प्रियंका रेड्डी हत्याकांड के चार दिन बाद KCR ने तोड़ी चुप्पी, कहा- बनेगा फास्ट ट्रैक कोर्ट

डिजाइन फोटो  - Sakshi Samachar

हैदराबाद : प्रियंका रेड्डी की गैंगरेप के बाद निर्मम हत्या को चार दिन बीत चुके हैं। इस वारदात को लेकर तेलंगाना में ही नहीं पूरे देश में लोग गुस्से में हैं। वहीं, घटना के चार दिन बाद अब जाकर राज्य के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने अपनी चुप्पी तोड़ी। सीएम ने घटना की निंदा करते करते हुए अधिकारियों को इस मामले में दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलवाने के लिए कदम उठाने के आदेश दिए।

मुख्यमंत्री ने मामले की त्वरित सुनवाई के लिए फास्ट ट्रैक कोर्ट स्थापित करने का निर्णय लिया है। उन्होंने अधिकारियों से इससे संबंधित प्रक्रिया शुरू करने को कहा। उन्होंने बताया कि पिछले दिनों वरंगल में एक 9 महीने की बच्ची की रेप के बाद हत्या के मामले में फास्ट ट्रैक कोर्ट स्थापित करने से घटना के सिर्फ 56 दिन में सुनवाई पूरी होकर फैसला सुनाया गया था। उसी तरह इस मामले में भी जल्द फैसला आने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि प्रियंका रेड्डी के परिवार को हर संभव सहायता प्रदान करने के लिए उनकी सरकार तैयार है।

आपको बता दें बुधवार की रात प्रियंका रेड्डी की हत्या हुई थी और गुरुवार सुबह से इस घटना को लेकर तेलंगाना ही नहीं बल्की पूरे देश की मीडिया में यह खबर प्रसारित होनी शुरू हो गई और रविवार शाम तक लगभग सभी अखबार और न्यूज चैनलों पर खबर प्रसारित होती रही और घटना के विरोध में देशभर में कैंडिल मार्च और प्रदर्शन होते रहे। इसके बावजूद राज्य के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने इस घटना को लेकर कोई प्रतिक्रिया व्यक्त नहीं की। इस बीच, राज्यपाल तमिलीसाई सुंदरराजन ने शनिवार को प्रियंका रेड्डी के घर जाकर उनके परिजनों से भेंट कर उन्हें इस मामले में जल्द से जल्द न्याय दिलाने का भरोसा दिया था।

इस बीच, केंद्रीय मंत्री बाल्यन ने भी रविवार को शमशाबाद स्थित प्रियंका रेड्डी के घर गए और उनके परिजनों से भेंट कर उनके साथ न्याय करने का आश्वासन दिया।

दूसरी तरफ, प्रियंका रेड्डी हत्याकांड को लेकर सीएम केसीआर की चुप्पी को लेकर लोगों में खासी नाराजगी होती दिखी। लोगों का कहना था कि एक महिला डॉक्टर की गैंगरेप और हत्या को लेकर मुख्यमंत्री गंभीर नहीं है।

इसे भी पढ़ें :

प्रियंका हत्याकांड : मंत्री बोले- आरोपियों को दी जाय तत्काल सजा, न्याय में देरी इंसाफ न मिलने के बराबर

प्रियंका के हत्यारों को फांसी देने के लिए लोगों का आंदोलन, जेल के पास बढ़ाई गई सुरक्षा

इसके अलावा सरकार के एक-दो मंत्रियों को छोड़कर कोई और प्रियंका रेड्डी के घर नहीं गए और पीड़ित परिवार से नहीं मिलने की खबर है। तेलंगाना कांग्रेस पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष ए. रेवंत रेड्डी सहित अन्य दलों के नेताओं ने प्रियंका रेड्डी के परिजनों से भेंट कर उन्हें न्याय दिलाने का आश्वासन दिया था।

मुख्यमंत्री ने आरटीसी कर्मचारियों के साथ बैठक के दौरान प्रियंका रेड्डी की घटना का जिक्र कर चिंता प्रकट करते हुए इसे अमानीवय कार्रवाई करार दिया। उन्होंने कहा कि हमारी बेटियों की रक्षा करने की जिम्मेदारी हमसब लोगों पर है। उन्होंने अधिकारियों को आरटीसी में महिला कर्मचारियों को रात्रि 8 बजे के भीतर ड्यूटी खत्म हो सके, इसकी व्यवस्था करने का आदेश दिया।

Advertisement
Back to Top