Thu Oct 17, 2019 Telugu English E-Paper Education
ब्रेकिंग न्यूज़
भारी बारिश के कारण हुजूरनगर उपचुनाव प्रचार की सीएम केसीआर की सभा रद्द
मुख्यमंत्री केसीआर और के केशव राव के बीच आरटीसी हड़ताल को लेकर चर्चा
मुंबई में मनमोहन सिंह बोले- मंदी के कारण महाराष्ट्र बड़े संकट की ओर
गाजियाबाद हज हाउस का नाम मौलाना अबुल कलाम आजाद के नाम पर होगा
दिल्ली के चिड़ियाघर में शेर के बाड़े में कूदा शख्स, सुरक्षाकर्मियों ने बचाई जान

`Lord Shiva` से सम्बंधित परिणाम

शुक्र प्रदोष पर यूं करेंगे भोलेनाथ की आराधना तो मिलेगा शुभ फल, जानें मुहूर्त व पूजा विधि  
संपादक की पसंद

शुक्र प्रदोष पर यूं करेंगे भोलेनाथ की आराधना तो मिलेगा शुभ फल, जानें मुहूर्त व पूजा विधि  

आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी तिथि शुक्रवार 11 अक्टूबर को है और इसी दिन शुक्र प्रदोष व्रत है। शास्त्रों के अनुसार प्रदोष व्रत के दिन विधि-विधान के साथ भगवान शिव की पूजा करने से उनकी कृपा प्राप्त होती है।कहते हैं प्रदोष व्रत के दिन जो व्यक्ति भगवान शंकर की पूजा करता है और प्रदोष व्रत करता है, वह सभी पापकर्मों से मुक्त होकर पुण्य को प्राप्त करता है और उसे उत्तम लोक की प्राप्ति होती है।

गुरु प्रदोष पर पूरे विधि-विधान से करें भोलेनाथ की पूजा, ये है महत्व व शुभ मुहूर्त   
संपादक की पसंद

गुरु प्रदोष पर पूरे विधि-विधान से करें भोलेनाथ की पूजा, ये है महत्व व शुभ मुहूर्त   

हम सब जानते ही हैं कि हर महीने के कृष्णपक्ष और शुक्लपक्ष की त्रयोदशी तिथि को प्रदोष व्रत होता है। गुरुवार का दिन होने वाले प्रदोष व्रत को गुरु प्रदोष व्रत के नाम से जाना जाता है।इस बार प्रदोष व्रत 26 सितंबर गुरुवार को है। चूंकि प्रदोष व्रत की पूजा त्रयोदशी तिथि के प्रदोष काल में, यानी रात्रि के पहले प्रहर में, यानी सूर्यास्त के तुरंत बाद के समय में की जाती है और 26 सितंबर के दिन प्रदोष काल के समय त्रयोदशी तिथि रहेगी।

कुछ ऐसा है भगवान गणेश का परिवार, भिन्नताओं के बावजूद आपस में है प्यार 
संपादक की पसंद

कुछ ऐसा है भगवान गणेश का परिवार, भिन्नताओं के बावजूद आपस में है प्यार 

शिवपुत्र कार्तिकेय का वाहन मयूर है, मगर शिवजी के गले में सर्प लटके रहते हैं। वैसे स्वभाव से मयूर और सर्प दुश्मन हैं। इधर गणपति का वाहन चूहा है, जबकि सांप मूषकभक्षी जीव है। पार्वती स्वयं शक्ति हैं, जगदम्बा हैं जिनका वाहन शेर है।मगर शिवजी का वाहन तो नंदी बैल है। परंतु नहीं, इन भिन्नताओं, शत्रुताओं और ऊंचे-नीचे स्तरों के बावजूद शिव का परिवार शांति के साथ कैलाश पर्वत पर प्रसन्नतापूर्वक रहता है।

हरतालिका तीज 2019 : पहली बार रख रही हैं व्रत तो इन बातों पर ध्यान दें, राशि अनुसार ऐसे करें भोले शंकर की पूजा  
संपादक की पसंद

