Sun Aug 19, 2018 Telugu English E-Paper Education
ब्रेकिंग न्यूज़
जगतगिरीगुट्टा में भवन से गिरकर व्यक्ति की मौत
उत्तराखंड के चमोली के पास बिरही में भूस्खलन, रास्ता बंद
राष्ट्रपति कोविंद ने बाढ़ के हालात पर केरल के सीएम और गवर्नर से की बात 
पश्चिम बंगाल केरल में बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए देगा 10 करोड़ रुपये 
AsianGames2018: अपूर्वी चंदीला और रवि कुमार ने जीता ब्रॉन्ज मेडल

`YS Jagan Padayatra Diary` से सम्बंधित परिणाम

238वें दिन की पदयात्रा डायरी : चंद्रबाबू का झूठे आश्वासनों से लोगों को गुमराह करना दुर्भाग्यपूर्ण 
प्रजा संकल्प यात्रा

238वें दिन की पदयात्रा डायरी : चंद्रबाबू का झूठे आश्वासनों से लोगों को गुमराह करना दुर्भाग्यपूर्ण 

चंद्रबाबू नायडू सरकार की मच्छरों पर दंडयात्रा बताते हुए झूठा प्रचार किया जा रहा है, लेकिन वास्तव में ऐसा कुछ नहीं हो रहा है। आदिवासियों ने कहा कि सरकार के कहने और कथनी में काफी फर्क है। केवल बातों से लोगों को गुमराह करना बहुत ही दुर्भाग्य की बात है।  

236वें दिन की डायरी : इस जिले के लोगों का प्यार हमेशा मेरे दिल में बना रहेगा 
प्रजा संकल्प यात्रा

236वें दिन की डायरी : इस जिले के लोगों का प्यार हमेशा मेरे दिल में बना रहेगा 

आज से पूर्वी व पश्चिमी गोदावरी जिलों में पदयात्रा समाप्त कर उत्तरांध्र में प्रवेश करने जा रहा हूं। पिताजी अकसर कहा करते थे कि गोदावरी जिले गृह जिलों की तरह सम्मान करते हैं। यहां मुझे भी सम्मान मिलना मैं अपना सौभाग्य मानता हूं। अब तक की 9 महीनों की पदयात्रा का एक-तिहाई यात्रा इन्हीं दो जिलों में चली और इसकी मुख्य वजह यहां के लोगों से मिला प्यार, सम्मान और समर्थन रहा। 

232वें दिन की पदयात्रा डायरी, YS जगन ने कहा- पेंशन को लेकर विश्वासघात करना है दुर्भाग्यपूर्ण
आंध्र-प्रदेश राजनीति

232वें दिन की पदयात्रा डायरी, YS जगन ने कहा- पेंशन को लेकर विश्वासघात करना है दुर्भाग्यपूर्ण

पदयात्रा बारिश के बावजूद जारी रही। लोगों की परेशानियों को देखते हुए पदयात्रा दोपहर तक स्थगित करनी पड़ी। गिडिजाम और एस अग्रहोरम ग्रामों में कापु समुदाय के लोगों की संख्या अधिक है। ग्रामवासियों ने मेरा अविस्मरणीय स्वागत एवं सम्मान किया।

231वें दिन की पदयात्रा डायरी, YS जगन ने कहा- बेल्ट शॉपों से तबाह हो रहे हैं परिवार
आंध्र-प्रदेश राजनीति

231वें दिन की पदयात्रा डायरी, YS जगन ने कहा- बेल्ट शॉपों से तबाह हो रहे हैं परिवार

हवा के कम दबाव के चलते हुई बारिश के दौरान जिले के श्रृंगावरम, बंगारय्यापेट, रौतुलापुड़ी से आज पदयात्रा संपन्न हुई। शराब का असर परिवार के पालनपोषण पर होने की कुछ घटनाओं की जानकारी मुझे मिली। श्रृंगावरम में कई महिलाओं ने शराब के विरोध में आक्रोश जताया। ग्राम में कुकुरमुत्ते की तरह बेल्ट शॉप (छोटी दुकानें, जहां पर शराब बेची जाती है) बने हैं।

