हैदराबाद : तेलंगाना के निर्मल जिले के भैंसा शहर में हालत में धीरे-धीरे सुधार हो रहा है। पिछले दो दिनों से किसी भी प्रकार की अप्रिय घटना प्रकाश में नहीं आई है। शहर में पिछले रविवार को दो गुटों के बीच हुई हिंसक घटना के बाद भैंसा शहर में कर्फ्यू लगा दिया गया था। मंगलवार को दिन के कर्फ्यू में 12 घंटे की ढील दी गई थी।

अब भैंसा शहर में कर्फ्यू और 144 सेक्शन पूरी तरह से हटाया दिया गया है। मगर लोग घरों से निकलने के लिए घबराया रहे हैं। शहरी की दुकानें बंद हैं। बहुत से लोग शहर छोड़कर अन्य गांवों को पलायन कर गये हैं।

इंटरनेट सेवाएं बंद

पुलिस ने बताया कि भैंसा की घटना के बाद से इंटरनेट सेवाएं भैंसा शहर के अलावा आदिलाबाद, निर्मल, आसिफाबाद, मंचेरियालस, बेल्लमपल्ली, उटनूर और अन्य शहरों में अब भी बंद है। अधिकारियों ने बताया कि हालत में सुधार होते ही इंटरनेट सेवाएं बहाल कर दी जाएगी।

यह भी पढ़ें :

तेलंगाना के भैंसा में हिंसक वारदात को लेकर 25 गिरफ्तार, बंद की गई इंटरनेट सेवा

भैंसा में कर्फ्यू में 12 घंटे की दी गई ढील, तनाव के बीच नियंत्रण में स्थिति

भयभीत लोग
भयभीत लोग

55 गिरफ्तार

सीआई वेणुगोपाल ने बताया कि दो गुटों के बीच हुई हिंसक घटना के अब तक 55 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने यह भी बताया कि मुंसीपल चुनाव में जो उम्मीदवार खड़े हैं, उनसे चुनाव प्रचार आरंभ करने का सुझाव दिया गया है। मगर कोई भी उम्मीदवार चुनाव प्रचार करने के लिए आगे नहीं आ रहे हैं।

घायल पुलिस अधिकारी
घायल पुलिस अधिकारी

चुनाव तक पुलिस तैनात

पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि मुंसीपल चुनाव होने तक भैंसा शहर में अतिरिक्त पुलिस बल तैनात रहेगी। उन्होंने यह भी बताया कि शहर में 240 रैपिड फोर्स, 150 स्पेशल पुलिस, एआर, सिविल कांस्टेबल्स और विशेष पुलिस बल मिलाकर कुल 900 पुलिस बल तैनात रहेगी। दूसरी ओर विश्लेषकों का मानना है कि 22 जनवरी को होने वाले मुंसीपल चुनाव पर हिंसक घटना का प्रभाव पड़ने की संभावना है।

सुनासान सड़क
सुनासान सड़क

येंडला लक्ष्मीनारायण हाउस अरेस्ट

दूसरी ओर पुलिस ने निजामाबाद अर्बन के बीजेपी के पूर्व विधायक येंडला लक्ष्मीनारायण को हाउस अरेस्ट किया है। लक्ष्मीनारायण भैंसा में हुई हिंसक घटना की समीक्षा करने भैंसा जाने के लिए तैयार हुए। मगर पुलिस ने उन्हें हाउस अरेस्ट किया है। लक्ष्मी नारायण के नजरबंद किये जाने की खबर मिलते ही पार्टी के नेता और कार्यकर्ता उनके निवास गये तथा सरकार के खिलाफ नारेबाजी की।

भैंसा में दंगा का नाजारा
भैंसा में दंगा का नाजारा