हरतालिका तीज 2019 : पहली बार रख रही हैं व्रत तो इन बातों पर ध्यान दें, राशि अनुसार ऐसे करें भोले शंकर की पूजा  

भादो मास के शुक्लपक्ष की तृतीया को हरतालिका तीज व्रत रखा जाता है। यह व्रत हस्त नक्षत्र में होता है और इस दिन सुहागन महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए कामना करते हुए निर्जला व्रत रखती हैं।

हरतालिका तीज 2019 : अखंड सौभाग्य के लिए रखा जाता है ये व्रत, जानें पूजा-विधि व शुभ मुहूर्त   
संपादक की पसंद

हरतालिका तीज 2019 : अखंड सौभाग्य के लिए रखा जाता है ये व्रत, जानें पूजा-विधि व शुभ मुहूर्त   

भादो मास के शुक्लपक्ष की तृतीया को हरतालिका तीज का पर्व मनाया जाता है। सुहागन महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए इस दिन व्रत रखती है। इस साल हरतालिका तीज 1 सितंबर को मनाई जाएगी। हरतालिका तीज मुख्यत: उत्तर भारतीय मनाते हैं।

हरतालिका तीज 2019 : सौभाग्यवती महिलाओं का खास पर्व है हरतालिका तीज, जानें इससे जुड़ी पौराणिक कथा  
संपादक की पसंद

हरतालिका तीज 2019 : सौभाग्यवती महिलाओं का खास पर्व है हरतालिका तीज, जानें इससे जुड़ी पौराणिक कथा  

इस साल हरतालिका तीज 1 सितंबर को मनाई जाएगी। हरतालिका तीज मुख्यत: उत्तर भारतीय मनाते हैं। भाद्रपद के शुक्ल पक्ष की तृतीय तिथि को हस्त नक्षत्र में सौभाग्यवती स्त्रियां अपने पति की लंबी आयु के लिए इस पर्व को मनाती हैं।

गणेश चतुर्थी 2019 : जानें आखिर क्यों माता पार्वती ने शिशु गणेश को छोड़ा था जंगल में, ये है पौराणिक कथा 
संपादक की पसंद

गणेश चतुर्थी 2019 : जानें आखिर क्यों माता पार्वती ने शिशु गणेश को छोड़ा था जंगल में, ये है पौराणिक कथा 

एक घने जंगल में शिशु गणेश को माता पार्वती छोड़कर चली गई। उस जंगल में हिंसक जीव ही घूमते रहते थे। वहां कभी-कभार ऋषि मुनि भी उस जंगल से गुजरते थे। उस भयानक जंगल में एक सियार ने उस शिशु को देखा और वह उसके पास जाने लगा।तभी उसी समय ही वहां से ऋषि वेद व्यास के पिता पराशर मुनि गुजरे और उनकी दृष्टि उस अबोध बालक पर पड़ी

हरतालिका तीज 2019 : इस दिन व्रत के साथ आजमाएं ये खास उपाय, दांपत्य जीवन में आएगी खुशहाली   
संपादक की पसंद

हरतालिका तीज 2019 : इस दिन व्रत के साथ आजमाएं ये खास उपाय, दांपत्य जीवन में आएगी खुशहाली   

महिलाएं निर्जला व्रत रखती हैं और भगवान शिव, माता पार्वती की बालू या मिट्टी की मूर्ति बनाकर पूजन करती हैं।आपको जानकर आश्चर्य होगा कि जहां इस व्रत से पति की लंबी आयु की प्राप्ति हो सकती है वहीं इस दिन आप कुछ खास उपाय करके अपने दांपत्य जीवन में खुशहाली भी ला सकती हैं।

हरतालिका तीज 2019 : इस व्रत को करवाचौथ से भी कठिन माना जाता है, भूलकर भी न करें ये गलतियां 
संपादक की पसंद