 230वें दिन की पदयात्रा डायरी, YS जगन ने कहा- शुल्क पुनर्भुगतान को लेकर छात्रों के साथ धोखाधड़ी
आंध्र-प्रदेश राजनीति

230वें दिन की पदयात्रा डायरी, YS जगन ने कहा- शुल्क पुनर्भुगतान को लेकर छात्रों के साथ धोखाधड़ी

पदयात्रा के दौरान नेल्लीपुड़ी और शंखावरम ग्रामों में कई समस्याओं की जानकारी मिली। सहजता से सुलझानेवाली समस्या को लेकर प्रशासन और अधिकारियों द्वारा लापरवाही करना, आश्चर्यजनक है। सरकार की लापरवाही से ही समस्या बढ़ रही हैं।

229वें दिन की पदयात्रा डायरी, YS जगन ने कहा- बेरोजगारों को मानदेय के नाम पर किया गुमराह
आंध्र-प्रदेश राजनीति

229वें दिन की पदयात्रा डायरी, YS जगन ने कहा- बेरोजगारों को मानदेय के नाम पर किया गुमराह

पीठापुरम निर्वाचन क्षेत्र के गोल्लाप्रोलु और प्रतिपाडू निर्वाचन क्षेत्र के शंखावरम मंडल में पदयात्रा संपन्न हुई। प्रतिपाडू निर्वाचन क्षेत्र के लोगों ने गत चुनाव में YSR कांग्रेस पार्टी को जिताया, लेकिन चुनाव में जीत हासिल करनेवाले YSR कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार ने चंद्रबाबू द्वारा दिए गए प्रलोभन में दल बदला।

 221वें दिन की डायरी : आरोग्यक्षी का वैभव लौटाने का मेरा संकल्प और मजबूत हुआ
प्रजा संकल्प यात्रा

221वें दिन की डायरी : आरोग्यक्षी का वैभव लौटाने का मेरा संकल्प और मजबूत हुआ

आज मुझसे मिले किसानों द्वारा सुनाई गई कहानी इस बात को दर्शाती है कि एक नेता द्वारा दिये गए झूठे और खोखले आश्वसन का दुष्प्रभाव आम लोगों के जीवन पर कितना पड़ता है। 

219वें दिन की डायरी : कठपुतली हैं डिप्टी सीएम, सारे आधिकार बाप-बेटे के पास
प्रजा संकल्प यात्रा

219वें दिन की डायरी : कठपुतली हैं डिप्टी सीएम, सारे आधिकार बाप-बेटे के पास

सर्वधर्म प्रार्थना के बाद पेद्दापुरम निर्वाचन क्षेत्र के उंडूरु, सामर्लाकोटा में आज मेरी पदयात्रा चली। देश की आजादी से पहले पेद्दापुरम एक प्रमुख शिक्षा केंद्र बना हुआ था। सभी प्रकार की सुविधाएं और प्राकृतिक संसाधनों के अलावा इस निर्वाचन क्षेत्र से स्वयं उपमुख्यमंत्री प्रतिनिधित्व करते हैं, लेकिन आज यह विभिन्न समस्याओं से जूझ रहा है। 

218वें दिन की डायरी : फाइबर ग्रिड लोगों पर जबरन थोपने की क्या वजह है ?
प्रजा संकल्प यात्रा

218वें दिन की डायरी : फाइबर ग्रिड लोगों पर जबरन थोपने की क्या वजह है ?

