Tue Jan 28, 2020 Telugu English E-Paper Education
ब्रेकिंग न्यूज़
शाहीन बाग में प्रदर्शन स्थल पर हथियार के साथ नजर आया व्यक्ति, आंदोलनकारियों को दी धमकी
देशद्रोहियों की सात पुश्तें भी असम को हिन्दुस्तान से अलग नहीं कर सकतीं : अमित शाह
निर्वाचन आयोग ने विवादित नारेबाजी पर केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर को भेजा नोटिस
दिल्ली पुलिस ने बिहार के जहानाबाद से शरजील इमाम को गिरफ्तार किया
गृह मंत्री अमित शाह दिल्ली के लोगों से नफरत करते हैं : सीएम अरविंद केजरीवाल

`Hasrat Mohani` से सम्बंधित परिणाम

‘इंकलाब जिंदाबाद’ का नारा देने वाले मौलाना हसरत ने भी किया था अनुच्छेद 370 का विरोध  
संपादक की पसंद

‘इंकलाब जिंदाबाद’ का नारा देने वाले मौलाना हसरत ने भी किया था अनुच्छेद 370 का विरोध  

मौलाना हसरत मोहानी किसी पहचान के मोहताज नहीं है। आज की रूमानी पीढ़ी इन्हें “चुपके चुपके रात दिन आंसू बहाना याद है/हमको अब भी आशिकी का वो ज़माना याद है” नाम की मशहूर ग़ज़ल के रचयिता के तौर पर जानती है

हसरत मोहानी- मुद्दतें गुज़रीं पर अब तक वो ठिकाना याद है
संपादक की पसंद

हसरत मोहानी- मुद्दतें गुज़रीं पर अब तक वो ठिकाना याद है

भारत की आजादी में अहम योगदान देने वाले हसरत मोहानी एक महान शायर होने के साथ-साथ एक एक पत्रकार थे। उनका नाम फख्र से लिया जाता है। आज हसरत मोहानी का पुण्यतिथि है। इस मौके पर उनके कहे खूबसूरत अशआर पेशे खिदमत है...

पुण्यतिथि विशेष :  इस शायर ने ही दिया था ‘इंकलाब ज़िंदाबाद’ का नारा
गेस्ट कॉलम

पुण्यतिथि विशेष :  इस शायर ने ही दिया था ‘इंकलाब ज़िंदाबाद’ का नारा

मौलाना हसरत मोहानी भारत के उन उम्दा शायरों में से एक हैं, जिन्होंने अपनी कलम से आजादी की एक लहर चलाई। भारत की आजादी में अहम योगदान देने वाले हसरत मोहानी एक महान शायर होने के साथ-साथ एक एक पत्रकार, राजनीतिज्ञ और स्वतंत्रता सेनानी के तौर पर भी उनका नाम फख्र से लिया जाता है।