हरतालिका तीज 2019 : इस व्रत को करवाचौथ से भी कठिन माना जाता है, भूलकर भी न करें ये गलतियां 

इस व्रत को करवाचौथ से भी कठिन माना जाता है क्योंकि करवाचौथ में तो महिलाएं पूरे दिन व्रत रखने के बाद रात में चांद देखकर खाना खा लेती है, वहीं तीज के व्रत में तो पानी तक नहीं पीया जाता। अगले दिन सुबह ही यह व्रत खोला जाता है।

हरतालिका तीज 2019 : जानें आखिर कब है हरतालिका तीज, ये है शुभ मुहूर्त 
संपादक की पसंद

हरतालिका तीज 2019 : जानें आखिर कब है हरतालिका तीज, ये है शुभ मुहूर्त 

जन्माष्टमी के बाद महिलाओं को इंतजार होता है हरतालिका तीज का। हरतालिका तीज का व्रत महिलाओं पति की दीर्घायु के लिए रखती है। हरतालिका तीज का यह त्योहार बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और राजस्थान के कई इलाकों में मनाया जाता है।

अजा एकादशी पर बना है अद्भुत संयोग, विष्णु के साथ करें भोलेनाथ की पूजा 
संपादक की पसंद

अजा एकादशी पर बना है अद्भुत संयोग, विष्णु के साथ करें भोलेनाथ की पूजा 

जन्माष्टमी के दो दिन बाद ही अजा एकादशी का व्रत आता है। भादो मास के कृष्णपक्ष की अष्टमी को अजा एकादशी व्रत रखा जाता है जो इस बार 26 अगस्त यानी सोमवार को है।हम सब जानते ही हैं कि एकादशी पर भगवान विष्णु की पूजा की जाती है पर यह एकादशी सोमवार को है इसलिए आप इस दिन भगवान भोलेनाथ की पूजा भी कर सकते हैं।

सावन के आखिरी सोमवार पर मंदिरों में उमड़ी भक्तों की भीड़, ‘बोल बम’ से गूंजे शिवालय
राष्ट्रीय

सावन के आखिरी सोमवार पर मंदिरों में उमड़ी भक्तों की भीड़, ‘बोल बम’ से गूंजे शिवालय

सावन के आखिरी सोमवार पर आज शिव मंदिरों में भक्तों की भीड़ उमड़ पड़ी है। सभी भगवान शिव को जल चढ़ाने के लिए सुबह से मंदिरों के बाहर कतार में खड़े हैं। सभी शिवालय बोल बम के जयकारों से गूंज रहा है। 

विशेष संयोग के साथ आया है सावन का अंतिम सोमवार, ऐसे पूजा करें और मनचाहा वरदान पाएं 
संपादक की पसंद

विशेष संयोग के साथ आया है सावन का अंतिम सोमवार, ऐसे पूजा करें और मनचाहा वरदान पाएं 

वहीं सावन के चौथे सोमवार को त्रयोदशी तिथि है यानी इस दिन सोम प्रदोष व्रत भी है जिससे इसका महत्व बढ़ जाता है। भगवान शिव को प्रदोष व्रत अत्यंत प्रिय है तो आप सावन सोमवार की व्रत पूजा के साथ ही सोम प्रदोष का व्रत रखके उसकी पूजा भी कर सकते हैं।

सावन में करिए दक्षिण की काशी का दर्शन, ये है इस मंदिर की महत्ता
यात्रा

सावन में करिए दक्षिण की काशी का दर्शन, ये है इस मंदिर की महत्ता

सावन के महीने में देशभर के शिवमंदिरों में शिवभक्तों की भारी भीड़ होती है। बारह ज्योतिर्लिंगों के अलावा प्रमुख शैव मंदिरों में सावन का उत्सव देखने को मिलता है। तेलंगाना राज्य के करीमनगर जिले में स्थित वेमुलवाड़ा स्थित राज राजेश्वरी मंदिर दक्षिण भारत के काशी के नाम से प्रसिद्ध है।

