Sat Jan 25, 2020 Telugu English E-Paper Education
ब्रेकिंग न्यूज़
हैदराबाद में चारमीनार पर आज तिरंगा फहराएंगे असदुद्दीन ओवैसी
भुवनेश्वर एयरपोर्ट के पास निर्माणाधीन छत गिरने से एक की मौत, 1 घायल
राष्ट्रीय मतदाता दिवस पर चुनाव आयोग का कार्यक्रम आज, शामिल होंगे राष्ट्रपति कोविंद
जालंधर में नागिरकता संशोधन अधिनियम के खिलाफ लेखकों का विरोध प्रदर्शन आज
तेलंगाना में हाल ही संपन्न मुंसिपल चुनाव के परिणाम आज

`Utpanna Ekadashi` से सम्बंधित परिणाम

उत्पन्ना एकादशी पर यूं विधि-विधान से करें व्रत-पूजा, ये है शुभ मुहूर्त, महत्व व कथा 
संपादक की पसंद

उत्पन्ना एकादशी पर यूं विधि-विधान से करें व्रत-पूजा, ये है शुभ मुहूर्त, महत्व व कथा 

हिंदू धर्म में एकादशी का बड़ा महत्व है और ये महीने में दो बार आती है। इस दिन भगवान विष्णु की पूजा व व्रत किया जाता है। पर मार्गशीर्ष मास में आने वाली उत्पन्ना एकादशी का सबसे ज्यादा महत्व है क्योंकि इसी दिन एकादशी माता का जन्म हुआ था। इसीलिए इस एकादशी का नाम उत्पन्ना पड़ा।एकादशी माता को भगवान विष्णु की शक्ति ही माना जाता है। कहते हैं कि इस दिन मां एकादशी ने उत्‍पन्न होकर अतिबलशाली और अत्‍याचारी राक्षस मुर का वध किया था। मान्‍यता के अनुसार इस दिन स्‍वयं भगवान विष्‍णु ने माता एकादशी को आशीर्वाद देते हुए इस व्रत को पूज्‍यनीय बताया था।

उत्पन्ना एकादशी 2019: जानें क्यों और कैसे पड़ा इस एकादशी का नाम उत्पन्ना, क्या है इसका महत्व 
संपादक की पसंद

उत्पन्ना एकादशी 2019: जानें क्यों और कैसे पड़ा इस एकादशी का नाम उत्पन्ना, क्या है इसका महत्व 

मार्गशीर्ष मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को उत्पन्ना एकादशी कहते हैं और माना जाता है कि इस दिन व्रत करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है। इस बार उत्पन्ना एकादशी 22 नवंबर 2019 को है। यह तो हम जानते ही हैं कि एकादशी का दिन भगवान विष्णु को समर्पित होता है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार इस व्रत के प्रभाव से मोक्ष की प्राप्ति होती है।