Fri Nov 15, 2019 Telugu English E-Paper Education
ब्रेकिंग न्यूज़
सांभर झील में प्रवासी पक्षियों की मौत पर कोर्ट सख्त, गहलोत सरकार से मांगी रिपोर्ट
हरियाणा: गुरुग्राम की 7 वर्षीय दिव्यांशी सिंघल ने गूगल डूडल कम्पटीशन जीता
मध्य प्रदेशः टेस्ट मैच में दोहरा शतक जड़ने के बाद दिव्यांग बच्चों से मिले क्रिकेटर मयंक अग्रवाल
केरलः सबरीमाला मंदिर के पट खुलने से पहले पत्तनमतिट्टा जिले में सुरक्षा बलों की तैनाती
मंत्री मोहसिन रजा बोले- AIMPLB के सदस्य असदुद्दीन ओवैसी क्यों खराब कर रहे देश का माहौल  

`Today History` से सम्बंधित परिणाम

पेरिस आतंकी हमले के अलावा 13 नवंबर के नाम और क्या-क्या दर्ज है, जानिए  
संपादक की पसंद

पेरिस आतंकी हमले के अलावा 13 नवंबर के नाम और क्या-क्या दर्ज है, जानिए  

साल के 11वें महीने का यह 13वां दिन इतिहास में एक दुखद घटना के साथ दर्ज है। 2015 में आज ही के दिन आतंकवादियों ने पेरिस को अपना निशाना बनाया था और फ्रांस के इस खूबसूरत राजधानी शहर के सीने पर कई जख्म दिए थे।

आज ही के दिन 1977 में इंदिरा गांधी भेजी गयीं थी जेल, मोदी को मिला था पुरस्कार
संपादक की पसंद

आज ही के दिन 1977 में इंदिरा गांधी भेजी गयीं थी जेल, मोदी को मिला था पुरस्कार

तीन अक्टूबर का दिन इतिहास के पन्नों में कई अहम घटनाओं के लिए दर्ज है। आज ही के दिन पूर्वी और पश्चिमी जर्मनी एक हो गए थे।

आज ही के दिन लगा था पहला इलेक्ट्रिक ट्रैफिक सिग्नल 
संपादक की पसंद

आज ही के दिन लगा था पहला इलेक्ट्रिक ट्रैफिक सिग्नल 

सड़क पर चलते हुए आपने जगह जगह ट्रैफिक सिग्नल लगे देखे होंगे। वाहन से चलने वाले लोगों को इन सिग्नलों का खास ख्याल रखना पड़ता है क्योंकि इनका पालन न करने पर जुर्माने का प्रावधान है।

आज ही के दिन आतंक की काली छाया ने मुंबई को घेरा था  
संपादक की पसंद

आज ही के दिन आतंक की काली छाया ने मुंबई को घेरा था  

इतिहास में 13 जुलाई का दिन भारत के लिए गम और उदासी से भरी एक दुखद घटना के साथ दर्ज है। दरअसल यह जुलाई महीने का दूसरा दुखद दिन है।

आज ही हटा था RSS से बैन, कई अच्छी बुरी घटनाओं का साक्षी है ये दिन
संपादक की पसंद

आज ही हटा था RSS से बैन, कई अच्छी बुरी घटनाओं का साक्षी है ये दिन

इतिहास में 12 जुलाई का दिन कई अच्छी बुरी घटनाओं का साक्षी है। इस दिन की प्रमुख घटनाओं में 1949 की 12 जुलाई का जिक्र किया जा सकता है, जब आरएसएस पर लगाए गए प्रतिबंध को सशर्त हटा लिया गया।

आज ही के दिन पाकिस्तान ने बांग्लादेश को माना था स्वतंत्र राष्ट्र
संपादक की पसंद

आज ही के दिन पाकिस्तान ने बांग्लादेश को माना था स्वतंत्र राष्ट्र

दरअसल, भारत के हाथों 1971 में पाकिस्तान को मिली हार के बाद पूर्वी पाकिस्तान स्वतंत्र हुआ था, लेकिन पाकिस्तान ने इसे एक स्वतंत्र राष्ट्र मानने में दो साल का वक्त लगा दिया।

