हैदराबाद : प्रियंका ने भी अपनी आंखों में तमाम सपने संजोए थे। अच्छी नौकरी, बड़ा घर और परिवार का साथ, प्रियंका कुछ इस तरह की जिंदगी चाहती थी, लेकिन दरिंदों की हैवानियत ने सारे सपने चकनाचूर कर दिए।

डॉक्टर प्रियंका रेड्डी के मामा (नाम नहीं बताने की जताई इच्छा) ने कई ऐसी बातें बताई, जिसे सुनकर हर किसी की आंख में आंसू आ गए। उन्होंने बताया कि बचपन से ही प्रियंका को जानवरों से बहुत लगाव था। वह जानवरों से बेहद प्यार करती थी। वह घर में जानवर पालना भी चाहती थी, लेकिन छोटी जगह होने के कारण वह घर में जानवरों को नहीं रख सकी।

जानवरों से लगाव के कारण ही प्रियंका ने वेटरनरी मेडिकल चुना था। उसे कुत्ते, गाय और घोड़ों को खाना खिलाना बेहद पसंद था।

परिवार के बार में जानकारी देते हुए प्रियंका के मामा ने बताया कि उसके पापा जॉब बाहर होने के कारण हफ्ते में सिर्फ एक बार ही घर आते थे। जब प्रियंका की तीन साल पहले नौकरी लगी तो पूरा परिवार शमशाबाद में शिफ्ट हो गया।

प्रियंका को ऑनलाइन रेसिपी सीखकर खाना बनाने का बेहद शौक था। उसे अच्छे-अच्छे खाना बनाना और परिवार के सदस्यों को खिलाना काफी पसंद था। वह परिवार के साथ ज्यादा से ज्यादा समय बिताना चाहती थी। जॉब के बाद घर लौटने पर वह पूरा समय अपने परिवार को देती थी।

यह भी पढ़ें :

निर्भया से प्रियंका तक, इन वारदातों ने देश को झकझोरा

प्रियंका रेड्डी हत्या मामले की रिमांड रिपोर्ट, ‘हेल्प हेल्प हेल्प’ कहते हुए गिड़गिड़ाई मगर...

प्रियंका के मामा ने बताया कि उनके यहां रीति है कि यदि किसी लड़की की मृत्यु शादी से पहले हो जाती है तो अंतिम संस्कार से पहले उसका विवाह पेड़ से कराया जाता है। ऐसा इसलिए किया जाता है, जिससे लड़की की आत्मा को शांति मिल सके, लेकिन प्रियंका को यह भी नसीब नहीं हुआ।

उन्होंने कहा कि अब हम इस मामले में जल्द से जल्द न्याय चाहते हैं, जिससे प्रियंका की आत्मा को शांति मिले। उन्होंने मुख्यमंत्री केसीआर के रवैये पर हैरानी जताई है। उन्होंने कहा कि इस मामले को लेकर पूरे देश में नाराजगी है। लोग अपने-अपने तरीके से गुस्सा जाहिर कर रहे हैं, लेकिन हमारे मुख्यमंत्री ने अभी तक दुख तक नहीं जताया।