‘Lakshmi’s NTR’: दिवंगत नेता के खिलाफ सियासी साजिश का खुलासा करेगी RGV की फिल्म

दिवंगत नेता NTR, लक्ष्मी पार्वती (इनसेट में RGV) - Sakshi Samachar

स्वप्ना अशोक

हैदराबाद: फिल्मकार रामगोपाल वर्मा अपनी आगामी फिल्म Lakshmi's NTR को लेकर चर्चा में हैं। तिरुमला में RGV की हालिया प्रेस कांफ्रेंस की सेंसेशन महसूस की गई। जिसमें NTR की पत्नी लक्ष्मी पार्वती भी शामिल हुई थीं। रामगोपाल के मुताबिक Lakshmi's NTR फिल्म में अहम चरित्र लक्ष्मी पार्वती की खोज पूरी हो चुकी है। जिसके लिए RGV ने भगवान का शुक्रिया भी अदा किया, हालांकि उन्होंने नाम का खुलासा नहीं किया। रामगोपाल ने इतना जरूर कहा कि उनकी खोज पूर्व में सोचे नामों मसलन जयसुधा या जयाप्रदा से भी बेहतर है। रामगोपाल के मुताबिक दिवंगत NTR की पत्नी के लिए उन्हें सटीक किरदार मिल गई हैं।

राम गोपाल वर्मा ने फिल्म के बारे में बेबाकी से बात की। उनके मुताबिक लक्ष्मी पार्वती के NTR के जीवन में आने के बाद की सच्ची कड़ियां फिल्म में पिरोई गई है। वास्तव में ये अद्भुत प्रेम कहानी के साथ सियासी रंजिशों और साजिशों का तानाबाना होगा। RGV ने उन साजिशों का हवाला दिया जिसके चलते दिवंगत NTR को पदच्युत होना पड़ा था।

राम गोपाल वर्मा ने अपनी फिल्म 'Lakshmi's NTR' को दिवंगत नेता के ऊपर बनी बाकी फिल्मों से अलग बताया। उनके मुताबिक इससे पहले बनी फिल्में 'गंडीपेटा रहस्यम' और 'मंडलाधीसुडू' फिल्में महज एनटीआर के राजनीतिक करियर को दर्शाती हैं। जबकि उनकी फिल्म महान नेता के व्यक्तिगत और राजनीतिक जीवन पर कई रोमांचक खुलासे करती है। फिल्म में एनटीआर के सफल अभिनेता से राजनेता बनने के किस्से को भी दिलचस्प तरीके से परोसने का दावा किया जा रहा है।

राम गोपाल वर्मा ने हवाला देते हुए कहा कि हमने कई अभिनेताओं के राजनीति में कदम रखने की कहानी देखी है। जिनमें कोई भी दिवंगत NTR के कद की बराबरी नहीं कर सकता है। दिवंगत NTR ने साहसिक तरीके से ढलती उम्र में अपनी युवा प्रेमिका को सामाजिक स्वीकारोक्ति दी थी। RGV के मुताबिक ये संबंध बेहद पवित्र थे, जिसमें कहीं भी वासनापूर्ण उच्छृंखलता नहीं थी।

यह भी पढ़ें:

रामगोपाल वर्मा ने किये बालाजी के दर्शन, मांगा ‘लक्ष्मी’स एनटीआर ’ के लिए आशीर्वाद

लक्ष्मी पार्वती के तौर पर NTR की जिंदगी में एक शोधकर्ता / लेखिका ने प्रवेश किया था। जो आगे चलकर NTR की सबसे विश्वस्त और धर्मपत्नी बनीं। रामगोपाल वर्मा के मुताबिक संभवत: किसी राजनीतिक शख्स की यह सर्वाधिक साहसिक प्रेम कहानी है। जबकि वास्तव में इन संबंधों को लेकर NTR पर व्यक्तिगत लांछन लगाए गए और उनकी व्यक्तिगत और राजनीतिक छवि खराब करने की कोशिश की गई। सच्चाई तो ये थी कि लक्ष्मी पार्वती और NTR ने लोगों को उस कठिन समय में भी जोड़ने की मुकम्मल कोशिश की थी।