आज ही के दिन संयुक्त राष्ट्र के घोषणापत्र को मिली थी मंजूरी, 50 देशों ने किए थे हस्ताक्षर
संपादक की पसंद

आज ही के दिन संयुक्त राष्ट्र के घोषणापत्र को मिली थी मंजूरी, 50 देशों ने किए थे हस्ताक्षर

संयुक्त राष्ट्र के इतिहास में 26 जून के दिन का एक खास महत्व है। संयुक्त राष्ट्र का वैश्विक महत्व, युद्ध को टालने में उसकी भूमिका, कमजोर देशों को दी जाने वाली सहायता और शांति स्थापना में उसके योगदान से सभी वाकिफ हैं।

आज ही के दिन पेश हुआ था पहली रंगीन फिल्म का नमूना 
संपादक की पसंद

आज ही के दिन पेश हुआ था पहली रंगीन फिल्म का नमूना 

इतिहास में हर दिन किसी न किसी अहम घटना से जुड़ा होता है। चार जून एक ऐसी तारीख है, जिस दिन कई बड़ी घटनाओं ने देश और दुनिया पर अपनी छाप छोड़ी। ऐसी ही एक घटना चार जून 1989 को चीन की राजधानी बीजिंग में घटी, जहां चीन की सेना ने शांतिपूर्वक प्रदर्शन कर रहे निहत्थे नागरिकों पर बंदूकों और टैंकों से कार्रवाई की जिसमें बड़ी संख्या में लोग मारे गए।

3 जून : इतिहास का वो काला अध्याय, जब लॉर्ड माउंटबेटन ने भारत के बंटवारे का किया था ऐलान
संपादक की पसंद

3 जून : इतिहास का वो काला अध्याय, जब लॉर्ड माउंटबेटन ने भारत के बंटवारे का किया था ऐलान

तीन जून का दिन भारत के इतिहास और भूगोल को बदलने वाले दिन के तौर पर इतिहास में दर्ज है। वर्ष 1947 में आज ही के दिन ब्रिटिश राज में भारत के अंतिम वायसरॉय लॉर्ड माउंटबेटन ने देश के बंटवारे का ऐलान किया था।

आज ही के दिन हुआ था नंदमुरी तारक रामाराव (NTR) का जन्म 
राष्ट्रीय

आज ही के दिन हुआ था नंदमुरी तारक रामाराव (NTR) का जन्म 

देश और दुनिया के इतिहास में 28 मई का दिन कई कारणों से खास है। दरअसल नेपाल में 240 सालों से चली आ रही राजशाही का अंत इसी दिन हुआ था। करीब दस साल तक चले गृहयुद्ध के बाद देश में शाह राजवंश के हाथों से देश की सत्ता जाती रही।

आज ही के दिन ताजमहल बनकर हुआ था पूरा 
संपादक की पसंद

आज ही के दिन ताजमहल बनकर हुआ था पूरा 

इतिहास के पन्ने पलटते हुए आज हम नौ मई तक आ पहुंचे हैं। यह दिन कई मायने में खास है। मुगल बादशाह शाहजहां द्वारा अपनी बेगम मुमताज महल की याद में बनाया गया। मोहब्बत का अजीम शाहकार ताजमहल नौ मई के दिन ही बनकर पूरा हुआ था।

 मुंबई हमले में पकड़ा एक मात्र आतंकी अजमल कसाब, आज ही सुनाई गई थी सजा
संपादक की पसंद

मुंबई हमले में पकड़ा एक मात्र आतंकी अजमल कसाब, आज ही सुनाई गई थी सजा

भारत के इतिहास में छह मई का दिन आतंक के एक खौफनाक अध्याय से जुड़ा है। करीब एक दशक पहले मुंबई पर हमला करने वाले आतंकवादियों में से जिंदा पकड़े गए एकमात्र आतंकवादी अजमल कसाब को छह मई को ही फांसी की सजा सुनाई गई थी।