आज की पदयात्रा पेद्दापुरम निर्वाचन क्षेत्र के अच्चमपेट, गोंचाला और उंडूरु के रास्ते चली। पेद्दापुरम से आए हुए युवकों ने सत्तारूढ़ दल के नेताओं की अराजकता के प्रति आक्रोश व्यक्त किया। 

216वें दिन की डायरी : दलितों के श्मशान घाटों पर टीडीपी नेताओं का कब्जा
प्रजा संकल्प यात्रा

216वें दिन की डायरी : दलितों के श्मशान घाटों पर टीडीपी नेताओं का कब्जा

आज मेरी यात्रा काकीनाड़ा शहर स्थित आदित्या कॉलेज सेंटर, माधवनगर, रंगराया मेडिकल कॉलेज, जेएनटीयू के रास्ते चली। यात्रा में महिलाएं, बच्चे और विद्यार्थी बड़ी संख्या में पहुंचे थे। जेएनटीयू के रास्ते जब पदयात्रा चल रही थी तब इस शिक्षण संस्था को विश्वविद्यालय का दर्जा मुहैया कर चुके पिताजी (वाईएस राजशेखर रेड्डी) को कॉलेज के कर्मचारियों ने याद किया। 

 215वें दिन की डायरी : चंद्रबाबू की नजर में क्या गरीबों की जिन्दगी तहस-नहस करना ही विकस है?
प्रजा संकल्प यात्रा

215वें दिन की डायरी : चंद्रबाबू की नजर में क्या गरीबों की जिन्दगी तहस-नहस करना ही विकस है?

नस्लवाद के खिलाफ निरंतर संघर्ष करने वाले नेलसन मंडेला की 100वीं जयंती पर उस महापुरुष को मन में याद किया।भेदभाव शब्ध सुनते ही 70 से अधिक आयु वाले दादा-दादी, 100 प्रतिशत दिव्यांग, बेसहारा विधवा बहनों तथा जिन्दगी बोझ बन जाने से झूज रहे गरीबों को कल्याण योजनाओं से दूर रख रहे शासकों की याद आई।  

214वें दिन की डायरी : और कबतक लोगों को धोखा देते रहेंगे चंद्रबाबू ?
प्रजा संकल्प यात्रा

214वें दिन की डायरी : और कबतक लोगों को धोखा देते रहेंगे चंद्रबाबू ?

आज की पदयात्रा अनपर्ति निर्वाचन क्षेत्र के करकुदुरु, अच्युतापुरत्रायम, रामेश्वरम गांवों के साथ काकीनाड़ा रूरल निर्वाचन क्षेत्र स्थित कोव्वाड़ा में भी चली। कोव्वाड़ा के पास हो रही भारी बारिश के बीच काकीनाड़ा रूरल निर्वाचन क्षेत्र के हजारों लोगों ने मेरा जोरदार स्वागत किया। 

213वें दिन की डायरी : बाबू सरकार ने चुनावी मेनिफेस्टो को वेबसाइट्स से क्यों हटाया?
प्रजा संकल्प यात्रा

213वें दिन की डायरी : बाबू सरकार ने चुनावी मेनिफेस्टो को वेबसाइट्स से क्यों हटाया?

आप चार वर्षों तक भाजपा के साथ रहने के बाद भी राज्य के लिए न विशेष दर्जा हासिल कर पाए और ना ही विभाजन कानून का एक भी आश्वासन को पूरा कर पाए। इसके बाद भी विकास के मामले में आपका आंध्र प्रदेश तेजी से आगे बढ़ने का प्रचार करना क्या लोगों को गुमराह करने जैसा नहीं है? 

212वें दिन की डायरी : चंद्रबाबू नायडू को और कितने लोगों की जान जाने के बाद होगा ज्ञानोदय ?
प्रजा संकल्प यात्रा

212वें दिन की डायरी : चंद्रबाबू नायडू को और कितने लोगों की जान जाने के बाद होगा ज्ञानोदय ?

आज सुबह ऊलपल्ली से शुरू हुई पदयात्रा बिक्कवोलु के रास्ते आगे बढ़ी और गोल्लाल मामिड़ाड में बारिश के बीच एक विशाल जनसभा के साथ समाप्त हो गई। आज मुझसे मिले बॉलबैंडमिंटन खिलाड़ियों ने कहा कि राष्ट्रीय स्तर पर चैंपियन ट्रॉफी जीतने के बावजूद सरकार की तरफ से कोई प्रोत्साहन नहीं मिलने से वे बहुत निराश हैं। 

210वें दिन की डायरी : पहले हस्ताक्षर पर खरा नहीं उतरना क्या राज्य के पांच करोड़ लोगों के साथ धोखा नहीं है?
प्रजा संकल्प यात्रा

210वें दिन की डायरी : पहले हस्ताक्षर पर खरा नहीं उतरना क्या राज्य के पांच करोड़ लोगों के साथ धोखा नहीं है?

