Sun Aug 25, 2019 Telugu English E-Paper Education
ब्रेकिंग न्यूज़
पीवी सिंधु ने जोकोहरा को हराकर रचा इतिहास, जीता वर्ल्ड बैडमिंटन चैंपियनशिप का खिताब
राजकीय सम्मान के साथ हुआ अरूण जेटली का अंतिम संस्कार
उपराष्ट्रपति वैकेया नायडू निगमबोध घाट पर मौजूद
नितिन गडकरी, जगदीश मुखी और येदियुरप्पा निगमबोध घाट पहुंचे  
आंध्र प्रदेश के पूर्व विधानसभा अध्यक्ष कोडेला शिव प्रसाद के खिलाफ मामला दर्ज 

`Hasrat Mohani` से सम्बंधित परिणाम

‘इंकलाब जिंदाबाद’ का नारा देने वाले मौलाना हसरत ने भी किया था अनुच्छेद 370 का विरोध  
संपादक की पसंद

‘इंकलाब जिंदाबाद’ का नारा देने वाले मौलाना हसरत ने भी किया था अनुच्छेद 370 का विरोध  

मौलाना हसरत मोहानी किसी पहचान के मोहताज नहीं है। आज की रूमानी पीढ़ी इन्हें “चुपके चुपके रात दिन आंसू बहाना याद है/हमको अब भी आशिकी का वो ज़माना याद है” नाम की मशहूर ग़ज़ल के रचयिता के तौर पर जानती है

हसरत मोहानी- मुद्दतें गुज़रीं पर अब तक वो ठिकाना याद है
संपादक की पसंद

हसरत मोहानी- मुद्दतें गुज़रीं पर अब तक वो ठिकाना याद है

भारत की आजादी में अहम योगदान देने वाले हसरत मोहानी एक महान शायर होने के साथ-साथ एक एक पत्रकार थे। उनका नाम फख्र से लिया जाता है। आज हसरत मोहानी का पुण्यतिथि है। इस मौके पर उनके कहे खूबसूरत अशआर पेशे खिदमत है...

पुण्यतिथि विशेष :  इस शायर ने ही दिया था ‘इंकलाब ज़िंदाबाद’ का नारा
गेस्ट कॉलम

पुण्यतिथि विशेष :  इस शायर ने ही दिया था ‘इंकलाब ज़िंदाबाद’ का नारा

मौलाना हसरत मोहानी भारत के उन उम्दा शायरों में से एक हैं, जिन्होंने अपनी कलम से आजादी की एक लहर चलाई। भारत की आजादी में अहम योगदान देने वाले हसरत मोहानी एक महान शायर होने के साथ-साथ एक एक पत्रकार, राजनीतिज्ञ और स्वतंत्रता सेनानी के तौर पर भी उनका नाम फख्र से लिया जाता है।