Mon Oct 21, 2019 Telugu English E-Paper Education
ब्रेकिंग न्यूज़
हरियाणा में भाजपा को 72 सीटें, कांग्रेस को 8 और 10 पर अन्य का कब्जा
महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना गठबंधन को मिल सकती हैं 211 सीटें
कठुआ जिले में इंटरनेशनल बॉर्डर पर पाकिस्तान की ओर से फायरिंग  
पाकिस्तान के रेल मंत्री शेख रशीद ने फिर दी भारत को परमाणु हमले की धमकी
असम में एक पटाखा फैक्ट्री में धमाका, 6 महिलाओं समेत 12 लोग घायल  

`International Books Day` से सम्बंधित परिणाम

विश्व पुस्तक दिवस विशेष : नामुमकिन है किताबों का अस्थित्व मिटना, ये है वजह
संपादक की पसंद

विश्व पुस्तक दिवस विशेष : नामुमकिन है किताबों का अस्थित्व मिटना, ये है वजह

आज 23 अप्रैल विश्व पुस्तक दिवस है और इसी दिन (23 अप्रैल 1954) विश्व के सुप्रसिद्ध लेखक शेक्सपीयर ने इस दुनिया को अलविदा कहा था। शेक्सपीयर ने 30 से अधिक नाटक और 200 से अधिक कविताएं लिखी हैं। शेक्सपीयर की कृतियां विश्वभर की समस्त भाषाओं में उपलब्द है। साहित्य जगत में महान लेखक शेक्सपीयर के योगदान को देखते हुए 23 अप्रैल 1995 से यूनिस्को और 23 अप्रैल 2001 से भारत सरकार विश्व पुस्तक दिवास के रूप में मना रही है।