Mon Jun 17, 2019 Telugu English E-Paper Education
ब्रेकिंग न्यूज़
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने लोकसभा सदस्य के रूप में शपथ ली
भोपाल से BJP की विजयी उम्मीदवार प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने लोकसभा सांसद के रूप में शपथ ली
सीएम ममता का पश्चिम बंगाल के हर अस्पताल में नोडल पुलिस ऑफिसर तैनात करने का निर्देश
बिहार के मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार से मरने वालों की गिनती 103 पहुंची  
मुख्यमंत्री केसीआर और वाईएस जगन ने कृष्ण नदी के तट पर सन्यांस दीक्षा समापन समारोह में भाग लिया

`Today in History` से सम्बंधित परिणाम

आज ही के दिन बंटवारे पर लगी  थी मुहर, पढ़ें इतिहास की अन्य महत्वपूर्ण घटनाएं
संपादक की पसंद

आज ही के दिन बंटवारे पर लगी थी मुहर, पढ़ें इतिहास की अन्य महत्वपूर्ण घटनाएं

देश के बंटवारे को इतिहास की सबसे दुखद घटनाओं में शुमार किया जाता है। यह सिर्फ दो मुल्कों का नहीं बल्कि घरों का, परिवारों का, रिश्तों का और भावनाओं का बंटवारा था। रातोरात लोगों की तकदीर बदल गई। कोई बेघर हुआ तो किसी को नफरत की तलवार ने काट डाला। किसी का भाई सीमापार चला गया तो कोई अपने परिवार को छोड़कर इस ओर चला आया।

आज के दिन ही हुआ था शाहजहां की बेगम मुमताज महल का इंतकाल
संपादक की पसंद

आज के दिन ही हुआ था शाहजहां की बेगम मुमताज महल का इंतकाल

आज साल का 158वां दिन है और अब साल के कुल 207 दिन बाकी हैं। आज के इस दिन का ताजमहल से गहरा रिश्ता है। दरअसल शाहजहां की पत्नी मुमताज महल का निधन सात जून को हुआ था। बुरहानपुर में अपनी 14वीं संतान को जन्म देते समय मुमताज महल ने अंतिम सांस ली। शाहजहां ने उनकी याद में आगरा में यमुना के किनारे सफेद संगमरमर का मोहब्बत का अजीम मुजसम्मा तामीर करवाया, जिसे मुमताज के नाम पर ताजमहल का नाम दिया गया।

आज ही के दिन हुआ था भारत के महान सपूत छत्रपति शिवाजी का राज्याभिषेक
संपादक की पसंद

आज ही के दिन हुआ था भारत के महान सपूत छत्रपति शिवाजी का राज्याभिषेक

इतिहास में छह जून का दिन सिखों को एक गहरा जख्म देकर गया। इस दिन स्वर्ण मंदिर में सेना का आपरेशन ब्लूस्टार खत्म हुआ। मुख्य पूजनीय स्थल हरमंदिर साहिब की तरफ बढ़ती सेना का जरनैल सिंह भिंडरावाले और खालिस्तान समर्थक चरमपंथियों ने जमकर विरोध किया और इस दौरान दोनों तरफ से भीषण गोलीबारी हुई।

 आज के दिन लॉर्ड माउंटबेटन ने किया था भारत के बंटवारे का ऐलान
संपादक की पसंद

आज के दिन लॉर्ड माउंटबेटन ने किया था भारत के बंटवारे का ऐलान

आज तीन जून की तारीख भारत के इतिहास और भूगोल को बदलने वाले दिन के तौर पर इतिहास में दर्ज है। वर्ष 1947 में आज ही के दिन ब्रिटिश राज में भारत के अंतिम वायसरॉय लॉर्ड माउंटबेटन ने देश के बंटवारे का ऐलान किया था। भारत के बंटवारे की इस घटना को ‘तीन जून योजना’ या ‘माउंटबेटन योजना’ के तौर पर जाना जाता है।

