निर्मल : स्वामी विवेकानंद जयंती और राष्ट्रीय युवजन उत्सव के अंतर्गत निर्मल शहर के अनेक ठिकानों में गरीब और बेसहारा लोगों में नि:शुल्क कंबल वितरित किये गये। कंबल विरतरण कार्यक्रम 'कवियात्रा' की ओर से तथा निजामाबाद के प्रमुख तेलुगु कवि तोगर्ला सुरेश के पिता सायन्ना के स्मृति में किया गया।

इस अवसर पर कवियात्रा संस्थापक अध्यक्ष और प्रमुख कवि कारम शंकर ने आह्वान किया कि कवियों को न सिर्फ कविता लिखनी चाहिए, बल्कि समाज सेवा भी करनी चाहिए। कवि सुरेश ने कहा कि समाज में प्रेम, शांति और ज्ञान का विकास करना ही कवियात्रा का लक्ष्य है।

एक गरीब वृद्ध महिला को कंबल ओढ़ते हुए कवि कारम शंकर और अन्य सदस्य
एक गरीब वृद्ध महिला को कंबल ओढ़ते हुए कवि कारम शंकर और अन्य सदस्य

वक्ताओं ने आगे कहा कि कवियात्रा की ओर से ऐसे कार्यक्रम मानवीय दृष्टिकोण से निरंतर चलने वाली प्रक्रिया है। कविता लिखना ही कवि का लक्ष्य नहीं होना है। समाजसेवा में भी सहभागी होना चाहिए। इसी लक्ष्य के साथ कवियात्रा आगे बढ़ रही है। हाल ही इसी के कारण संयुक्त आदिलाबाद जिले में कवियत्रा द्वारा चलाया गया कार्यक्रम को लोगों ने आदर और गले लगाया है। इसी सफलता को देखते हुए कवियात्रा ने साहित्य के साथ-साथ समाजसेवा भी करने का संकल्प लिया है।

एक गरीब वृद्ध को कंबल देते हुए कवियात्रा के सदस्य
एक गरीब वृद्ध को कंबल देते हुए कवियात्रा के सदस्य

कवियात्रा के सदस्यों ने निर्मल शहर के ईदगाम, मंचेरियाल चौरस्ता, चीन गेट, नया बस स्टैंड, पिंजरी गुट्टा, बुधवारपेट, शिवकोटि, गांधी चौक, सोमवारपेट, देवरकोटा, मार्केट, चिंतकुंटावाडा, नगरेश्वरवाडा, गांधी पार्क, प्रस्तूती अस्पताल और अन्य ठिकानों में रात के समय दौरा। इस दौरान सदस्यों ने गरीब और अनाथों में कंबल वितरित किये।

प्रस्तूति अस्पताल में गरीबों कंबल वितरित करते हुए कवियात्रा के सदस्य
प्रस्तूति अस्पताल में गरीबों कंबल वितरित करते हुए कवियात्रा के सदस्य

इसके अलावा सदस्यों ने एक मकान में अनाथ मां और बेटी की पहचान की और उन्हें वित्तीय मदद भी की। कवियात्रा के सदस्यों ने यह भी बताया कि हमने कुछ अनाथ वृद्धों की भी पहचान की है। शीघ्र ही उनके खाने-पीने और दवा-पानी का इंतजाम भी किया जाएगा। इस कार्यक्रम में कवि किशोर राठौड़, श्रीरामुलू श्रीनिवास, गायक बालकृष्ण और अन्य उपस्थित थे।

अनाथ मां और बेटी को कंबल भेंट करते हुए कवियात्रा के सदस्य
अनाथ मां और बेटी को कंबल भेंट करते हुए कवियात्रा के सदस्य