हैदराबाद : ब्रह्मर्षि सेवा समाज का 21वां वार्षिकोत्सव रविवार को बड़े धूम-धाम के साथ सम्पन्न हुआ। गोवा की पूर्व राज्यपाल एवं सुप्रसिद्ध साहित्यकार श्रीमती मृदुला सिन्हा इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रहीं। कार्यक्रम का शुभारम्भ ब्रह्मर्षि के वंशपुरुष भगवान परशुराम एवं सहजानंद सरस्वती के प्रतिमा पर माल्यार्पण कर एवं दीप प्रज्वलित कर हुआ।

समाज के महासचिव इंद्रदेव सिंह ने प्रेस विज्ञप्ति में बताया कि यह कार्यक्रम रामक़ोट स्थित नवजीवन महिला मंडल के सरोजिनी देवी हॉल में हुआ। इस कार्यक्रम में शहर के विभिन्न क्षेत्रों के ब्रह्मर्षि परिवारों ने भाग लिया।

समाज के गणमान्य व्यक्ति
समाज के गणमान्य व्यक्ति

इस अवसर पर श्रीमती मृदुला सिन्हा ने कहा कि नई पीढ़ी में शिक्षा के साथ-साथ संस्कार देना भी आवश्यक है। समाज के तीन पीढ़ियों को साथ देखकर अपनी प्रसन्नता व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि समाज एक परिवार है और परिवार से ही समाज बनता है। समाज भी परिवार का एक हिस्सा है। देश या राष्ट्र की सेवा भी समाज के साथ जुड़कर ही किया जाता है।

यह भी पढ़ें:

ब्रह्मर्षि सेवा समाज का वार्षिकोत्सव रविवार को, मुख्य अतिथि होगी यह महान हस्ती

सूरीनाम का उदाहरण देते हुए पूर्व राज्यपाल ने कहा कि जीविकोपार्जन हेतु देश या विदेश के किसी भी कोने में लोग क्यों न चले जायें, आवश्यक है अपने रीति रिवाज, लोक संस्कृति, संस्कार को भी अपने संग ले चलें। ये हमारी पहचान है और इसे भूलें नहीं। उन्होंने आगे कहा कि समाज में प्रेम की भावना होनी चाहिए, तभी देश प्रेम की भावना भी विकसित होगी ।

यह भी पढ़ें:

हैदराबाद: ब्रह्मर्षि महिलाओं के सावन मिलन में खूब हुई मस्ती और धमाल

समाज की प्रमुख डॉ आशा मिश्र और अन्य महिला सदस्य
समाज की प्रमुख डॉ आशा मिश्र और अन्य महिला सदस्य

समाज के अध्यक्ष सुजीत ठाकुर ने एक जुटता से कार्य करने की बात करते हुए सभी ब्रह्मर्षियों को आगे आने की अपील की। महासचिव इंद्रदेव सिंह ने सभा के समझ रिपोर्ट प्रस्तुत करते हुए कहा कि सभी ब्रह्मर्षियों को समाज के बारे में सोचना चाहिए और समाज कैसे आगे चलेगा इसकी चिंता करनी चाहिए। यह दायित्व चंद लोगों का नहीं बल्कि पूरे समाज का दायित्व है। इसके लिए सबको अपने व्यस्ततम जीवन से थोड़ा समय निकालकर समाज के कार्य में सहयोग देने की आवश्यकता है।

यह भी पढ़ें:

ब्रह्मर्षि समाज हैदराबाद ने मनाया वार्षिकोत्सव, प्रवासियों की मदद पर जोर

कोषाध्यक्ष श्री तिरुपति राय ने पिछले एक वर्ष की गतिविधियों में हुए आय एवं व्यय का ब्योरा सदन के समक्ष रखा। श्रीमती प्रगति सिंह ने और महिलाओं को समाज से जुड़ने के लिए आग्रह करते हुए कहा कि आज की तरह ही सभी कार्यक्रमों में भाग लें और सहयोग करें। बदलाव के लिए छोटा सा प्रयास भी काफ़ी है। श्रीमती अनीता राय ने स्वागत भाषण दिया एवं श्रीमती स्मृति सिंह ने मुख्य अतिथि का परिचय प्रस्तुत किया।

वार्षिकोत्सव में उपस्थित समाज के वरिष्ठ सदस्य
वार्षिकोत्सव में उपस्थित समाज के वरिष्ठ सदस्य

आगामी दो वर्षों के लिए नई कार्यकारिणी का गठन किया गया और मृदुला सिन्हा ने उन्हें शपथ ग्रहण करवाया। इस दौरान श्री सुजीत ठाकुर अध्यक्ष, श्रीमती सुधा राय उपाध्यक्ष, श्री इंद्रदेव सिंह महासचिव, श्री पंकज कुमार कोषाध्यक्ष, श्री रंजीत शुक्ला व श्री पंकज कुमार सह सचिव और रागिनी सिन्हा ने महिला अध्यक्षा की पदभार सम्भालने हेतु शपथ ली।

यह भी पढ़ें:

