हैदराबाद : पुलिस ने उस्मानिया विश्वविद्यालय (ओयू) के तेलुगु प्रोफेसर और विप्लव रचियतल संघम् (विरसं) के सचिव काशीम के निवास छापा मारा। पुलिस शनिवार को सुबह 6 बजे सर्च वारंट लेकर आई और ओयू क्वार्टर में रह रहे काशीम के निवास पर में प्रवेश किया। तलाशी अभियान जारी है।

पता चला है कि साल 2016 में एक सड़क दुर्घटना के दौरान प्रोफेसर काशीम के कार में माओवादी का प्रतिबंधित साहित्य मिला था। इसी मामले की जांच पड़ताल के सिलसिले में पुलिस ने एक बार फिर काशीम के मकान के निवास पर छापा मारा है। गज्ज्वेल एसीपी नारायण के नेतृत्व काशीम के मकान पर छापा मारा गया। ओयू पुलिस भी छापे में सहयोग किया है। साल 2016 में मुलुगु थाने में दर्ज मामले में काशीम ए-2 है।

 प्रो काशीम
प्रो काशीम

पुलिस ने तब इस घटना को लेकर मामला भी दर्ज किया है। पुलिस का यह भी आरोप है कि काशीम का माओवादी से संबंध है। साथ ही प्रो काशीम अपने छात्रों को माओवादी आंदोलन की ओर प्रेरित कर रहे हैं। पता चला है कि पुलिस ने काशीम के कंप्यूटर, हार्ड डिस्क और माओवादी साहित्य को भी बरामद किया है।

यह भी पढ़ें :

हैदराबाद में क्रांतिकारी लेखक संघ का पचासवां महासम्मेलन संपन्न, वक्ताओं ने कही ये बातें

इसी क्रम में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के सचिव के नारायण और विरसं के नेताओं ने प्रो काशीम के निवासी पर पुलिस द्वारा छापे मारे जाने घटना की निंदा की है। उन्होंने कहा कि एक प्रोफेसर के निवास पर छापा मारना अन्याय है। यह लोकतंत्र और अभिव्यक्ति के आजादी पर हमला है। आपको बता दें कि प्रो काशीम हाल ही में विरसं के 50 साल के महासम्मेलन में सचिव चुने गये हैं।