हैदराबाद : तेलंगाना राज्य सड़क परिवहन निगम (टीएसआरटीसी) कर्मचारी जेएसी के 'चलो टैंक बंड' को पुलिस आयुक्त अंजनी कुमार ने अनुमति देने से इंकार किया है। जेएसी ने शनिवार को (9 नवंबर) चलो टैंक बंड को एक और मिलियन मार्च की तरह आयोजित करने का फैसला लिया है। चलो टैंक बंड को राजनीतिक दल, छात्र संघठन और विपक्षी दलों ने समर्थन दिया है।

इसी के चलते पुलिस ने तेलंगाना में आरटीसी कर्मचारियों को पहले ही गिरफ्तार करना आरंभ कर दिया है। अब तक तेलंगाना में अनेक जगहों पर कर्मचारियों को गिरफ्तार किया गया है। आरटीसी जेएसी ने कर्मचारियों की गिरफ्तारी की निंदा की है। उन्होंने गिरफ्तार किये गये नेताओं को तुरंत रिहा किये जाने की मांग की है।

आपको बता दें कि आरटीसी की हड़ताल आज 35वें दिन भी जारी है। इसके चलते लोगों को अनेक प्रकार की मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है।

इसे भी पढ़ें:

TSRTC Strike : रैली में शामिल बस चालक की दिल का दौरा पड़ने से मौत

TSRTC Strike: हाईकोर्ट ने कहा-इतना झूठ बोलने वाले अधिकारियों को कभी नहीं देखा

चलो टैंक बंड होकर रहेगा

जेएसी के संयोजक अश्वत्थामा रेड्डी ने मीडिया से कहा कि कर्मचारियों के मकानों पर छापा मारकर गिरफ्तार किया जा रहा है। अनेक महिला कर्मचारियों को भी गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने चेतावनी दी है कि तेलंगाना सरकार चाहे कितनी भी अड़चने पैदा करे, चलो टैंक बंड आयोजित किया जाएगा। कर्मचारियों को किसी भी बात को लेकर डरने की आवश्यकता नहीं है।

इसे भी पढ़ें:

TSRTC Strike : बीजेपी ने किया बस भवन का घेराव, लक्ष्मण और अश्वत्थामा रेड्डी गिरफ्तार

TSRTC Strike : CM KCR ने एक बार फिर की हड़ताल की समीक्षा, इन मुद्दों पर लिया गया फैसला

उन्होंने सरकार से मांग की है कि गिरफ्तार किये गये कर्मचारियों को बिना शर्त रिहा किया जाये। साथ ही आह्वान किया कि आज रात आरटसी कर्मचारी हैदराबाद पहुंच जाये। दूसरी ओर आरटीसी जेएसी ने आज ओयू जेएसी के साथ होने वाली बैठक को स्थगित कर दिया है। आरटीसी कर्मचारियों की गिरफ्तारी के चलते बैठक स्थगित किया गया है।

सर्वदलीय बैठक

इसी क्रम में मुकदूम भवन में सर्वदलीय बैठक करने का फैसला लिया है। बैठक में कर्मचारियों की गिरफ्तारी और कल के चल टैंक बंड को सफल बनाने को लेकर विचार विमर्श किया गया। इस बैठक में टीजेएस के अध्यक्ष कोदंडराम, टीटीडीपी अध्यक्ष एल रमणा, सीपीआई सचिव चाडा वेंकट रेड्डी, सीपीआई राष्ट्रीय सचिव के नारायण और अन्य नेताओं ने भाग लिया।