यहां पर मिलेंगे जान बचाने वाले फरिश्ते, जानने  के लिए पढ़ें खबर  

रक्तदान करते हुए ‘व्हाट्सएप ग्रुप’ के सदस्य - Sakshi Samachar

भैंसा (तेलंगाना) : रक्तदान महा दान है। इस बात को शहर के कुछ युवक साकार कर रहे हैं। आपातकालीन समय में रक्तदान करते हुए लोगों की जान बचा रहे हैं। किसी को भी किसी भी समय रक्त की जरूरत हो तो ये युवक एक साथ आकर खड़े हो जाते हैं।

भैंसा शहर के 300 युवकों ने 'ब्लड डोनर्स' के नाम पर एक 'व्हाट्सएप ग्रुप' को आरंभ किया। इस 'व्हाट्सएप ग्रुप' में 300 सदस्य हैं। इस ग्रुप में रक्त की जरूरत के बारे में किसी भी व्यक्ति का संदेश मिलते ही ये युवक एक फरिश्ते की तरह वहां पर पहुंच जाते हैं। इस ग्रुप के अधिकतर सदस्यों ने अब तक 4-5 बार रक्तदान कर चुके हैं।

रक्तदान की शुरुआत

भैंसा शहर निवासी दोड्लोल्ला सुरेश स्थानीय एरिया अस्पताल में ठेका पद्धति पर लैब टेक्नीशियन के रूप कार्यरत है। इसी क्रम में मुथोल निर्वाचन क्षेत्र के अनेक गांवों से गर्भवती महिलाएं, घायल व्यक्ति और अन्य रोगी भैंसा एरिया अस्पताल को आते जाते रहते हैं। कभी-कभी गर्भवती महिलाओं और घायलों को खून की जरूर पड़ती थी। मगर स्थानीय ब्लबैंक नहीं होने के कारण रक्तदान के लिए काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। अन्य गांवों के लोगों को ले आकर रक्तदान करवाना पड़ता था। किंतु कभी कभी समय खून नहीं मिलने के कारण लोगों की मौत भी हो जाती थी।

इस प्रकार की घटनाओं को देखकर सुरेश का मन द्रवित हुआ। एक बार एक गर्भवती महिला को 'ओ' पाजिटिव रक्त की जरूरत पड़ी। तब सुरेश ने स्वयं सामने आकर रक्तदान किया। इसके बाद सुरेश ने रक्तदान के लिए एक 'व्हाट्सएप ग्रुप' बनाया। इस समय इस ग्रुप 300 सदस्य हैं। किसी को भी किसी भी समय खून जरूरत हो तो रक्तदान करते हुए इस ग्रुप के सदस्य लोगों की जान बचा रहे हैं।

Advertisement
Back to Top