हैदराबाद : दिशा रेप और हत्या मामला तथा एनकाउंटर की घटना के संदर्भ में एनएचआरसी के दल ने दिशा के परिवार के सदस्यों को पुलिस अकादमी में तलब किया। दल को परिवार के सदस्यों ने बताया गया कि दिशा की मां का स्वास्थ्य ठीक नहीं है और एनएचआरसी उसे और परेशान न करे।

परिवार के सदस्यों की बात पर शमशाबाद पुलिस दिशा के घर गई और उन्हें तेलंगाना स्टेट पुलिस अकादमी (TSPA) लाने का प्रयास किया। इस पर परिवार के सदस्यों ने एनएचआरसी की जांच से चिंता व्यक्त की और कहा कि उन्होंने दिशा के 10वें दिन का कार्यक्रम रखा है। वे अभी भी मानसिक रूप से परेशान हैं। इसके बावजूद दिशा के माता-पिता और बहन टीएसपीए गई और उन्होंने एनएचआरसी के सामने अपने बयान रिकॉर्ड करवाये।

पूरे देश को हिलाकर रख देने वाली दिशा रेप एवं हत्याकांड के आरोपियों के एनकाउंटर को लेकर राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग (एनएचआरसी) की जांच दूसरे दिन भी जारी है। शनिवार सुबह दिल्ली से हैदराबाद पहुंचे आयोग के प्रतिनिधि महबूबनगर में आरोपियों की लाश की जांच करने के साथ उनके परिजनों का बयान भी रिकॉर्ड कर चुके हैं।

आयोग अब बलात्कार और हत्या की शिकार दिशा के माता-पिता से उनका बयान भी रिकॉर्ड करने वाला है और इसी के तहत रविवार दोपहर 3.30 बजे पूछताछ के लिए उन्हें अपने समक्ष हाजिर होने को कहा है। उधर, परिवार का कहना है कि दिशा की मां का स्वास्थ्य ठीक नहीं है और ऐसे में एनएचआरसी पूछताछ के नाम पर उन्हें अनावश्यक परेशान न करें।

इस बीच, शमशाबाद पुलिस दिशा के घर पहुंची है और वह उन्हें तेलंगाना स्टेट पुलिस अकादमी ले जाने वाली है। दिशा के परिवार के सदस्यों का कहना है कि दिशा की दसवीं के दिन पूछताछ के नाम पर उन्हें परेशान किया रहा है। हालांकि दिशा के माता-पिता ने कहा है कि पीड़ित परिवार की तरफ से सच्च बताने के लिए वे एनएचआरसी के प्रतिनिधियों के पास जाएंगे।

उधर, एनएचआरसी के प्रतिनधियों ने एनकाउंटर में घायल होने से केयर अस्पताल में भर्ती एसआई और कांस्टेबल से भी पहले भी बयान रिकॉर्ड किया है। एनकाउंटर के तथ्यों का पता लगाने के लिए हैदराबाद दौरे पर आए एनएचआरसी के प्रतिनिधियों ने अपनी जांच गोपनीय तरीके से की है।

इसे भी पढ़ें :

हैदराबाद मुठभेड़ पर पुलिस अफसरों में मतभेद, कोई कर रहा समर्थन तो कोई विरोध

हथियार छीने...फायरिंग की... देखें हैदराबाद एनकाउंटर का पल-पल का घटनाक्रम

एनकाउंटर और पोस्टमार्टम पर अपने संदेह दूर करने के क्रम में एनएचआरसी ने डॉक्टरों व कुछ पुलिस उच्चाधिकारियों को छोड़कर बाकी किसी को भीतर घुसने की अनुमति नहीं दी। एनएचआरसी के प्रतिनिधियों ने अभी तक मीडिया से कोई बात शेयर नहीं की है। एक पुलिस उच्चाधिकारी के मुताबिक एनएचआरसी अपनी तीन दिन की जांच के बाद ही मीडिया से बात करेगी।