हैदराबाद : राज्य में आरटीसी कर्मचारियों की हड़ताल के भविष्य पर सवालिया निशान बना हुआ है। इस क्रम में एक और कर्मचारी की दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई। भविष्य पर लग रहे सवालिया निशान को भांपते हुये मियापुर1 डिपो के ड्राइवर एरुकाला लक्ष्मय्या गौड़ की दिल का दौरा पड़ने से मौत हुई।

यह घटना काफी देरी से प्रकाश में आई। टीएसआरटीसी कर्मचारी के मौत के विरोध में कर्मचारियों ने डिपो के सामने धरना प्रदर्शन किया। मृतक नलगोंडा जिले के मर्रीगुडा का रहनेवाला था। आरटीसी कर्मचारियों की हड़ताल बुधवार को 12वें दिन जारी रही।

इसे भी पढ़ें :

दिल का दौरा पड़ने से पति की मौत, सता रहा था पत्नी की नौकरी का डर

TSRTC Strike: 11वें दिन भी हड़ताल जारी, ये नेता और कार्यकर्ता गिरफ्तार

आपको बता दें कि खम्मम बस डिपो के कर्मचारी श्रीनिवास रेड्डी ने आत्मदाह किया। राणी गंज बस डेपो के कंडक्टर सुरेंदर गौड़ ने फांसी लगा ली। हेचसीयू बस डिपो के कंडक्टर ने ब्लेड से हाथ की नसें काट ली। उसे अस्पताल में भर्ती कराने का प्रयास किया गया लेकिन उसने दम तोड़ दिया। इसके बावजूद तेरास सरकार ने समस्या के समाधान को लेकर कदम नहीं उठाया। इस पर उच्च न्यायालय ने निर्देश दिया कि सरकार और टीएसआरटीसी अपनी जिद छोड़ लोगों के हित पर अधिक ध्यान दे और हड़ताल खत्म करें।