 19 मई : आज ही के दिन बना था तापमान का सेंटीग्रेड पैमाना   
संपादक की पसंद

19 मई : आज ही के दिन बना था तापमान का सेंटीग्रेड पैमाना   

साल का 139वां दिन यानि 19 मई इतिहास में एक खास वजह से दर्ज है। अन्य बहुत सी घटनाओं का गवाह रहा यह दिन तापमान को नापने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले सेंटीग्रेड पैमाने के विकास का दिन भी है। 19 मई को ही ज्यां पियरे क्रिस्टीन ने 1743 में सेंटीग्रेड तापमान पैमाना विकसित किया था। भारत के शुरूआती उद्योगपतियों में से एक जमशेदजी नुसरवान जी टाटा की मौत 19 मई को ही हुई थी और महात्मा गांधी के सीने में गोलियां दागने वाले नाथू राम गोडसे ने 19 मई के दिन इस दुनिया में कदम रखा था।

 18 मई : ‘स्माइलिंग बुद्धा’ ने भारत को पहुंचाया परमाणु संपन्न देशों की कतार में   
संपादक की पसंद

18 मई : ‘स्माइलिंग बुद्धा’ ने भारत को पहुंचाया परमाणु संपन्न देशों की कतार में   

इस विशाल जगत में हर दिन कुछ न कुछ अच्छा बुरा घटित होता रहता है। कभी धरती पर तो कभी सुदूर अंतरिक्ष में। इनमें से कुछ घटनाएं वक्त के साथ भुला दी जाती हैं और कुछ महत्वपूर्ण घटनाएं इतिहास में अपना नाम दर्ज कराती हैं। 1974 में 18 मई का दिन एक ऐसी अहम घटना के साथ इतिहास में दर्ज है, जिसने भारत को दुनिया के परमाणु संपन्न देशों की कतार में खड़ा कर दिया।

आज के ही दिन अमेरिकी वैज्ञानिकों को मिली थी ये बड़ी सफलता
संपादक की पसंद

आज के ही दिन अमेरिकी वैज्ञानिकों को मिली थी ये बड़ी सफलता

इतिहास में 16 मई का दिन एक बड़ी वैज्ञानिक उपलब्धि के साथ दर्ज है। दरअसल 2013 में 16 मई के दिन अमेरिकी वैज्ञानिकों को इंसानी भ्रूण के क्लोन से पहली बार स्टेम सेल निकालने में सफलता मिली थी। मेडिकल की दुनिया में इसे एक बहुत बड़ी सफलता माना गया क्योंकि इसके माध्यम से बहुत सी लाइलाज बीमारियों जैसे पार्किंसन, मल्टीपल स्क्लेरोसिस, रीढ़ में चोट और आंखों की रोशनी के इलाज की दिशा में लाभ होने की उम्मीद जगी।

 आज ही के दिन हुई थी मैक्डोनाल्ड्स की शुरूआत 
संपादक की पसंद

आज ही के दिन हुई थी मैक्डोनाल्ड्स की शुरूआत 

मैक-चिकन, मैक-आलू टिक्की और पनीर रैप का नाम सुनकर फास्ट फूड के शौकीन लोगों के मुंह में पानी आ जाना लाजिमी है। दुनियाभर में इन्हें पसंद करने वालों की तादाद लाखों करोड़ों में होगी, लेकिन यह बता पाना मुश्किल है कि इनमें से कितने लोगों को इस बात का इल्म होगा कि ऐसे स्वादिष्ट फास्ट-फूड को आप तक पहुंचाने वाली फास्ट फूड चेन मैकडोनाल्ड्स की शुरूआत 15 मई को ही हुई थी।

साहित्य और सिनेमा के लिए आज है ‘काला’ दिन
संपादक की पसंद

साहित्य और सिनेमा के लिए आज है ‘काला’ दिन

साल के 113वें दिन यानी 23 अप्रैल को साहित्य और सिनेमा को दोहरा नुकसान हुआ था। अंग्रेजी साहित्य के महान कवि और नाटककार विलियम शेक्सपियर की मौत 23 अप्रैल को ही हुई थी और भारतीय सिनेमा के बेहतरीन निर्देशकों में शुमार सत्यजीत रे भी 23 अप्रैल के ही दिन इस दुनिया को अलविदा कह गए थे।

आज के दिन इस चमत्कारिक बल्लेबाज ने ली थी आखिरी सांस, होते हैं इन रिकॉर्ड्स के आज भी चर्चे
संपादक की पसंद

आज के दिन इस चमत्कारिक बल्लेबाज ने ली थी आखिरी सांस, होते हैं इन रिकॉर्ड्स के आज भी चर्चे