निर्माता रामगोपाल वर्मा के मुताबिक कई कारण है जो इस फिल्म को बड़ी सनसनी बनाता है। पहली ये कि तेलुगू राजनीति में मजबूत उपस्थिति के बावजूद लक्ष्मी पार्वती को तब महत्व नहीं दिया गया था। जिसके पीछे की वजहों को ये फिल्म रेखांकित करती है। दूसरी ये कि फिल्म निर्माता ने खुद ही घोषणा की है कि ये फिल्म सच्ची घटनाओं पर आधारित है। जो तत्कालीन घटनाक्रम की विभिन्न कड़ियों को जोड़ते हुए दर्शकों को सच्चाई से रूबरू करवाएंगे। अगर निर्माता रामगोपाल वर्मा का दावा सच साबित होता है तो दिवंगत नेता NTR को लेकर ये फिल्म अहम ऐतिहासिक दस्तावेज साबित होगी।

रामगोपाल वर्मा के मुताबिक कम ही लोगों ने राजनीतिक तौर पर शक्तिशाली एनटीआर के व्यक्तित्व के मानवीय पहलू को छुआ है। वर्मा मानते हैं कि NTR की शख्सितय इतनी विशाल है कि इसे एक साथ किसी कैनवस में पिरो सकना आसान नहीं।

निर्माता रामगोपाल वर्मा ने इस बात से इनकार किया कि उनकी फिल्म Lakshmi's NTR और बायोपिक NTR (कथानायकुडु) के बीच किसी तरह की प्रतिस्पर्धा है। बता दें 'बायोपिक NTR' का निर्माण एन बालाकृष्णा कर रहे हैं। जिनकी आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू से मुधर रिश्ते हैं, CM चंद्रबाबू नायडू बालाकृष्णा के बहनोई लगते हैं। साथ ही आंध्र में सत्ता की मलाई में बालाकृष्णा की भी साझेदारी है। लिहाजा दिवंगत नेता NTR के जीवन के आखिरी दिनों में राजनीतिक उठापटक को बालाकृष्णा ईमानदारी से दिखा पाएं, इसमें लोगों को शक है। तब के राजनीतिक जानकार NTR के अंत की कहानी में चंद्रबाबू नायडू को ही बड़ा विलेन बताते हैं। लिहाजा बालाकृष्णा से चंद्रबाबू नायडू की सच्चाई दिखा पाने के साहस की उम्मीद करना उनपर ज्यादती होगी।

Lakshmi's NTR को निर्माता ने दिवंगत नेता की जिंदगी के करीब बताया। जिसके जरिए तेलुगू समाज NTR के बारे में अब तक अनकहे तथ्यों से रूबरू हो सकेंगे। निर्माता RGV के मुताबिक NTR की शख्सियत को कई तरह से उकेर कर दर्शाया गया है। जबकि आखिरी दिनों में उनकी दुविधा और तकलीफों को समझने और दिखाने का साहस अब तक किसी ने नहीं किया है। निर्माता के मुताबिक उनकी फिल्म में NTR के जीवन के आखिरी क्षणों तक की कहानी बताई गई है। यहां तक कि कोर्ट रूम में उनके खिलाफ साजिशों को तफसील से दिखाया गया है।

साक्षी मीडिया समूह से एक्सक्लूसिव बातचीत में राम गोपाल वर्मा ने साफ कहा कि धमकियों के बावजूद वे इस फिल्म में सच्चाई से समझौता नहीं करेंगे। यहां तक कि RGV ने तेदेपा नेता बोंडा उमा पर NTR पर फिल्म बनाने को लेकर अनुचित दबाव का आरोप लगाया। बता दें कि बोंडा उमा ने RGV पर महान नेता के ऊपर हल्की फिल्म बनाने का आरोप लगाया था। जिसे खारिज करते हुए RGV ने कहा कि उनकी फिल्म दिवंगत नेता NTR को उनकी तरफ से सच्ची श्रद्धांजलि है।

निर्माता रामगोपाल वर्मा ने दावा किया कि NTR और लक्ष्मी पार्वती के संबंध बेहद भावुक और प्रेरक थे। NTR ने पार्वती का हाथ तब थामा था जब उन्हें अपनों ने दगा दिया था। वहीं लक्ष्मी पार्वती भी NTR के आखिरी क्षणों में चट्टान की तरह उनके साथ बनी रही थीं।

Lakshmi's NTR फिल्म में लक्ष्मी पार्वती के किरदार को लेकर RGV ने खुलासा नहीं किया है। उनके मुताबिक इसके लिए सबको थोड़ा इंतजार करना होगा।

(लेखिका स्वप्ना अशोक साक्षी टीवी में कार्यकारी संपादक के तौर पर कार्यरत हैं)

Advertisement
Back to Top