बिग बॉस के घर में पूरे दस सप्ताह बीत चुके हैं। फिर भी अब तक कुछ सदस्यों का व्यवहार समझ में नहीं आ रहा है। इस लाइन में सबसे आगे हैं बाबा भास्कर। अब तक कई बार बाबा को नागार्जुन समझा चुके हैं अपना व्यवहार सुधारने के लिए पर वे समझ ही नहीं रहे।

नागार्जुन ने इस लेटेस्ट एपिसोड में भी उन्हें समझाने की कोशिश की। बाबा सबसे कह रहे थे कि उन्हें अब बिग बॉस के घर में रहने और खेलने का मूड नहीं है, वहीं दूसरी ओर वे प्लान बना रहे थे कि किसे और कैसे बाहर निकाला जाए।

इससे जुड़ा बाबा का वीडियो नागार्जुन ने सबको बताया जिससे उसकी सारी पोल सबके सामने खुल गई। नागार्जुन के बार-बार समझाने से बाबा के व्यवहार में कुछ सुधार हुआ लगता है। बाबा ने जिसे टार्गेट किया था उसमें से एक रवि तो घर से एलिमिनेट हो ही चुके हैं।

वहीं दूसरी टार्गेट श्रीमुखी तो कैप्टन बनने से बचती नजर आ रही है। दूसरी ओर नागार्जुन ने वाद-विवाद में बचे चारों दोस्तों को भी मिलाने की कोशिश की, बात बनती नजर आई। वरुण-राहुल की दोस्ती भी हो गई।

वहीं पुनर्नवी व वितिका में बात बनती नजर नहीं आ रही है। दोनों के बीच का झगड़ा अभी ठंडा होता नहीं दिख रहा है। इसके लिए कौन क्या करता है यह देखना है। ग्यारहवें सप्ताह में नॉमिनेशन प्रक्रिया कुछ अलग होती नजर आ रही है।

कंटेस्टेंट को नॉमिनेशन के लिए दिया गया नया टास्क 
कंटेस्टेंट को नॉमिनेशन के लिए दिया गया नया टास्क 

उन लोगों के बीच कोई समस्या न आए इस बात पर गौर करते हुए उन्हें एक नया टास्क दिया गया, पत्थर ही रत्न है। इस टास्क के तहत कंटेस्टेंट को कहा गया कि वे किसी भी सुविधा का उपयोग न करते हुए सीधा-सादा जीवन जियेंगे। इतना ही नहीं कभी-कभी तो इनके घर पर पत्थर की बारिश भी होने लगी।

कंटेस्टेंट से कहा गया कि जब घर पर पत्थर पड़े तो वे लोग उन पत्थरों को जमा करे। इसीमें एक खास ट्विस्ट छिपा है। कंटेस्टेंट से कहा गया कि बजर बजते ही देखा जाएगा कि किसके पास कितने पत्थर है और किसके पास रत्न।

इसे भी पढ़ें :

दसवें सप्ताह में एलिमिनेट हुए रवि, पुनर्नवी को मिली ये सजा

नागार्जुन ने आकर संडे को बना दिया फन डे, कंटेस्टेंट के साथ दर्शकों ने भी किया एंजॉय

जिसके पास रत्न ज्यादा होंगे उसे विजयी माना जाएगा और वह नॉमिनेशन से बच जाएगा। इसी तरह जिसके पास ज्यादा पत्थर होंगे वह नॉमिनेट हो जाएगा। बिग बॉस के कंटेस्टेंट्स ने अब तक पत्थरों की कीमत भले ही न जानी हो पर अब इस टास्क में उन्हें समझ में आ जाएगा कि पत्थर के रूप में जो रत्न होंगे वे ही उन्हें बचा पाएंगे।

अब तक पुनर्नवी ने कभी टास्क में गंभीरता से भाग नहीं लिया पर अब देखना यह है कि कैसे वह पत्थरों को जमा करती है मेहनत से ताकि नॉमिनेशन से बच जाए।

अब लेटेस्ट एपिसोड में पता चलेगा कि इस टास्क में कौन जीतता है और कौन हारकर नॉमिनेट होता है। बड़ी मजेदार है यह नॉमिनेशन की प्रक्रिया, देखना यह है कि आगे क्या कुछ होता है।