जानें भगवान शिव क्यों कहलाते हैं पशुपतिनाथ, क्या है कारण  
संपादक की पसंद

जानें भगवान शिव क्यों कहलाते हैं पशुपतिनाथ, क्या है कारण  

सावन माह में सूर्य का नक्षत्र भ्रमण पुर्नवसु नक्षत्र के अंतिम चरण से पुष्य और अश्लेषा में रहता है। ये तीनों नक्षत्र कर्क राशि में आते हैं। कर्क जल तत्व की राशि है और इसका स्वामी चंद्र है। शिवजी चंद्र को अपने मस्तक पर धारण करते हैं। इस वजह से उन्हें चंद्र विशेष प्रिय है।

खास योग के साथ आया है सावन का तीसरा सोमवार, विशेष पूजा से भोलेनाथ को करें प्रसन्न
संपादक की पसंद

खास योग के साथ आया है सावन का तीसरा सोमवार, विशेष पूजा से भोलेनाथ को करें प्रसन्न

सावन का आधा महीना बीत चुका है और आप लगातार भगवान भोलेशंकर को पूजा-अर्चना से प्रसन्न कर ही रहे होंगे। पर आज यानी 5 अगस्त को सावन के तीसरे सोमवार पर बड़ा ही खास योग बन रहा है। जी हां, आज सावन सोमवार के साथ ही नाग पंचमी भी है।

हरियाली तीज 2019 : आज पूजा के साथ करें ये खास उपाय, होगी मनचाहे फल की प्राप्ति   
संपादक की पसंद

हरियाली तीज 2019 : आज पूजा के साथ करें ये खास उपाय, होगी मनचाहे फल की प्राप्ति   

सावन के महीने का बड़ा महत्व है। इस पावन महीने में भगवान शिव को पूजा जाता है और साथ ही माता पार्वती के लिए भी हर मंगलवार को मंगला गौरी का व्रत रखा जाता है। वहीं हरियाली अमावस्या के बाद आती है हरियाली तीज।

जानें हरियाली तीज का महत्व, शुभ मुहूर्त व पूजा-विधि, ऐसे मिलेगा मनोवांछित फल 
संपादक की पसंद

जानें हरियाली तीज का महत्व, शुभ मुहूर्त व पूजा-विधि, ऐसे मिलेगा मनोवांछित फल 

हम सब जानते हैं कि हिंदू धर्म में तृतीया यानी तीज तिथि का बड़ा महत्व है। वहीं हरियाली तीज सावन मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया को मनाई जाती है। इस बार शनिवार 3 अगस्त को मनाई जाएगी।

हरियाली तीज 2019 : जानें महिलाएं क्यों रखती है ये व्रत, किसकी करती है पूजा
संपादक की पसंद

हरियाली तीज 2019 : जानें महिलाएं क्यों रखती है ये व्रत, किसकी करती है पूजा

हिंदू धर्म में हरियाली तीज का बड़ा महत्व है। श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को हरियाली तीज का त्यौहार मनाया जाता है। इस वर्ष यह पर्व 03 अगस्त शनिवार को पड़ रहा है।

श्रावण 2019 : सावन शिवरात्रि के पावन अवसर पर ऐसे करें पूजा, कष्ट काटेंगे भोलेनाथ 
संपादक की पसंद

श्रावण 2019 : सावन शिवरात्रि के पावन अवसर पर ऐसे करें पूजा, कष्ट काटेंगे भोलेनाथ 

सावन महीने में आने वाली शिवरात्रि को फाल्गुन महीने में आने वाली महाशिवरात्रि के समान ही फलदायी माना जाता है। तो चलिये बात करते हैं मासिक शिवरात्रि की। इस दिन भी भोलेनाथ की विशेष पूजा होती है। आज यानि 30 जुलाई को मासिक शिवरात्रि है जो सावन में आई है इसीलिए इस दिन पूजा का महत्व बढ़ गया है।

 तेज प्रताप अब बने कांवड़िया, शिव के भेष में चले बाबा धाम, देखें वीडियो  
राष्ट्रीय