कल पूरे दिन हुई बारिश की वजह से जलमग्न और कीचड़ भरी सड़कों से आज की पदयात्रा आगे बढ़ी। राज्य में सुख-शांति की बहाली, संस्कृति व साहित्य का विस्तार करने के उद्देश्य से राजा अनपोता रेड्डी के यहां शासन करने के कारण इसका नाम अनपर्ति बन गया है।

209वें दिन की डायरी : चंद्रबाबू के शासन में दलालों का बोलबाला, बदहाल स्थिति में किसान 
प्रजा संकल्प यात्रा

209वें दिन की डायरी : चंद्रबाबू के शासन में दलालों का बोलबाला, बदहाल स्थिति में किसान 

चारों तरफ हरीयाली और प्राकृतिक सौंदर्य से भरपुर पसलपूड़ी क्षेत्र फिल्मों की शूटिंग के लिए काफी मशहूर है। पेद्दाजीयर और चिन्नाजीयर स्वामियों के पैतृक गांव वाला निर्वाचन क्षेत्र है मंडपेट।

208वें दिन की डायरी, ‘आरोग्यश्री’ का नाम सुनते ही याद आते हैं वाईएसआर 
प्रजा संकल्प यात्रा

208वें दिन की डायरी, ‘आरोग्यश्री’ का नाम सुनते ही याद आते हैं वाईएसआर 

मेरी हर बात, हर कथनी और हर सोच में प्रति दिन पिताजी ही मेरे प्रेरणास्रोत बनते हैं। लोगों के बीच बीते उनके सफर के हर कदम ने मेरे व्यक्तित्व को प्रभावित किया है। पिताजी के मूल्यों के रास्ते विश्वसनीयता को साक्ष्य बनाकर चलूंगा यही बात दिल में सोचते और पिता को याद करते हुए उनकी जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की।

207वें दिन की डायरी : क्या लोगों को बुनियादी सुविधाएं मुहैया कराने में राजनीतिक भेदभाव सही है ?
प्रजा संकल्प यात्रा

207वें दिन की डायरी : क्या लोगों को बुनियादी सुविधाएं मुहैया कराने में राजनीतिक भेदभाव सही है ?

रामचंद्रापुरम निर्वाचन क्षेत्र में प्रजा संकल्प यात्रा में बड़ी संख्या में लोगों के साथ बारिश भी यात्रा का अनुसरण कर रही थी। आज भी बारिश की बूंदों के बीच अपने आत्मीय लोगों से मिलते और उनकी समस्याएं सुनते हुए मैंने अपने कदम आगे बढ़ाए। 

203वें दिन की डायरी : ‘लोगों को मुश्किलों से बचाने के बजाय उनकी पीठ में छुरा घौंपना दुर्भाग्यपूर्ण’ 
प्रजा संकल्प यात्रा

203वें दिन की डायरी : ‘लोगों को मुश्किलों से बचाने के बजाय उनकी पीठ में छुरा घौंपना दुर्भाग्यपूर्ण’ 

भारी भीड़ के बीच मेरी पदयात्रा गौतमी नदी पर बने बालयोगी पुल से गुजरी। सागर संगम की तरफ प्रवाहित हो रही गौतमी व गोदावरी नदी को देखकर लगा कि जल परियोजनाओं को जल्द से जल्द पूरा कर समुद्र में जाकर मिल रहे अपार जलसंपदा का सही इस्तेमाल करते हुए करोड़ों लोगों की सिंचाई और पेयजल की जरूरतों को पूरा करने का सौभाग्य और किसी को नहीं मिल सकता। 

