आरोपियों की मां ने कहा, प्रियंका रेड्डी को जैसे मारा है, हमारे बेटों को वैसे ही सजा दो

मणेम्मा,  चेन्नकेशवुलु की पत्नी रेणुका व मां जयम्मा, मौलाना बी और लक्ष्मी - Sakshi Samachar

हैदराबाद : वेटरनरी डॉ प्रियंका रेड्डी की हत्या के बाद पूरे देश में विरोध प्रदर्शन किया गया और जारी है। साथ ही प्रदर्शनकारियों ने मांग की है कि आरोपियों को कड़ी से कड़ी सजा दी जाये। इसी क्रम में जक्लेर गांव के लोग और आरोपियों की माताओं ने भी उनके बेटों को कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग की है। साथ ही उनके बेटों द्वारा किये बलात्कार और हत्या की घटना पर संदेह भी व्यक्त किया है। उन्होंने रास्ता रोको भी किया। इस आंदोलन में गांव के लोग और आरोपियों की माताओं ने भी भाग लिया। प्रियंका रेड्डी की हत्या कैसे की गई है, अगर वैसी ही सजा मेरे बेटे की भी दी गई तो मुझे कोई गम नहीं है। आरोपी चेन्नकेशवुलु की मां जयम्मा ने मीडिया से यह बात कही।

जयम्मा

जयम्मा ने आगे कहा कि जब बेटे के इस जघन्य कांड के बारे में हमें पता चला तो मेरे पति को इतना बुरा लगा कि उन्होंने आत्महत्या की कोशिश तक कर डाली। जयम्मा ने साक्षी से आगे कहा कि मैंने कभी नहीं सोचा कि मेरा बेटा ऐसा कर सकता है। कुछ महीनों पहले ही उसने लव मैरिज की है। तब भी हम लोगों ने कुछ नहीं कहा। यही सोचा कि जो हो गया सो हो गया। उसकी किडनी भी खराब हो चुकी है।

मोहम्मद आरिफ ने ही मेरे बेटे को पूरी तरह से बिगाड़ दिया है। लॉरी में लोडिंग का काम करने के लिए उसने मेरे बेटे को साथ ले गया और इस कांड अंजाम दिया। अब सारे लोग बेटे के इस कांड की वजह से हमारे बारे में बातें रहे हैं। मुझे भी बेटियां है। मैं उस मां की दर्द को समझ सकती हूं। पुलिस दो बजे आकर मेरे बेटे को ले गई। जब मुझे इस बात का पता लगा तो बहुत बुरा लगा। मेरा तो यही कहना है कि जैसे इन लोगों ने प्रियंका को मारा है, उसी तरह आप भी मेरे बेटे को मार दो, फांसी पर चढ़ा दो, मुझे कोई परवाह नहीं। इस तरह के जघन्य कार्य को करने वाले के साथ ऐसा ही होना चाहिए।

यह भी पढ़ें :

प्रियंका रेड्डी हत्याकांड : 3 दिन बाद लापरवाह 3 पुलिसकर्मी सस्पेंड

प्रियंका रेड्डी हत्या मामले की रिमांड रिपोर्ट, ‘हेल्प हेल्प हेल्प’ कहते हुए गिड़गिड़ाई मगर...

जैसे मैंने नौ महीने अपनी कोख में रखकर उसको जन्म दिया है, वैसे ही प्रियंका की मां ने भी उसे जन्म दिया। सबकी पीड़ा एक जैसी ही होती है। न्याय सबके साथ बराबर होना चाहिए।

मौलाना बी

इसी क्रम में आरिफ की मां मौलाना बी ने कहा कि मेरा ऑपरेशन हो चुका है। मैं ज्यादा दिन नहीं जी पाऊंगी। मेरे बेटे ने इस प्रकार की जघन्य कांड किया है। इस पर मुझे विश्वास नहीं हो रहा है। मुझे और मेरे बेटे को सजा दीजिए। उन्होंने कहा कि पूरे गांव वाले मुझसे कह रहे है कि मेरा बेटे ने घिनौना काम किया है। इसे मैं सुनकर बर्दाश्त नहीं कर पा रही है। मुझे भी बेटी है। पति है। बेटी के लिए जिंदा रहना चाहती चाहती हूं। बेटी पूछ रही है कि भाई को क्या हो गया है। मुझे कुछ भी समझ में नहीं आ रहा कि उसे क्या बताऊं। मेरी बेटी के दोस्त ही उसे हिम्मत दे रहे हैं। रात को नींद नहीं आ रही है।

मणेम्मा

आरोपी शिवा की मां मणेम्मा ने कहा कि मेरा बेटा ऐसे घिनौना काम नहीं कर सकता। मैंने बेटे से कहा कि लॉरी क्लीनर का काम छोड़ दें। उसने ठीक है, वेतन लेकर आऊंगा कहकर बाहर चला गया। अब इस दलदल में फंस गया है। मेरे बेटे के साथ धोखा हुआ है। कभी कभी वह खून की ऊल्टियां भी करता था। मैंने लॉरी पर जाने का काम छोड़ देने को कहा था। मगर आरिफ का फोन आया तो चला गया। बड़ा बेटा मिट्टी का काम करते हुए जी रहा है। तू भी रोज मजदूरी कहकर जी ले की बात कही। मगर वह चला गया। इस हाल में फंस गया है।

लक्ष्मी

एक अन्य आरोपी की मां लक्ष्मी ने कहा कि नवीन जब छोटा तब ही मेरे पति की मौत हो गई। सोचा था कि नवीन बड़ा होकर परिवार चलाएगा। मगर यह काम करके जेल चला गया। वह सातवीं कक्षा तक की पढ़ाई किया। उसे पढ़ाई में दिलचस्पी नहीं थी। मेरे बेटे को आरिफ ने बाइक दिलाई। आरिफ जब भी फोन करता, वह चला जाता था। आरिफ के कारण ही वह लॉरी ड्राइवर बन गया और हैदराबाद चला गया। बेटे ने बताया कि वह श्रीनिवास रेड्डी के पास ड्राइवर के रूप में काम कर रहा है। सोमवार को आरिफ ने बुलाया तो चला गया। गुरुवार रात को आकर सो गया। अल सुबह पुलिस आकर पकड़कर ले गई।

Advertisement
Back to Top