तेज प्रताप अब बने कांवड़िया, शिव के भेष में चले बाबा धाम, देखें वीडियो  

राजद सु्प्रीमो लालू यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव एक बार फिर सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बने हुए हैं। इनका एकदम नया ताजा वीडियो वायरल हो रहा है। वीडियो में दिख रहा है कि भोले शंकर के लुक में कांवड़ियों वाला वेश धारण करके तेज प्रताप बाबा धाम की यात्रा के लिए निकल चुके हैं।

श्रावण 2019 : जानें शिव को क्यों प्रिय है रुद्राक्ष, कैसे हुई इसकी उत्पत्ति
संपादक की पसंद

श्रावण 2019 : जानें शिव को क्यों प्रिय है रुद्राक्ष, कैसे हुई इसकी उत्पत्ति

हम सब जानते ही हैं कि भक्त शिव की विशेष कृपा पाने के लिए रुद्राक्ष भी धारण करते हैं।शिव का रुद्राक्ष से बहुत गहरा संबंध है और जो भक्त इसे धारण करते हैं उस भक्त के सारे कष्ट दूर हो जाते हैं।

श्रावण 2019 : सबसे अलग है भोलेनाथ का स्वरूप ,  जानें इससे जुड़ी खास बातें 
संपादक की पसंद

श्रावण 2019 : सबसे अलग है भोलेनाथ का स्वरूप , जानें इससे जुड़ी खास बातें 

शिव जटाजूट होते हैं, वहीं वस्त्र के नाम पर बाघ का चर्म लपेटे रहते हैं, चंद्र उनके मस्तक पर विराजते हैं तो वे गले में सर्पों की माला पहने रहते हैं। वृषभ की सवारी करते हैं और सबसे अलग जाकर कैलाश पर्वत पर ध्यान लगाते हैं।

श्रावण 2019 : रुद्राभिषेक से प्रसन्न होते हैं भोलेनाथ, भक्त को मिलता है मनोवांछित फल  
संपादक की पसंद

श्रावण 2019 : रुद्राभिषेक से प्रसन्न होते हैं भोलेनाथ, भक्त को मिलता है मनोवांछित फल  

वैसे तो भगवान शिव जलाभिषेक, दुग्धाभिषेक से भी प्रसन्न हो जाते हैं पर शिव पूजा में रुद्राभिषेक का विशेष महत्व है। रुद्राभिषेक से कई लाभ भी होते हैं और पूरे विधि-विधान से किया गया रुद्राभिषेक भक्त के सारे कष्ट हर लेता है।

 एक अंधभक्त ने शिवलिंग पर काटकर चढ़ाई अपनी जीभ, लोग कर रहे पूजा
राष्ट्रीय

एक अंधभक्त ने शिवलिंग पर काटकर चढ़ाई अपनी जीभ, लोग कर रहे पूजा

विज्ञान चाहे कितना भी विकसित हो, लेकिन भारत जैसे देश में अंधविश्वास की परंपरा खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। छत्तीसगढ़ के आदिवासी इलाका कोरबा में एक मामला सामने आया है, जिसे सुनकर आपके रोंगटे खड़े हो जाएंगे। 

Sawan 2019 : सावन के पहले सोमवार पर  मंदिरों में उमड़ा भक्तों का सैलाब, जयकारे से गूंजे शिवालय
राष्ट्रीय

Sawan 2019 : सावन के पहले सोमवार पर मंदिरों में उमड़ा भक्तों का सैलाब, जयकारे से गूंजे शिवालय

सावन मास का आज पहला सोमवार है। देशभर के शिव मंदिरों में भक्तों की भीड़ सुबह से ही भगवान के दर्शन के लिए लगी है। पूरा माहौल शिवमय हो गया है। खासकर झारखंड के देवघर में कांवड़ियों के साथ-साथ आम भक्तों में शिवलिंग पर चल चढ़ाने की उत्सुक्ता देखी जा रही है।