202वें दिन की डायरी : ‘झूठे आश्वासनों से गुमराह करने वाले नेता कभी महान नहीं हो सकते’ 
प्रजा संकल्प यात्रा

202वें दिन की डायरी : ‘झूठे आश्वासनों से गुमराह करने वाले नेता कभी महान नहीं हो सकते’ 

काले बादलों के छट जाने के बाद भी चंद्रबाबू नायडू के शासन को लेकर यहां के लोगों का गुस्सा दिनों-दिन बढ़ता जा रहा है। बारिश की परवाह किए बिना भीगते हुए अपनी समस्याएं सुनाने लोग बड़ी संख्या में पहुंच रहे हैं। मुम्मिडीवरम में शुरू हुई आज की पदयात्रा वृद्ध गौतमी पर बने राघवेंद्र पुल के रास्ते गुजरी। 

201वें दिन की डायरी : कडपा स्टील प्लांट के लिए टीडीपी नेताओं का अनशन महज नौटंकी
प्रजा संकल्प यात्रा

201वें दिन की डायरी : कडपा स्टील प्लांट के लिए टीडीपी नेताओं का अनशन महज नौटंकी

श्रीभद्रकाली समेत मुरुमुल्ला वीरेश्वर स्वामी का प्रतिदिन कल्याण होने व आकर्षक अभयारण्य जंगल की वजह से देश का सबसे बड़ वनक्षेत्र बना है मुम्मिडीवरम। यह दुर्भाग्य की बात है कि यहां सभी प्रकार के प्राकृतिक संसाधान के बाद भी यह क्षेत्र विकास से कोसो दूर है।

 200वें दिन की डायरी : चंद्रबाबू को नगरम घटना के पीड़ितों के सवालों का जवाब देना ही पड़ेगा 
प्रजा संकल्प यात्रा

200वें दिन की डायरी : चंद्रबाबू को नगरम घटना के पीड़ितों के सवालों का जवाब देना ही पड़ेगा 

लोग ही सारथी बन जाने से सफलतापूर्वक चल रही संकल्प यात्रा के आज 200 दिन पूरे हो गए। इस लंबी यात्रा में लाखों लोगों से मिलने का सौभाग्य मुझे मिला। गरीबों के जीवन को करीब से देख पाया। लोगों की समस्याओं जानने के अलावा विश्वासघात के शिकार लोगों के दिलों की धड़कनें भी सुनीं।

199वें दिन की डायरी : चंद्रबाबू से नौकरी की सुरक्षा की आस लगाना होगी बेवकूफी
प्रजा संकल्प यात्रा

199वें दिन की डायरी : चंद्रबाबू से नौकरी की सुरक्षा की आस लगाना होगी बेवकूफी

हाथ में पार्टी का झंडा लिए हजारों आत्मीय लोगों का उत्साह और यहां की नदी पर पिताजी द्वारा बनवाए गए पुल से मेरी पदयात्रा गुजरी। इस क्षेत्र के लोगों के दशकों पुराना सपना पिताजी के कार्यकाल में साकार होना मेरे लिए गर्व की बात रही।

197वें दिन की डायरी : चंद्रबाबू के आश्वासन पानी की सतह पर बने बुलबुले की तरह हैं
राजनीति

197वें दिन की डायरी : चंद्रबाबू के आश्वासन पानी की सतह पर बने बुलबुले की तरह हैं

राजोलु और पी गन्नावरम निर्वाचन क्षेत्रों में पदयात्रा संपन्न हुई। इस क्षेत्र में कड़ी मेहनत से अपना जीवनयापन करनेवालों की संख्या अधिक है। समस्याओं से जुझनेवाले लोग नारियल की फसल से जुड़े हुए हैं। उनके कल्याण के बारे में सोचनेवाला कोई नहीं है, इसलिए उनकी समस्याओं की जानकारी लेना, मेरे लिए अहम लगा।

196वें दिन की डायरी : एक बार फिर राज्य के लोगों को गुमराह करने की कोशिश में चंद्रबाबू 
राजनीति

