हैदराबाद : तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद में महिला वेटरनरी डॉक्टर की रेप के बाद हत्या मामले में उस पेट्रोल पंप के खिलाफ भी कार्रवाई करने की मांग उठ रही है, जिसने बोतल में आरोपियों को पेट्रोल दिया था।

साइबराबाद कमिश्नर वीसी सज्जनार ने कहा, ‘‘हम पेट्रोल स्टेशन पर कार्यरत व्यक्तियों से यह पता लगा रहे हैं कि उन्होंने किन परिस्थितियों में बोतल में पेट्रोल भरा था। हम विधिक सलाह ले रहे हैं और उसके अनुसार मामले में आगे की कार्रवाई करेंगे।''

इस बीच ‘कान्सोर्टियम ऑफ पेट्रोलियम डीलर्स फॉर साउथ इंडिया' के संयुक्त सचिव राजीव अमराम ने कहा कि ईंधन स्टेशन सीमित मात्रा में ईंधन बेचने के लिए अधिकृत हैं। उन्होंने कहा कि पेट्रोल पांच सौ लीटर तक और डीजल 200 लीटर तक बेचा जा सकता है। यद्यपि हाल की घटनाओं के मद्देनजर राज्य सरकार ने पेट्रोल बोतलों में नहीं बेचने का निर्देश दिया है।

उन्होंने उस भीषण घटना का उल्लेख किया जिसमें यहां पास में एक महिला तहसीलदार को किसी भूमि विवाद को लेकर दिनदहाड़े कथित रूप से आग लगा दी गई थी। विजया रेड्डी की मौके पर ही मौत हो गई थी और उसे बचाने के चक्कर में दो अन्य कर्मचारी झुलस गए थे। बाद में आरोपी और महिला को बचाने का प्रयास करने वाले एक अन्य कर्मचारी ने भी दम तोड़ दिया था।

यह भी पढ़ें :

प्रियंका की कुछ ऐसी थी ख्वाहिश, दरिंदों ने रौंद दिए सारे सपने

अब बलात्कार और हत्या की शिकार वेटरनरी डॉक्टर का नाम होगा ‘जस्टिस फॉर दिशा’ : सज्जनार

अमराम ने कहा, ‘‘तब से कई ईंधन स्टेशन बोतलों में पेट्रोल नहीं भर रहे थे। पेट्रोल पंप डीलर्स एसोसिएशन भी इसे हतोत्साहित कर रहा था क्योंकि यदि कुछ भी गलत घटित होता है तो हमें जांच के लिए पुलिस थाने बुलाया जाता है।''

आपको बता दें कि डॉक्टर के रेप और हत्या के आरोपी पहले एक पेट्रोल स्टेशन पर तेल खरीदने के लिए गए थे। चूंकि वहां कार्यरत कर्मचारियों ने बोतल भरने से इनकार कर दिया इसलिए वे दूसरे पेट्रोल स्टेशन गए और वहां से पेट्रोल खरीदा था।