क्रिकेट में जब भी दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज की बात होती है तो बेसाख्ता डॉन ब्रैडमैन का नाम लिया जाता है। आस्ट्रेलिया के इस बल्लेबाज के रिकॉर्ड का पहाड़ इतना ऊंचा था कि उसे लांघने में दुनिया के बेहतरीन बल्लेबाजों को कई बरस लगे। हालांकि उनके कुछ रिकॉर्ड आज भी अटूट बने हुए हैं।

 24 फरवरी : एप्पल के सह संस्थापक स्टीव जॉब्स का हुआ था जन्म   
संपादक की पसंद

24 फरवरी : एप्पल के सह संस्थापक स्टीव जॉब्स का हुआ था जन्म   

इतिहास में 24 फरवरी की तारीख स्टीव पॉल जाब्स के जन्मदिन के तौर पर दर्ज है और जाब्स ने एप्पल के सह संस्थापक के तौर पर इतिहास में अपना नाम दर्ज कराया है।

 15 फरवरी : टेडी बीयर  से दुनिया की पहली मुलाकात   
संपादक की पसंद

15 फरवरी : टेडी बीयर से दुनिया की पहली मुलाकात   

लोग अकसर अपनी पंसदीदा चीजों का नाम अपने किसी प्रिय व्यक्ति के नाम पर रखते हैं और 15 फरवरी 1903 को मॉरिस मिख्टॉम ने जब अपने हाथ से बनाए गोल मटोल भोले से दिखने वाले भालू की शक्ल के दो साफ्ट टॉय बाजार में उतारे तो इन्हें टेडी बियर का नाम दिया। यह टैडी बियर से दुनिया की पहली मुलाकात थी।

 14 फरवरी : वैलेंटाइंस डे की कहानी और हुई ये प्रमुख घटनाएं 
संपादक की पसंद

14 फरवरी : वैलेंटाइंस डे की कहानी और हुई ये प्रमुख घटनाएं 

इतिहास में 14 फरवरी का दिन प्रेम के प्रतीक के रूप में दर्ज है। इसे वैलेंटाइंस डे के तौर पर मनाया जाता है। इसे इस रूप में मनाने की भी अपनी एक कहानी है। कहते हैं कि तीसरी शताब्दी में रोम के एक क्रूर सम्राट ने प्रेम करने वालों पर जुल्म ढाए तो पादरी वैलेंटाइन ने सम्राट के आदेशों की अवहेलना कर प्रेम का संदेश दिया, लिहाजा उन्हें जेल में डाल दिया गया और 14 फरवरी 270 को फांसी पर लटका दिया गया।

आज के दिन हुई थी भारत के सबसे पुराने  संग्रहालय की स्थापना
संपादक की पसंद

आज के दिन हुई थी भारत के सबसे पुराने संग्रहालय की स्थापना

पश्चिम बंगाल के कलकत्ता ( अब कोलकाता) में हावड़ा जंक्शन से चार किलोमीटर के फासले पर एक महराबदार भव्य सफेद इमारत है, जिसके जालीदार छज्जे और हरे भरे प्रांगड़ में चार तरफ जाने वाले रास्ते के बीचोंबीच लगा सुंदर गोल फव्वारा इसकी खूबसूरती को और भी बढ़ा देता है।

आज ही के दिन दुर्घटनाग्रस्त हुआ था अंतरिक्ष शटल कोलंबिया, कल्पना चावला का निधन
संपादक की पसंद

आज ही के दिन दुर्घटनाग्रस्त हुआ था अंतरिक्ष शटल कोलंबिया, कल्पना चावला का निधन

एक फरवरी का दिन नासा और सारी दुनिया के अंतरिक्ष वैज्ञानिकों के दिल में एक टीस बनकर बसा है। 2003 में एक फरवरी को अमेरिका का अंतरिक्ष शटल कोलंबिया अपना अंतरिक्ष मिशन समाप्त करने के बाद धरती के वातावरण में वापस लौटने के दौरान दुर्घटनाग्रस्त हो गया और इसमें सवार सभी सात अंतरिक्ष यात्रियों की मौत हो गई।

