Sun Jun 16, 2019 Telugu English E-Paper Education
ब्रेकिंग न्यूज़
ओडिशा के नक्सल प्रभावित इलाकों में सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के जवानों ने किया योगा
महाराष्ट्र: फडणवीस सरकार के 6 मंत्रियों ने दिए इस्तीफे
मोदी सरकार मंदिर बनाने के लिए कोई कदम उठाती है तो मजबूती से उसके साथ रहेंगे: उद्धव ठाकरे 
बिहार: स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन के सामने चमकी बुखार से 5 साल की बच्ची ने तोड़ा दम
बिहार: चमकी बुखार से मरने वाले बच्चों की संख्या 83 हुई

`International Books Day` से सम्बंधित परिणाम

विश्व पुस्तक दिवस विशेष : नामुमकिन है किताबों का अस्थित्व मिटना, ये है वजह
संपादक की पसंद

विश्व पुस्तक दिवस विशेष : नामुमकिन है किताबों का अस्थित्व मिटना, ये है वजह

आज 23 अप्रैल विश्व पुस्तक दिवस है और इसी दिन (23 अप्रैल 1954) विश्व के सुप्रसिद्ध लेखक शेक्सपीयर ने इस दुनिया को अलविदा कहा था। शेक्सपीयर ने 30 से अधिक नाटक और 200 से अधिक कविताएं लिखी हैं। शेक्सपीयर की कृतियां विश्वभर की समस्त भाषाओं में उपलब्द है। साहित्य जगत में महान लेखक शेक्सपीयर के योगदान को देखते हुए 23 अप्रैल 1995 से यूनिस्को और 23 अप्रैल 2001 से भारत सरकार विश्व पुस्तक दिवास के रूप में मना रही है।