कई मायने में यादगार है आज का  दिन,  एक वोट से गिरी थी अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार
संपादक की पसंद

कई मायने में यादगार है आज का दिन, एक वोट से गिरी थी अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार

देश और दुनिया के इतिहास में 18 अप्रैल के दिन कई महत्‍वपूर्ण घटनाएं हुईं. जिनमें जाने-माने वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन का निधन शामिल है।

ये हैं 10 अप्रैल को पूरी दुनियां में घटी खास घटनाएं, जानें क्या क्या हुआ था आज के दिन
संपादक की पसंद

ये हैं 10 अप्रैल को पूरी दुनियां में घटी खास घटनाएं, जानें क्या क्या हुआ था आज के दिन

टाइटैनिक जहाज का 10 अप्रैल से गहरा नाता है। यह बदकिस्मत जहाज 10 अप्रैल के दिन ही ब्रिटेन के साउथेम्पटन बंदरगाह से अपनी पहली और अंतिम यात्रा पर रवाना हुआ था। वैसे टाइटैनिक जहाज का जिक्र आते ही इससे जुड़ी दुर्घटना के तमाम मंजर आंखों के सामने से गुजर जाते हैं।

बापू की पुण्य तिथि: जब मौत के कुहासे ने शाम में ही पूरे देश को स्याह कर दिया
संपादक की पसंद

बापू की पुण्य तिथि: जब मौत के कुहासे ने शाम में ही पूरे देश को स्याह कर दिया

30 जनवरी 1948 का दिन कहने को तो साल के बाकी दिनों जैसा ही था, लेकिन शाम होते होते यह इतिहास में सबसे दुखद दिनों में शुमार हो गया। दरअसल 30 जनवरी 1948 की शाम को नाथूराम गोडसे ने महात्मा गांधी की जान ले ली और नव स्वतंत्र राष्ट्र के सिर से पिता का साया छीन लिया।

 22 जनवरी: आज ही के दिन वहशियों ने ग्राहम स्टेन्स और उनके दो बेटों को जिंदा जलाया था 
संपादक की पसंद

22 जनवरी: आज ही के दिन वहशियों ने ग्राहम स्टेन्स और उनके दो बेटों को जिंदा जलाया था 

22 जनवरी 1999 को उड़ीसा के क्योंझर में उत्पाती भीड़ ने ऑस्ट्रेलियाई मिशनरी ग्राहम स्टेन्स और उनके दो बेटों को ज़िंदा जला दिया था। इस घटना की धमक पूरी दुनिया में सुनाई दी।

 21 जनवरी : पूर्वोत्तर राज्यों मणिपुर, मेघालय और त्रिपुरा का स्थापना दिवस आज
संपादक की पसंद

21 जनवरी : पूर्वोत्तर राज्यों मणिपुर, मेघालय और त्रिपुरा का स्थापना दिवस आज

जनवरी की तारीख इतिहास में बहुत सी घटनाओं के साथ दर्ज है। भारत के संघीय इतिहास में इस दिन का महत्व इसलिए भी है क्योंकि इस दिन मणिपुर, मेघालय और त्रिपुरा के रूप में तीन राज्यों का उदय हुआ। पूर्वोत्तर राज्य मणिपुर, मेघालय और त्रिपुरा को अलग राज्य बने आज पूरे 47 बरस हो गए हैं। पूर्वोत्तर क्षेत्र (पुनर्गठन) अधिनियम 1971 के तहत मणिपुर, मेघालय और त्रिपुरा को 21 जनवरी 1972 को अलग राज्य का दर्जा दिया गया था।