196वें दिन की डायरी : एक बार फिर राज्य के लोगों को गुमराह करने की कोशिश में चंद्रबाबू 

सुबह से मुसलाधार बारिश, इसके बावजूद चारों ओर से सैकड़ों खिलाड़ी पहुंचे। उनमें राष्ट्रीय, अंतर्राष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी भी शामिल थे। ओलंपिक दिवस के मौके पर सैकड़ों खिलाड़ी और बड़ी संख्या में पहुंचे खेल प्रेमियों के हर्षोल्लास के बीच ज्योति प्रज्ज्वलित करने के बाद झंडा फहरा कर ओलंपिक रन का उद्घाटन करना मेरे लिए बहुत ही सुखद रहा। 

191वें दिन की डायरी : लाखों गरीब विद्यार्थियों का भविष्य ताख पर रख रही बाबू सरकार 
राजनीति

191वें दिन की डायरी : लाखों गरीब विद्यार्थियों का भविष्य ताख पर रख रही बाबू सरकार 

पूरी दुनिया पिताजी की महानता को याद करने वाला दिन रहा फादर्स डे। पिताजी द्वारा चुने गए रास्ते और उनसे मिली प्रेरणा के साथ मैंने आज की पदयात्रा शुरू की। जिस तरह बचपन में पिताजी की उंगली पकड़ कर चला था, ठीक उसी तरह अब उनकी आशाओं के अनरूप आगे बढ़ रहा हूं।

189वें दिन की डायरी : चंद्रबाबू ने महिला सशक्तिकरण को निरार्थक बना दिया है
राजनीति

189वें दिन की डायरी : चंद्रबाबू ने महिला सशक्तिकरण को निरार्थक बना दिया है

कोनसीमा का मुख्य द्वार बने कोत्तापेट निर्वाचन क्षेत्र में आज मेरी पदयात्रा चली। यहां के लोगों ने कैनाल के किनारे बनी सड़क को फूलों से सजाकर मेरा स्वागत कर अपना प्यार जताया। मुझे ऐसा लगा कि कोनसीमा की ग्रामीण संस्कृति और वहां के जनजीवन का मानचित्र मेरे आंखों के सामने से गुजर रहा है। 

188वें दिन की डायरी : चंद्रबाबू का विद्युत कॉंट्रैक्ट कर्मचारियों के साथ विश्वासघात
समाचार

188वें दिन की डायरी : चंद्रबाबू का विद्युत कॉंट्रैक्ट कर्मचारियों के साथ विश्वासघात

आज कॉटन बैरेज सेंटर के पास मध्यान्ह भोजन का शिबिर था। बगल में गोदावरी और सामने ‘गोदावरी डेल्टा के पितामहा’ सर अर्थर कॉटन की प्रतिमा। वहीं पर पिताजी की विशाल मूर्ति बनी है। ये सभी इस बात की गवाह है कि महान कार्य करने वालों को लोग अपने दिलों में बसा लेते हैं।

187वें दिन की डायरी : कमीशन के लिए सब-कांट्रैक्टरों को सौंपे गए ‘पोलावरम’ के काम
समाचार

187वें दिन की डायरी : कमीशन के लिए सब-कांट्रैक्टरों को सौंपे गए ‘पोलावरम’ के काम

पावन गोदावरी नदी के तट पर मैं आज पहुंचा। यहां के लोगों की लाइफलाइन बनी मां ‘गोदावरी’ के साथ खड़ा हूं ऐसा आभास हुआ। गोष्पाद तीर्थस्थल में गौतमी स्नान घाट पर मां गोदावरी को आरती देते समय ऐसा लगा कि करोड़ों लोगों का जीवनाधार बनीं उस मां की तरह... लोगों के लिए उपयोगी साबित होकर जन्मसार्थक होना ही मेरे लिए पर्याप्त है। जनकल्याण व रक्षा के लिये बालात्रिपुरासुंदरी समेत सुंदरेश्वरस्वामी की पूजा की। 