कांवड़ यात्रा 2019 : शिव आराधना में रम जाते हैं कांवड़िये, कठिन नियमों का करते हैं पालन  
संपादक की पसंद

कांवड़ यात्रा 2019 : शिव आराधना में रम जाते हैं कांवड़िये, कठिन नियमों का करते हैं पालन  

वहीं भगवान आशुतोष की पूजा में तो आदिकाल से ही जलधारा की विधि संपन्न होती आ रही है। वहीं कांवड़ यात्रा का तो विशेष महत्व है और जो भक्त कांवड़ यात्रा पूरी श्रद्धा से करता है उस पर भगवान शिव विशेष कृपा करते हैं।

श्रावण 2019 : पहले सावन सोमवार को यूं पूरे विधि-विधान से करें पूजा, चढ़ाएं ये खास चीजें 
संपादक की पसंद

श्रावण 2019 : पहले सावन सोमवार को यूं पूरे विधि-विधान से करें पूजा, चढ़ाएं ये खास चीजें 

सोमवार का व्रत करने वाले को ब्रह्म मुहूर्त में उठ जाना चाहिए। फिर दैनिक क्रियाओं से निवृत्त होकर स्नान कर लेना चाहिए।- साफ-सुथरे कपड़े पहनकर भगवान शिव की पूजा शुरू कर देनी चाहिए।

श्रावण 2019 : इस बार सावन का हर सोमवार है खास, जानें कैसे करें भोले बाबा को प्रसन्न  
संपादक की पसंद

श्रावण 2019 : इस बार सावन का हर सोमवार है खास, जानें कैसे करें भोले बाबा को प्रसन्न  

इस सावन में जहां दो सोमवार कृष्ण पक्ष में होंगे तो बाकी दो सोमवार शुक्ल पक्ष में होंगे। दो सोमवार को सोम प्रदोष रहेगा तो एक सोमवार को होगी नाग पंचमी। इस तरह शिव पूजा का महत्व बढ़ जाएगा साथ ही व्रती को इसका फल भी दुगना मिलेगा।

श्रावण 2019 : मनोवांछित फल पाने के लिए करें भोलेनाथ की पूजा,  न करें ये गलतियां  
संपादक की पसंद

श्रावण 2019 : मनोवांछित फल पाने के लिए करें भोलेनाथ की पूजा, न करें ये गलतियां  

भक्तों को जानना चाहिए कि भगवान शिव की पूजा में क्या करना चाहिए और क्या नहीं। साथ ही भक्तों को सावधानियों पर भी ध्यान देना चाहिए ताकि उन्हें पूजा का फल भी मिल सके और भगवान की कृपा भी।

 सावन में भोलेनाथ को ये खास फूल चढ़ाएं और मनोवांछित फल पाएं 
संपादक की पसंद

सावन में भोलेनाथ को ये खास फूल चढ़ाएं और मनोवांछित फल पाएं 

सावन का महीना भगवान शिव का प्रिय महीना है, शिव को खुश करने के लिए भक्त तरह-तरह की पूजा -अर्चना कर रहे है, शिव को खुश करने के लिए हम आपको उन फूलों के बारें में बताएंगे, जो शिव को बेहद पंसद है, जिनसे पूजा करके आप अपनी मनोकामना पूरी  कर सकते हैं।  

श्रावण 2019 : जानें भगवान शिव को कौन सी चीजें प्रिय हैं, क्या चढ़ाने से आता है क्रोध 
संपादक की पसंद

श्रावण 2019 : जानें भगवान शिव को कौन सी चीजें प्रिय हैं, क्या चढ़ाने से आता है क्रोध 

भगवान भोलेनाथ का अति प्रिय महीना श्रावण शुरू हो चुका है और इसके शुरू होते ही लगने लगे हैं भोले के जयकारे। श्रावण के महीने में हर ओर शिव पूजा की धूम होती है, कांवड़ लेकर निकल जाते है कांवड़िये और रुद्राभिषेक के साथ शिव की प्रिय चीजों का भी भक्त ध्यान रखते हैं।