आज के ही दिन इंदिरा गांधी बनीं भारत की पहली महिला प्रधानमंत्री
संपादक की पसंद

आज के ही दिन इंदिरा गांधी बनीं भारत की पहली महिला प्रधानमंत्री

साल के पहले महीने का 19वां दिन भारत के राजनीतिक इतिहास में एक बड़ी जगह रखता है। 1966 में वह 19 जनवरी का ही दिन था, जब इंदिरा गांधी को देश का प्रधानमंत्री बनाया गया।

आज ही के दिन हुआ था युवाओं के प्रेरणास्रोत स्वामी विवेकानंद का जन्म 
संपादक की पसंद

आज ही के दिन हुआ था युवाओं के प्रेरणास्रोत स्वामी विवेकानंद का जन्म 

अमेरिका के शिकागो में हुई धर्म सभा में अपने धाराप्रवाह भाषण के कारण अंतरराष्ट्रीय सुर्खियों में आए भारतीय संन्यासी स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी 1863 को बंगाल में हुआ था।

आज ही के दिन विश्व हिन्दी दिवस मनाने की हुई थी घोषणा    
संपादक की पसंद

आज ही के दिन विश्व हिन्दी दिवस मनाने की हुई थी घोषणा   

यूं तो हर तारीख का कोई न कोई इतिहास होता है, लेकिन 10 जनवरी का इतिहास कई मायनों में, खासतौर पर हिन्दी भाषी लोगों के लिए काफी अहम है, क्योंकि इस दिन विश्व हिन्दी दिवस होता है। पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने हिन्दी के प्रचार-प्रसार के लिए 2006 में प्रति वर्ष 10 जनवरी को हिन्दी दिवस मनाने की घोषणा की थी।

आज ही के दिन आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच खेला गया था पहला एकदिवसीय मैच      
संपादक की पसंद

आज ही के दिन आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच खेला गया था पहला एकदिवसीय मैच     

कुछ लोगों का मानना है कि क्रिकेट का असली मजा टेस्ट क्रिकेट में ही है, लेकिन ऐसे लोगों की भी कमी नहीं है, जो भद्रजनों के इस खेल में एकदिवसीय क्रिकेट में असली रोमांच ढूंढते हैं।

 3 जनवरी का इतिहास: अमेरिका-रूस परमाणु हथियार भंडार को आधा करने पर हुए थे राजी
संपादक की पसंद

3 जनवरी का इतिहास: अमेरिका-रूस परमाणु हथियार भंडार को आधा करने पर हुए थे राजी

ग्रेगोरियन कैलेंडर के साल का तीसरा दिन देश और दुनिया में तमाम तरह की कई अहम घटनाओं का साक्षी रहा है। 1993 में इसी दिन रूस और अमेरिका अपने परमाणु हथियारों के भंडार को आधा करने के लिए तैयार हुए थे।

आज ही के दिन समुद्र में समा गया था 213 यात्रियों से भरा एयर इंडिया का विमान
संपादक की पसंद

आज ही के दिन समुद्र में समा गया था 213 यात्रियों से भरा एयर इंडिया का विमान

नया साल आते ही उत्साह और जश्न का माहौल होता है, लेकिन इतिहास में साल का यह पहला दिन एक दुखद घटना का साक्षी रहा है। 1978 में एयर इंडिया का एक विमान आज ही के दिन 213 यात्रियों के साथ समु्द्र में समा गया था।

सती प्रथा पर आज ही के दिन लगी थी रोक, जानिए कुछ और ऐतिहासिक घटनाएं 
संपादक की पसंद

सती प्रथा पर आज ही के दिन लगी थी रोक, जानिए कुछ और ऐतिहासिक घटनाएं 

पुरुष प्रधान समाज में फैली ज्यादातर कुप्रथाएं महिलाओं पर अन्याय को बढ़ावा देती हैं। भारतीय समाज भी इससे अछूता नहीं रहा और इसमें भी बहुत सी कुप्रथाओं का वजूद रहा। सती प्रथा भी एक ऐसी ही कुप्रथा थी, जिसमें पति के निधन के बाद उसकी पत्नी को उसकी चिता में जीते जी झोंक दिया जाता था।