 आज के दिन ही पैदा हुए थे आजादी के महानायक सुभाष चंद्र बोस 
संपादक की पसंद

आज के दिन ही पैदा हुए थे आजादी के महानायक सुभाष चंद्र बोस 

अपने उग्र विचारों के चलते खून के बदले आजादी देने का वादा करने वाले सुभाष चंद्र बोस का नाम भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास में सुनहरे अक्षरों में लिखा है। 23 जनवरी 1897 को उड़ीसा के कटक में एक संपन्न बांग्ला परिवार में जन्मे सुभाष अपने देश के लिए हर हाल में आजादी चाहते थे।

 भारत के माथे पर गुलामी की मुहर लगाने वाली ईस्ट इंडिया कंपनी का 31 दिसंबर को हुआ था पंजीकरण  
संपादक की पसंद

भारत के माथे पर गुलामी की मुहर लगाने वाली ईस्ट इंडिया कंपनी का 31 दिसंबर को हुआ था पंजीकरण  

वर्ष 2018 के अंतिम दिन का सूरज डूबने के साथ ही दुनिया एक नये उत्साह और संकल्प के साथ एक नये वर्ष का स्वागत करेगी। 31 दिसंबर का दिन साल का अंतिम दिन है और इस दिन का भारत के इतिहास से गहरा नाता है। यही वह दिन है जब वर्ष 1600 में इंग्लैंड की महारानी एलिजाबेथ प्रथम ने ईस्ट इंडिया कंपनी के पंजीयन के लिए फरमान जारी किया था।

 यूरोप के दो शहरों पर आज ही के दिन किया था चरमपंथियों ने हमला   
संपादक की पसंद

यूरोप के दो शहरों पर आज ही के दिन किया था चरमपंथियों ने हमला   

इतिहास में 27 दिसंबर का दिन एक दुखद घटना के साथ दर्ज है जब वर्ष 1985 में यूरोप के दो शहरों पर चरमपंथियों ने हमला करके कम से कम 16 लोगों की जान ले ली और इस दौरान 100 से ज्यादा लोग घायल हुए।

आज ही के दिन कोलकाता के अस्पताल में लगी थी  आग,  90 मरीजों की गई थी जान
संपादक की पसंद

आज ही के दिन कोलकाता के अस्पताल में लगी थी आग,  90 मरीजों की गई थी जान

नौ दिसंबर का दिन इतिहास में एक दुखद घटना के साथ दर्ज है। सात बरस पहले 9 दिसंबर 2011 को कोलकाता के एक अस्पताल में भीषण आग लगने से तकरीबन 90 मरीजों की मौत हो गई थी। उस अभागी सुबह अस्पताल में बेसमेंट से शुरू हुई आग ने पूरे अस्पताल को अपनी चपेट में ले लिया। 

 19 अक्टूबर : बेनजीर भुट्टो ने फिर संभाली पाकिस्तान की बागडोर   
संपादक की पसंद

19 अक्टूबर : बेनजीर भुट्टो ने फिर संभाली पाकिस्तान की बागडोर   

बेनज़ीर भुट्टो को पाकिस्तान ही नहीं किसी भी मुस्लिम देश की पहली प्रधानमंत्री होने का दर्जा हासिल है। पूर्व प्रधानमंत्री जुल्फिकार अली भुट्टो की संतान बेनजीर ने दो बार पाकिस्तान की बागडोर संभाली और दूसरी बार 19 अक्टूबर 1993 को देश की जनता के भारी समर्थन से इस पद पर पहुंची, लेकिन दोनो ही बार उनकी सरकार अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर पाई और उन्हें बर्खास्त कर दिया गया।

11 अक्टूबर इतिहास: महानायक अमिताभ के जन्म सहित बाकी ऐतिहासिक घटनाएं  
संपादक की पसंद

11 अक्टूबर इतिहास: महानायक अमिताभ के जन्म सहित बाकी ऐतिहासिक घटनाएं  

कोई एंग्री यंगमैन कहता है, कोई सदी का महानायक, कोई बिग बी तो कोई शहंशाह, उनके जितने प्रशंसक उतने ही नाम। हम बात कर रहे हैं हिंदी सिनेमा के युगपुरूष अमिताभ बच्चन की। भारत के सिनेमा के इतिहास में सबसे अधिक लोकप्रिय और प्रतिष्ठित हरदिल अजीज कलाकार अमिताभ बच्चन का जन्म 11 अक्टूबर को ही हुआ था।