ब्रह्मर्षि समाज की विशेष बैठक संपन्न, किये गये ये फैसले

वहीं श्रीमती विधात्री सिंह, श्रीमती गीतू शर्मा, श्री तिरुपति राय, श्री एस एन शर्मा, श्री मनोज शाही, श्री मुकेश कुमार, श्री प्रेम शंकर सिंह, डॉ ध्रुव एवं श्री सुनील सिंह ने कार्यकारिणी सदस्य के रूप में शपथ ग्रहण किया। मुख्य अतिथि ने नई कार्यकारिणी को बधाई दी ।

गणतंत्र दिवस पर विशेष नृत्य गीत
गणतंत्र दिवस पर विशेष नृत्य गीत

अवसर पर समाज के वरिष्ठ एवं संस्थापक सदस्य लक्ष्मण ठाकुर के साथ श्री भूदेव चौधरी, श्री शिवचंद्र चौधरी, श्री शिवशंकर शाही, श्रीमती इंदू शाही आदि बुजुर्गों का उत्तरीय एवं पुष्पहार पहनाकर सम्मान किया गया। दसवीं और बारहवीं की परीक्षा में अधिकतम अंक प्राप्त करने वाले छात्रों मेंअंजली चौधरी एवं अनुषा मिश्रा को पारितोषिक प्रदान किया गया।

इसी क्रम में खेलकूद आदि विभिन्न क्षेत्र में विशेष उपलब्धि प्राप्त करने हेतु अक्षिती मिश्रा को जिम्नैस्टिक, निधि राय को स्केटिंग, अचल अभी और अदिति कुमारी को समाज की ओर से पुरस्कृत किया गया। आर्थिक रूप से कमजोर बच्चों को उनके शिक्षा में सहयोग हेतु अनुदान राशि भी प्रदान की गई। मुख्य अतिथि को फलों की टोकरी एवं उत्तरीय से सम्मान किया गया।

नृत्य करते हुए नन्हेंं कलाकार
नृत्य करते हुए नन्हेंं कलाकार

दो सत्रों में आयोजित कार्यक्रम के प्रथम सत्र में समाज के सदस्यों एवं बच्चों द्वारा मनोरंजक एवं ज्ञानवर्धक सांस्कृतिक कार्यक्रम की प्रस्तुति की गई जो काफी सराहनीय रहा। इसमें सरस्वती वंदना, जाट जटिन, कथक नृत्य, बहुसांस्कृतिक नृत्य प्रदर्शन, राष्ट्रीयता पर स्किट आदि कार्यक्रमों ने दर्शकों को मंत्र मुग्ध करने में सफल रहा।

सांस्कृतिक कार्यक्रमों में आन्या, लहर, जागृति, शर्मिष्ठा, वैष्णवी, अक्षिता, श्रुति, रश्मि ठाकुर, शशीधर, अमय, कुशल सिंह, शाश्वत, संकल्प, गोलू, आदित्रि सिंह, लक्ष, प्रणव, दीपेश, दिव्यांश, ख्याति आदि बच्चों के साथ श्रीमती प्रियंका सिंह, श्रीमती मीतू शर्मा, श्रीमती सपना साही, श्रीमती श्वेता राय, श्रीमती संध्या पांडे, श्रीमती मीतू शर्मा, श्रीमती निश्चला राय, डॉ अमृता आदि ने भाग लिया। निधी सिंह और सलोनी ने सांस्कृतिक कार्यक्रम और श्रीमती अनु कुमारी ने द्वितीय सत्र का सुंदर संचालन किया। श्री आर पी सिंह के धन्यवाद ज्ञापन के साथ कार्यक्रम सम्पन्न हुआ।

नृत्य प्रस्तुत करती हुई समाज की महिलाएं
नृत्य प्रस्तुत करती हुई समाज की महिलाएं

इस कार्यक्रम में श्री मुनिंदरा, डॉ अहिल्या मिश्र, श्रीमती संगीता सिन्हा, डॉ रजनीकांत राय, श्री ए पी सिंह, श्री हिमांशु सिंह, आदि की गरिममय उपस्थिति रही। कार्यक्रम की सफलता में उपर्युक्त सदस्यों के अलावा श्री गोविंद जी राय, श्री मानवेंद्र मिश्रा, कुमार प्रियंवद, श्री आर एस शर्मा, श्री संजीत ठाकुर, श्री चंदन, श्री राहुल शाही, श्री सुभाष सिंह, श्री रामानन्द सिंह, श्रीमती अनीता राय, श्रीमती विधात्री सिंह आदि का विशेष योगदान रहा ।

श्री बी एन राय, श्री रामगोपाल चौधरी, श्री रामदहिन चौधरी, श्री सुभाष कुमार, श्री विनय कुमार सिंह, श्री अरुण चौधरी, श्री रामकुमार सिंह, श्री शम्भु चौधरी, श्री अजय राय, श्री संजय राय, श्रीमती मीनाक्षी चौधरी, श्रीमती कुसुम राय, श्रीमती अलका सिंह, श्रीमती विजया पांडे, श्रीमती पिंकी राय, श्रीमती प्रेमलता सिन्हा, श्रीमती बबिता सिंह, श्रीमती अर्चना शुक्ला और अन्य की भी विशेष उपस्थिति रही।