूर का आज पुण्यतिथि है। उन्होंने कई सुपरहिट फिल्में दीं, जिन्हें न केवल देश बल्कि सात समुन्दर पार भी सराहा गया। पृथ्वीराज कपूर को भारतीय सिनेमा का विकास पुरुष कहा जाता है।

पुण्यतिथि विशेष : समय से आगे के फिल्मकार थे महबूब खान
संपादक की पसंद

पुण्यतिथि विशेष : समय से आगे के फिल्मकार थे महबूब खान

हिन्दी सिनेमा जगत के युगपुरुष महबूब खान को गुजरे पांच दशक से ज्यादा बीत चुके हैं पर उनका महत्व आज भी पूरी दुनिया के सामने, उनकी मैग्नम ओपस ‘मदर इंडिया’ के तौर पर है। भारतीय इस पर गर्व करते हैं और करते रहेंगे।

पुण्यतिथि विशेष : भारत के पहले पीएम पंडित नेहरू, जिनकी वसीयत में लिखी थी ये बातें
संपादक की पसंद

पुण्यतिथि विशेष : भारत के पहले पीएम पंडित नेहरू, जिनकी वसीयत में लिखी थी ये बातें

देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित ज्वाहरलाल नेहरू की आज 55वीं पुण्यतिथि है। आज ही के दिन यनी 27 मई 1964 में देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया था। जवाहरलाल नेहरू का जन्म 14 नवंबर 1889 को इलाहाबाद में एक इज्जतदार और रुतबा रखने वाले परिवार में हुआ था।

देश के पहले PM पं. नेहरू की पुण्यतिथि आज, मनमोहन, सोनिया और राहुल ने दी श्रद्धांजलि
राष्ट्रीय

देश के पहले PM पं. नेहरू की पुण्यतिथि आज, मनमोहन, सोनिया और राहुल ने दी श्रद्धांजलि

देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित ज्वाहरलाल नेहरू की आज 55वीं पुण्यतिथि है। दिल्ली के शांतिवन में उन्हें श्रद्धांजलि दी जा रही है। इस मौके पर पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, पूर्व उप-राष्ट्रपति हामिद अंसारी, यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने दिल्ली स्थित शांतिवन जाकर उन्हें श्रद्धांजलि दी।

पिता को याद कर भावुक हुए राहुल गांधी, प्रियंका ने शेयर की कविता
राष्ट्रीय राजनीति

पिता को याद कर भावुक हुए राहुल गांधी, प्रियंका ने शेयर की कविता

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपने पिता एवं पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की पुण्यतिथि के अवसर पर उन्हें याद करते हुए मंगलवार को कहा कि वह अपने पिता की कमी हमेशा महसूस करते हैं। 

पूर्व पीएम राजीव गांधी की पुण्यतिथि : पीएम मोदी ने दी श्रद्धांजलि, प्रियंका ने बताया ‘हीरो’ 
राष्ट्रीय

पूर्व पीएम राजीव गांधी की पुण्यतिथि : पीएम मोदी ने दी श्रद्धांजलि, प्रियंका ने बताया ‘हीरो’ 

आज देश के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की पुण्यतिथि है। आज से ठीक 28 साल पहले हमारे देश ने स्वतंत्र भारत के इतिहास में सबसे दुर्भाग्यपूर्ण दिनों में से एक देखा था। 21 मई, 1991 दुखद दिन था जब हमने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को खो दिया था।

हसरत मोहानी- मुद्दतें गुज़रीं पर अब तक वो ठिकाना याद है
संपादक की पसंद

हसरत मोहानी- मुद्दतें गुज़रीं पर अब तक वो ठिकाना याद है

भारत की आजादी में अहम योगदान देने वाले हसरत मोहानी एक महान शायर होने के साथ-साथ एक एक पत्रकार थे। उनका नाम फख्र से लिया जाता है। आज हसरत मोहानी का पुण्यतिथि है। इस मौके पर उनके कहे खूबसूरत अशआर पेशे खिदमत है...

पुण्यतिथि विशेष :  इस शायर ने ही दिया था ‘इंकलाब ज़िंदाबाद’ का नारा
गेस्ट कॉलम

पुण्यतिथि विशेष :  इस शायर ने ही दिया था ‘इंकलाब ज़िंदाबाद’ का नारा

मौलाना हसरत मोहानी भारत के उन उम्दा शायरों में से एक हैं, जिन्होंने अपनी कलम से आजादी की एक लहर चलाई। भारत की आजादी में अहम योगदान देने वाले हसरत मोहानी एक महान शायर होने के साथ-साथ एक एक पत्रकार, राजनीतिज्ञ और स्वतंत्रता सेनानी के तौर पर भी उनका नाम फख्र से लिया जाता है।

पुण्यतिथि विशेष : कैफी के इस लाइन को सुनकर दिल दे बैठी थी शौकत आजमी
संपादक की पसंद

पुण्यतिथि विशेष : कैफी के इस लाइन को सुनकर दिल दे बैठी थी शौकत आजमी

कैफी की शायरी में उनके व्यक्तित्व के कई अक्स नजर आते हैं। कभी वह रूमानियत में डूबे आशिक नजर आते हैं, तो कभी बागी। कहते हैं कि जिसने भी उन्हें पहली बार सुना, अपना दिल कैफी को दे बैठा। ऐसा ही एक किस्सा उनके बारे में उनके समकालीन शायर निदा फाजली ने साझा किया था।