 आज ही के दिन हुआ था संयुक्त आंध्र प्रदेश राज्य का गठन   
संपादक की पसंद

आज ही के दिन हुआ था संयुक्त आंध्र प्रदेश राज्य का गठन   

इतिहास के पन्नों में दर्ज साल के 365 दिनों में हर दिन का अपना एक खास महत्व है क्योंकि हर तारीख किसी न किसी बड़ी घटना की साक्षी है। एक अक्टूबर 1953 का दिन इतिहास में आंध्र प्रदेश के स्थापना दिवस के तौर पर दर्ज है। आंध्र प्रदेश का गठन भाषाई आधार पर किया गया था।

आज ही के दिन अस्तित्व में आया था विश्व का सबसे लंबा नागार्जुनसागर बांध 
संपादक की पसंद

आज ही के दिन अस्तित्व में आया था विश्व का सबसे लंबा नागार्जुनसागर बांध 

मौजूदा तेलंगाना राज्य के नलगोंडा जिले में बहुप्रतिष्ठित और महत्वपूर्ण बांध नागार्जुन सागर आज ही अस्थित्व में आया था। इसी दिन 1967 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने परियोजना के दोनों कनालों को पानी छोड़ा था। 

 दो दर्दनाक घटनाओं के साथ दर्ज है आज की तारीख  
संपादक की पसंद

दो दर्दनाक घटनाओं के साथ दर्ज है आज की तारीख  

देश के इतिहास में 26 जुलाई का दिन दो दुखद घटनाओं के साथ दर्ज है और यह घटनाएं ज्यादा पुरानी भी नहीं हैं। 2005 में 26 जुलाई को देश की वाणिज्यिक राजधानी मुंबई में बरसात ने ऐसा कहर ढाया कि सैकड़ों लोगों ने जल समाधि ले ली।

आज का इतिहास : कॉमिक के पन्नों पर पहली बार नजर आया सुपरमैन
संपादक की पसंद

आज का इतिहास : कॉमिक के पन्नों पर पहली बार नजर आया सुपरमैन

साल के छठे महीने का आखरी दिन यानी 30 जून आने के साथ ही हम इस वर्ष का आधा सफर पूरा कर चुके हैं। साल का 181वां दिन देश दुनिया के इतिहास में बहुत सी घटनाओं के साथ दर्ज है। 

 आज ही हुआ था मशहूर फिल्म निर्माता यश जौहर का निधन   
संपादक की पसंद

आज ही हुआ था मशहूर फिल्म निर्माता यश जौहर का निधन   

भारत में सिनेमा की लोकप्रियता का यह आलम है कि इससे जुड़ी बातें इतिहास का हिस्सा बन जाती हैं। 26 जून 2004 को ‘दोस्ताना’, ‘अग्निपथ’, ‘गुमराह’ और ‘डुप्लीकेट’ जैसी सफल फिल्मों के निर्माता यश जौहर का निधन भी ऐसी ही एक घटना थी।

आज ही के दिन देश में लगाई गयी थी इमरजेंसी, राष्ट्रपति फ़ख़रुद्दीन अली अहमद ने जारी किया था आदेश
संपादक की पसंद

आज ही के दिन देश में लगाई गयी थी इमरजेंसी, राष्ट्रपति फ़ख़रुद्दीन अली अहमद ने जारी किया था आदेश

इतिहास में 25 जून का दिन भारत के लिहाज से एक महत्वपूर्ण घटना का गवाह रहा है। आज ही के दिन 1975 में देश में आपातकाल लगाने की घोषणा की गई जिसने कई ऐतिहासिक घटनाओं को जन्म दिया।

23 जून : इस तारीख ने बदल दिए थे देश की राजनीति के सारे समीकरण
संपादक की पसंद

23 जून : इस तारीख ने बदल दिए थे देश की राजनीति के सारे समीकरण

इतिहास में कुछ ऐसी घटनाएं दर्ज हैं जिन्होंने कई बार हवाओं के रूख मोड़ दिए। 23 जून 1980 की एक घटना भारत के इतिहास की एक ऐसी घटना है, जिसने देश की राजनीति के सारे समीकरण बदल डाले। इस दिन हुई एक विमान दुर्घटना में देश की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के छोटे पुत्र संजय गांधी का निधन हो गया।