186वें दिन की डायरी : चंद्रबाबू के इशारे पर गलत काम कर रहे हैं भारतीय प्रशासनिक सेवा अधिकारी
समाचार

186वें दिन की डायरी : चंद्रबाबू के इशारे पर गलत काम कर रहे हैं भारतीय प्रशासनिक सेवा अधिकारी

शराब की बिक्री में अधिकतम दर का नियम कोव्वुरू निर्वाचन क्षेत्र के लिए लागू नहीं होता। सिर्फ बीयर और शराब को हेल्थ ड्रिंक बताने वाले आबकारी मंत्री का निर्वाचन क्षेत्र है कोव्वरु। ऐसे निर्वाचन क्षेत्र में कानून की रक्षा करने वाले अधिकारी सत्तारूढ़ दल के नेताओं के हाथ की कटपुतली बन गए हैं। 

184वें दिन की डायरी : ‘चंद्रबाबूजी क्या आपको अगले चुनाव में फिर से वोट मांगने का नैतिक अधिकार है?’ 
समाचार

184वें दिन की डायरी : ‘चंद्रबाबूजी क्या आपको अगले चुनाव में फिर से वोट मांगने का नैतिक अधिकार है?’ 

कहते हैं कि सत्या के चौखट पार होने तक असत्य पुरी दुनिया का चक्कर लगाकर आ जाता है! शायद इसीलिए चंद्रबाबू को असत्य पर इतना विश्वास है। वह लोगों की आंखों पर पट्टी बांधने की कोशिश आज भी कर ही रहे हैं। 

 183वें दिन की डायरी : मुख्यमंत्री को गरीबों की जिन्दगी से इतनी घृणा क्यों?
समाचार

183वें दिन की डायरी : मुख्यमंत्री को गरीबों की जिन्दगी से इतनी घृणा क्यों?

चालुक्यों के साम्राज्य में निरवद्यपुरम के नाम से मशहूर आज के निडदवोलु का इतिहास और राजनीति से पुराना नाता है। काकतीय वीरांगना रानी रुद्रमादेवी निडदवोलु की बहूरानी थी। इतनी महानता से जुड़े क्षेत्र में आज मेरी पदयात्रा चली।

 182वें दिन की डायरी : चंद्रबाबू ने निजी स्वार्थ के लिये विशेष दर्जे को रखा गिरवी
समाचार

182वें दिन की डायरी : चंद्रबाबू ने निजी स्वार्थ के लिये विशेष दर्जे को रखा गिरवी

आज सुबह से हो रही भारी बारिश थमने का नाम नहीं ले रही थी। बाहर निकलने पर भीग जाना तय था। इन परिस्थितियों में मेरी पदयात्रा क्या चल पाएगी? इसको लेकर पार्टी के नेताओं ने अलग-अलग सलाह दी। कुछ ने एक दिन के लिए यात्रा को अवकाश देने की बात कही, तो कुछ ने दोपहर के बाद यात्रा शुरू करने की राय दी। 

 181वें दिन की डायरी : चंद्रबाबू जी जादूई आंकड़ों व बातों को कल्याण कहना कहां का इंसाफ है?
समाचार

181वें दिन की डायरी : चंद्रबाबू जी जादूई आंकड़ों व बातों को कल्याण कहना कहां का इंसाफ है?

चंद्रबाबू को कल्याण, सशक्तिकरण जैसी बड़ी-बड़ी बातें करते देख हंसी आने लगी है। उनके झूठ और विश्वासघात के शिकार हुए कड़ी पीड़ित प्रति दिन मुझसे पदयात्रा में मिल रहे हैं। चार सालों के शासन में कई तरह की परेशानियों के शिकार होने की बात बता रहे हैं। 

176वें दिन की डायरी : अपने स्वार्थ के लिए किसी की भी बलि देने में समर्थ हैं बाबू और लोकेश 
समाचार

176वें दिन की डायरी : अपने स्वार्थ के लिए किसी की भी बलि देने में समर्थ हैं बाबू और लोकेश 

