महबूबाबाद : तेलंगाना में एक और आरटीसी कर्मचारी ने अपनी जान दे दी। पिछले 40 दिन से जारी आरटीसी कर्मचारियों की हड़ताल के दौरान एक और जान चली गई। महबूबाबाद डिपो में कार्यरत ड्राइवर नरेश बुधवार सुबह कीटनाशक पी गया। इसके तुरंत बाद उसे अस्पताल ले जाया गया, लेकिन उसकी बीच रास्ते में मौत हो चुकी थी। नरेश की पत्नी और दो बच्चे हैं।

साथी कर्मचारियों के मुताबिक मृत नरेश वर्ष 2007 से ड्राइवर था। नरेश की पत्नी पिछले पांच वर्षों से दिल की बीमारी से ग्रस्त है और हर महीने करीब 5 हजार रुपए केवल उसकी दवाइयों पर खर्च हो जाते हैं। दूसरी तरफ, बच्चों की पढ़ाई के खर्च के कारण वह आर्थिक संकट से जूझ रहा था। इसी क्रम में शुरू हुई हड़ताल एक महीने से अधिक समय तक जारी रहने से ही उसने आत्महत्या कर ली है।

इसे भी पढ़ें :

तेलंगाना कांग्रेस पार्टी का चलो राज भवन भंग, अनेक नेता गिरफ्तार

TSRTC Strike : कर्मचारियों ने किया तेरास जनप्रतिनिधियों के मकानों का घेराव

नरेश की आत्महत्या की खबर मिलने पर सर्वदलीय नेता और आरटीसी कर्मचारी बड़ी संख्या में अस्पताल पहुंच गए। उन्होंने नरेश की आत्महत्या नहीं बल्कि सरकार द्वारा की गई हत्या करार देते हुए सरकार से तुरंत मुद्दे पर चर्चा कराने और समस्या का समाधान करने की मांग की।