श्रावण 2019 :  तो इसलिए महादेव का किया जाता है जलाभिषेक, ये है इससे जुड़ी कथा 
संपादक की पसंद

श्रावण 2019 :  तो इसलिए महादेव का किया जाता है जलाभिषेक, ये है इससे जुड़ी कथा 

सावन में तो जल चढ़ाने का भी भक्त को विशेष फल प्राप्त होता है तो सवाल उठता है कि आखिर जल में ऐसा क्या है जो भगवान इसको चढ़ाने से प्रसन्न हो जाते हैं।

भोलेनाथ को इसलिए प्रिय है सावन का महीना, व्रत-पूजा से मिलती है शिव कृपा 
संपादक की पसंद

भोलेनाथ को इसलिए प्रिय है सावन का महीना, व्रत-पूजा से मिलती है शिव कृपा 

हम सब जानते हैं कि 17 जुलाई बुधवार से भगवान शिव शंकर का प्रिय महीना सावन शुरू हो रहा है। इस महीने में विशेष रूप से भगवान भोलेनाथ की पूजा-अर्चना की जाती है।

17 जुलाई से शुरू हो रहा है सावन का महीना, शिव पूजा का है विशेष महत्व  
संपादक की पसंद

17 जुलाई से शुरू हो रहा है सावन का महीना, शिव पूजा का है विशेष महत्व  

सावन सोमवार का व्रत जहां महिलाएं अपने परिवार व पति के सुखद भविष्य के लिए करती है वहीं कुंवारी कन्याएं श्रेष्ठ पति का वरदान शिवजी से मांगती है और उसके लिए व्रत रखती हैं। माना जाता है कि भोलेनाथ हर भक्त की मनोकामना पूर्ण करते हैं।

 इन शुभ योगों के साथ 17 जुलाई से शुरू हो रहा है सावन का महीना, लगेंगे भोले के जयकारे 
संपादक की पसंद

इन शुभ योगों के साथ 17 जुलाई से शुरू हो रहा है सावन का महीना, लगेंगे भोले के जयकारे 

सावन के महीने में भगवान शिव शंकर की विशेष-पूजा अर्चना के साथ सावन सोमवार का व्रत भी रखा जाता है। इस बार सावन का महीना 17 जुलाई से शुरू होकर 15 अगस्त को समाप्त हो जाएगा।

भगवान शंकर की पूजा सोमवार को ही क्यों की जाती है, क्या है इसका महत्व  
संपादक की पसंद

भगवान शंकर की पूजा सोमवार को ही क्यों की जाती है, क्या है इसका महत्व  

सोमवार को रखने वाले व्रत को सोमश्वर नाम से जाना जाता है। इसका पहला अर्थ होता है चंद्रमा और दूसरा अर्थ होता है वह देव। जिन्हें सोमदेव भी अपना देव मानते हैं, मतलब शिव।

सोमवार को शिव पूजा में ये खास नियम अपनाएं, मनचाहा फल पाएं  
संपादक की पसंद

सोमवार को शिव पूजा में ये खास नियम अपनाएं, मनचाहा फल पाएं  

शिव पूजा करते समय ॐ नमः शिवाय मंत्र का जाप निरंतर करते रहना चाहिए और फिर सफेद फूल, सफेद चंदन, चावल, सुपारी व फल आदि चढ़ाना चाहिए।

शुक्र प्रदोष व्रत पर ऐसे करें पूजा, प्रसन्न होंगे भोले भंडारी 
संपादक की पसंद

शुक्र प्रदोष व्रत पर ऐसे करें पूजा, प्रसन्न होंगे भोले भंडारी 

हर माह की शुक्ल और कृष्णपक्ष की त्रयोदशी तिथि के दिन प्रदोष व्रत किया जाता है। यह व्रत भगवान शिव के लिए रखा जाता है और माना जाता है कि शिव की कृपा पाने का यह सबसे बड़ा दिन और सबसे बड़ा व्रत होता है।