प्रमुख निर्देशक व चित्रकार तथा बहुप्रज्ञाशाली बापू का यह क्षेत्र है...कई कवि, कलाकार, साहित्यकार और विधि विशेषज्ञों का जन्मस्थली भी है। यहां की हमारी बहनों की बुनाई की कला देश-विदेशों में प्रसिद्ध। नरसापुर एक मात्र निर्वाचन क्षेत्र है जो पश्चिमी गोदावरी जिले में समुद्री तट पर स्थित है।

 175वें दिन की डायरी : गरीब की समस्याएं देखकर भी नहीं देखने का नाटक करने में माहिर हैं बाबू 
समाचार

175वें दिन की डायरी : गरीब की समस्याएं देखकर भी नहीं देखने का नाटक करने में माहिर हैं बाबू 

भ्रष्टाचार, विश्वासघात और धोखेबाजी के लिये मशहूर चंद्रबाबू के शासन में गरीब लोगों की परेशानियों को अक्षरों में बयां करना मुश्किल है। आज पदयात्रा जिन-जिन गांवों से गुजरी हैं वहां के लोगों ने बाबू सरकार की ज्यादतियों के बारे में बताया। 

174वें दिन की डायरी : सभी चुनावी वादे पूरे होने के झूठे दावे कर रहे बाबू 
समाचार

174वें दिन की डायरी : सभी चुनावी वादे पूरे होने के झूठे दावे कर रहे बाबू 

आज मेरे भीमावरम पार कर उंडी निर्वाचन क्षेत्र में प्रवेश करते समय वीरवासरम में बहन वेंकटलक्ष्मी से मिले प्यार और सम्मान ने मुझे बांध दिया। वह बोली, पिताजी के साथ विजयनगरम में, बहन शर्मिला के साथ भीमावरम में पदयात्रा के दौरान फोटो खिंचवाई थी। 

173वें दिन की डायरी : फीस रिअंबर्समेंट योजना की अनदेखी कर रही बाबू सरकार 
समाचार

173वें दिन की डायरी : फीस रिअंबर्समेंट योजना की अनदेखी कर रही बाबू सरकार 

आज की पदयात्रा आंध्र प्रदेश का प्रसिद्ध सोमाराम तीर्थस्थल और गोदावरी जिलों का मुकुट कहे जाने वाले मावुलम्मा मंदिर वाले भीमावरम क्षेत्र में चली। स्वतंत्रता संग्राम के तहत असहयोग आंदोलन में इस क्षेत्र से मिली प्रेरणा को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने भीमावरम को दूसरा बार्दोली बताया था। 

172वें दिन की डायरी : चंद्रबाबू ने लोगों की जिन्दगी बर्बाद कर रही शराब को कमाई का मुख्य जरिया बनाया 
समाचार

172वें दिन की डायरी : चंद्रबाबू ने लोगों की जिन्दगी बर्बाद कर रही शराब को कमाई का मुख्य जरिया बनाया 

मध्याह्न शिविर के पास मिले अर्चकों व मंदिरों के कर्मचारियों ने अपने बदहाल जीवन का जिक्र करते हुए कहा, ‘हम मंदिरों में द्वीप जलाते हैं, लेकिन हमारी जिन्दगी में अंधेरा छाया हुआ है। मंदिरों की कमाई ही हमारे वेतन और जिन्दगी तय करती है। 

162वें दिन की डायरी : चंद्रबाबू की वजह से ग्राम पंचायतों की हुई दुर्दशा 
समाचार

162वें दिन की डायरी : चंद्रबाबू की वजह से ग्राम पंचायतों की हुई दुर्दशा 

आज मेरे सामने एक घटना घटी...रिश्तेदारी नहीं होने के बाद भी अपनी एक अलग पहचान बनाने वाले व्यक्ति के प्रति रिश्तेदारी और प्यार कितना मजबूत हो जाता है, इसका मुझे अहसास हुआ। एक वृद्ध महिला अपनी पोती के साथ मेरे पास पहुंची और बोली, ‘अन्ना, मेरा पति जिन्दगी और मौत से लड़ रहा है।