विशेष: मानवीय मूल्यों की रक्षा करते शहीद हुए थे गुरु तेग बहादुर जी  
संपादक की पसंद

विशेष: मानवीय मूल्यों की रक्षा करते शहीद हुए थे गुरु तेग बहादुर जी  

देश के इतिहास में कुछ जांबाज ऐसे भी हुए हैं, जो धर्म की रक्षा के लिए अपना सर्वस्व बलिदान करने से भी पीछे नहीं हटे।

 आज का इतिहास :  चंदन तस्कर वीरप्पन को सुरक्षा बलों ने किया था ढेर  
संपादक की पसंद

आज का इतिहास : चंदन तस्कर वीरप्पन को सुरक्षा बलों ने किया था ढेर  

आज का दिन देश के सुरक्षा बलों के लिए बड़ी राहत लेकर आया। वह साल 2004 का 18 अक्टूबर का दिन था जब दस्यु सरगना और चंदन के कुख्यात तस्कर वीरप्पन को सुरक्षा बलों ने एक मुठभेड़ में मौत के घाट उतारकर चैन की सांस ली थी। घनी मूछों वाला वीरप्पन कई दशकों तक सुरक्षा बलों के लिए सिरदर्द बना रहा।

 परवेज मुशर्रफ ने आज ही के दिन किया था नवाज शरीफ की सरकार का तख्ता पलट  
संपादक की पसंद

परवेज मुशर्रफ ने आज ही के दिन किया था नवाज शरीफ की सरकार का तख्ता पलट  

आज का दिन हमारे पड़ोसी देश के इतिहास में एक खास वजह से दर्ज है। दरअसल 1999 में इसी दिन देश के तत्कालीन सेना प्रमुख परवेज मुशर्रफ ने प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की सरकार का तख्ता पलटकर सरकार की बागडोर अपने हाथ में ले ली थी। 

 15 सितंबर : 1959 में आज ही के दिन शुरू हुआ था दूरदर्शन   
संपादक की पसंद

15 सितंबर : 1959 में आज ही के दिन शुरू हुआ था दूरदर्शन   

संचार और डिजिटल क्रांति के इस युग में जीने वाली पीढ़ी को दूरदर्शन का मतलब शायद ही पता हो, लेकिन पिछली पीढ़ी का दूरदर्शन के साथ गहरा नाता रहा है। 1959 में 15 सितंबर को सरकारी प्रसारक के तौर पर दूरदर्शन की स्थापना हुई। छोटे से पर्दे पर चलती बोलती तस्वीरें दिखाने वाला बिजली से चलने वाला यह डिब्बा लोगों के लिए कौतुहल का विषय था, जिसके घर में टेलीविजन होता था, लोग दूर दूर से उसे देखने आते थे।

 आज ही के दिन पार किया था मिहिर सेन ने डारडेनेल्स जलडमरूमध्य  
संपादक की पसंद

आज ही के दिन पार किया था मिहिर सेन ने डारडेनेल्स जलडमरूमध्य  

12 सितंबर का दिन देश के महान तैराक मिहिर सेन की उपलब्धियों से जुड़ा है। मिहिर सेन को लंबी दूरी का बेहतरीन तैराक माना जाता है। इंग्लिश चैनल को तैरकर पार करने से लंबी दूरी की तैराकी के अपने अभियान की शुरूआत करने वाले मिहिर सेन ने अपनी हिम्मत और दृढ़ निश्चय से महासागरों को पार करने में सफलता हासिल की और 12 सितंबर, 1966 को उन्होंने डारडेनेल्स जलडमरू मध्य को तैरकर पार किया।

 आज ही के दिन मिली थी महिलाओं को सार्वजनिक सेवाओं में भाग लेने की पात्रता 
संपादक की पसंद

आज ही के दिन मिली थी महिलाओं को सार्वजनिक सेवाओं में भाग लेने की पात्रता 

देश के इतिहास में आज का दिन महिलाओं के लिए खास तौर पर महत्वपूर्ण है क्योंकि यही वह दिन है जब 1948 में महिलाओं को भी प्रशासनिक सेवा और पुलिस सेवा सहित तमाम सार्वजनिक सेवाओं के लिए होने वाली परीक्षाओं में भाग लेने की पात्रता मिली।

 आज ही के दिन मिली थी विधवा पुनर्विवाह को कानूनी मान्यता  
संपादक की पसंद

आज ही के दिन मिली थी विधवा पुनर्विवाह को कानूनी मान्यता  

16 जुलाई का दिन भारत में विधवाओं के लिए समाज में फिर से स्थापित होने का अवसर लेकर आया। दरअसल 159 साल पहले आज ही के दिन भारत में विधवा पुनर्विवाह को कानूनी मान्यता मिली थी।

 आज के ही दिन मुम्बई में पहली बार चली थी मोटरबस,पढ़ें आज का इतिहास
संपादक की पसंद

आज के ही दिन मुम्बई में पहली बार चली थी मोटरबस,पढ़ें आज का इतिहास

पंजाब को देश का सबसे संपन्न राज्य माना जाता रहा है, लेकिन पहले आतंकवाद और अब नशे की आग ने इस राज्य को झुलसाकर रख दिया है।

अंतरिक्ष की अबूझ दुनिया के एक रहस्य से आज उठा था पर्दा 
संपादक की पसंद

अंतरिक्ष की अबूझ दुनिया के एक रहस्य से आज उठा था पर्दा 

साल के सातवें महीने का 14वां दिन इतिहास में बहुत सी घटनाओं के साथ दर्ज है। इसी दिन मशीन से बर्फ जमाने का पहली बार प्रदर्शन किया गया और मंगल के पास से गुजरने वाले नासा के अंतरिक्ष यान ने किसी दूसरे ग्रह की पहली क्लोज अप तस्वीरें खींची थी।

लुई पाश्चर ने रेबीज का टीका खोजा 
संपादक की पसंद

लुई पाश्चर ने रेबीज का टीका खोजा 

छह जुलाई के दिन की इतिहास में एक खास जगह है। इनसान हमेशा से बीमारियों से बचने और इनपर अंकुश लगाने के उपाय करता रहा है। आज दुनिया के बहुत से देश बहुत सी बीमारियों से मुक्त हैं, लेकिन उसके लिए बहुत से लोगों को बरसों तक मेहनत करके बीमारी से बचाव की दवा का अविष्कार करना पड़ा।

 ब्रिटेन की संसद में आज ही के दिन पेश किया गया था ‘द इंडियन इंडिपेन्डेंस एक्ट’  
संपादक की पसंद

ब्रिटेन की संसद में आज ही के दिन पेश किया गया था ‘द इंडियन इंडिपेन्डेंस एक्ट’  

आजाद भारत के स्वरूप को तय करने के लिए ब्रिटेन की संसद में चार जुलाई 1947 को ‘द इंडियन इंडिपेन्डेंस ऐक्ट’ पेश किया गया था। इस विधेयक में भारत के बंटवारे और पाकिस्तान के बनाए जाने का प्रस्ताव रखा गया था। देश-विदेश में भारत का परचम लहराने वाले स्वामी विवकानंद का निधन वर्ष 1902 में आज ही के दिन हुआ था।

देश और दुनिया के इतिहास में 21 जून 
संपादक की पसंद

देश और दुनिया के इतिहास में 21 जून 

भारत पर दो सौ साल से भी ज्यादा लंबा शासन करने वाले अंग्रेजों को भारत के एक नवाब ने नाकों चने चबवा दिये थे। इतिहास में 21 मई का दिन इसी लड़ाई, उसके बाद अंग्रेजों के आत्मसमर्पण और उनके 100 से ज्यादा लोगों के मारे जाने के नाम दर्ज है।